मोटर नियंत्रण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मोटर नियंत्रण में बहुत सी चीजें आतीं हैं - मोटर को स्टार्ट करना, उसे वांछित वेग (एकसमान या अलग-अलग) पर चलाना, उसको तेजी से बन्द करना या रोकना, उसकी गति को उल्टा करना आदि। चूंकि बहुतायत मशीनों मोटरें ही चतीं हैं, इसलिये मोटरों की गति का नियंत्रण करने से उनके द्वारा किये गये कार्य पर नियंत्रण होता है।

मोटर नियंत्रण में साधारण परिवर्तनशील प्रतिरोध से लेकर जटिल डिजितल परिपथों तक का प्रयोग किया जाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]