मैलकम मार्शल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मैलकम मार्शल
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम मैलकम डेंज़िल मार्शल
जन्म 18 अप्रैल 1958
ब्रिजटाउन, बारबाडोस
मृत्यु 4 नवम्बर 1999(1999-11-04) (उम्र 41)
ब्रिजटाउन, बारबाडोस
उपनाम मैको
कद 5 फीट 10 इंच (1.78 मी.)
बल्लेबाजी की शैली दाएँ हाथ के बल्लेबाज
गेंदबाजी की शैली दाएं हाथ के तेज गेंदबाज
भूमिका गेंदबाज
अंतरराष्ट्रीय जानकारी
राष्ट्रीय
टेस्ट में पदार्पण (कैप 172) 15 दिसम्बर 1978 बनाम भारत
अंतिम टेस्ट 8 अगस्त 1991 बनाम इंग्लैंड
वनडे पदार्पण (कैप 33) 28 मई 1980 बनाम इंग्लैंड
अंतिम एक दिवसीय 8 मार्च 1992 v न्यूजीलैंड
घरेलू टीम की जानकारी
वर्ष टीम
1992–1996 नटाल
1995 स्कॉटलैंड
1979–1993 हैम्पशायर
1977–1991 बारबाडोस
1987 एमसीसी
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टेस्ट एक दिवसीय प्रथम श्रेणी लिस्ट ए
मैच 81 136 408 440
रन बनाये 1,810 955 11,004 3,795
औसत बल्लेबाजी 18.85 14.92 24.83 16.86
शतक/अर्धशतक 0/10 0/2 7/54 0/8
उच्च स्कोर 92 66 120* 77
गेंद किया 17,584 7,175 74,645 22,332
विकेट 376 157 1,651 521
औसत गेंदबाजी 20.94 26.96 19.10 23.71
एक पारी में ५ विकेट 22 0 85 4
मैच में १० विकेट 4 0 13 0
श्रेष्ठ गेंदबाजी 7/22 4/18 8/71 5/13
कैच/स्टम्प 25/– 15/– 145/– 68/–
स्रोत : CricketArchive, 11 जनवरी 2009

मैलकम मार्शल (18 अप्रैल 1958 - 4 नवंबर 1999, अंग्रेज़ी: Malcolm Marshall) ब्रिजटाउन, बारबाडोस से वेस्टइंडीज़ क्रिकेट टीम के खिलाड़ी थे जिन्हें क्रिकेट इतिहास के सबसे अच्छे तेज गेंदबाजों में से एक माना जाता है।[1] वह 1970-80 के दशक की अजेय वेस्टइंडीज टीम के तेज गेंदबाज थे। वह 80 के दशक के सबसे सफल गेंदबाज थे और उस अवधि में वेस्टइंडीज की सफलता के मुख्य बिंदु थे। मैलकम का काउंटी चैम्पियनशिप में हैम्पशायर की तरफ से भी सफल क्रिकेट करियर रहा।

क्रिकेट करियर[संपादित करें]

मैल्कम ने 1978-79 में भारत के खिलाफ अपनी पहली टेस्ट सीरिज में 3 मैच में मात्र 3 विकेट लिये थे। उसके बाद उन्हें 1980 में ही दोबारा खेलने का मौका मिला। वेस्टइंडीज टीम में जोएल गार्नर, एंडी रॉबर्ट्स, कॉलिन क्रॉफ्ट, माइकल होल्डिंग जैसे सफल गेंदबाज मौजूद थे। इस कारण उन्हें अनियमित रूप से खेलने का ही मौका मिलता था। 1982 तक उन्होंने 12 टेस्ट खेलकर 31.88 की औसत से 34 विकेट लिए थे। यह आँकड़े साधारण थे। 1982 में उन्होंने 22 मैचों की चैम्पियनशिप में हैम्पशायर के लिए 134 विकेट लिए। उसके बाद उन्हें 1983 के भारतीय टीम के वेस्टइंडीज दौरे पर टीम में चुन लिया गया। उन्होंने इस श्रृंखला में 21 विकेट लिये। फिर वेस्टइंडीज के भारत दौरे पर उन्होंने 5 टेस्ट में 33 विकेट लिये। वेस्टइंडीज ने टेस्ट श्रृंखला 3-0 से और वनडे 5-0 से जीती थी। फिर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू मैदानों पर उन्होंने 21 विकेट लिये और 1984 में इंग्लैंड में इंग्लैंड के विरुद्ध 24 विकेट लिये। वहाँ हेडिंग्ले में क्षेत्ररक्षण करते हुए उनके बाएँ हाथ का अंगूठा टूट गया था। वह फिर भी बल्लेबाजी करने आए और इतने समय तक टिके रहे कि लैरी गोम्स ने अपना शतक पूरा कर लिया। उन्होंने फिर गेंदबाजी करके 53 रन देकर 7 विकेट भी लिये। इसे उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में से एक के रूप में गिना जाता है।[2]

गार्नर और होल्डिंग के सन्यास लेने के बाद 1988 तक कोर्टनी वॉल्श और कर्टली एम्ब्रोस उनके अन्य महत्वपूर्ण गेंदबाज साथी बन चुके थे। इस कारण उनका कार्य भार उनके पूरे करियर में कम ही था।[3] फिर भी 1983 से 1991 की अवधि में उनके नाम 69 मैचों में 342 विकेट है, जो कि किसी भी गेंदबाज के मुक़ाबले सबसे ज्यादा है। इस अवधि में वेस्टइंडीज तेज गेंदबाजों द्वारा लिये गए विकटों में से उन्होंने 31.37 फीसदी विकेट स्वयं लिये।[4] 1982-83 से लेकर 1985-86 तक इन तीन सालों में वे सबसे अच्छे गेंदबाज थे। उस अवधि में उन्होंने लगातार सात श्रृंखलाओं में 21 या उससे अधिक विकेट लिए, जिसमें से अंतिम पाँच में उनकी गेंदबाज़ी औसत 20 से कम रही। जीते हुए टेस्ट मैचों में मैलकम की गेंदबाजी औसत सिर्फ मुथैया मुरलीधरन को छोड़कर सभी गेंदबाजों से कम है।[4]

कुल मिलाकर 1977/78 से 1995/96 तक मैलकम ने 408 प्रथम श्रेणी मैच खेले थे। जिसमें उन्होंने 19.10 की औसत से 1651 विकेट लिये। मैलकम हैम्पशायर काउंटी क्रिकेट क्लब की तरफ से 1979 से 1993 तक खेलते थे। उन्होंने काउंटी चैम्पियनशिप में 800 से अधिक विकेट लिये और हैम्पशायर को लिस्ट ए क्रिकेट की प्रतियोगिता बेन्सन और हैजेस कप को जीतने में भी मदद की।[5] 1978 से 1991 तक चले अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर के 81 टेस्ट मैचों में उन्होंने 20.94 की औसत से 376 विकेट लिये। 1998 में कोर्टनी वॉल्श ने जब तक मैलकम से अधिक विकेट नहीं लिये थे, तब तक वह वेस्टइंडीज के सबसे सफल गेंदबाज थे। मैलकम निचले क्रम के कुशल बल्लेबाज भी थे और उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 10 अर्ध शतक भी लगाए।[6] मैलकम एक दिवसीय क्रिकेट में कम सफल रहे। उन्होंने 136 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय खेले थे, जिसमें उन्होंने 26.96 की औसत से 157 विकेट लिये।[7]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Malcolm Marshall [मैल्कम मार्शल]" (अंग्रेज़ी में). द गार्डियन. 6 नवंबर 1999. https://www.theguardian.com/news/1999/nov/06/guardianobituaries.mikeselvey. अभिगमन तिथि: 28 अगस्त 2017. 
  2. "Obituary: Malcolm Marshall [मृत्युलेख: मैल्कम मार्शल]" (अंग्रेज़ी में). द इंडिपेंडेंट. 6 नवम्बर 1999. http://www.independent.co.uk/arts-entertainment/obituary-malcolm-marshall-1123699.html. अभिगमन तिथि: 28 अगस्त 2017. 
  3. सेलवे, माइक (19 जुलाई 2010). "The epitome of fast bowling [तेज गेंदबाजी का प्रतीक]" (अंग्रेजी में). ईएसपीएन क्रिकइन्फो. http://www.espncricinfo.com/magazine/content/story/467701.html. अभिगमन तिथि: 19 अगस्त 2017. 
  4. राजेश, एस (18 जुलाई 2010). "First among equals [समान में सबसे बढ़िया]" (अंग्रेजी में). ईएसपीएन क्रिकइन्फो. http://www.espncricinfo.com/magazine/content/story/467807.html. अभिगमन तिथि: 19 अगस्त 2017. 
  5. "Sport: Cricket legend Malcolm Marshall dies [खेल: क्रिकेट के दिग्गज मैलकम मार्शल की मौत]" (अंग्रेज़ी में). बीबीसी. 5 नवम्बर 1999. http://news.bbc.co.uk/1/hi/sport/cricket/505421.stm. अभिगमन तिथि: 28 अगस्त 2017. 
  6. "Malcolm Marshall [मैल्कम मार्शल]" (अंग्रेज़ी में). ब्रिटैनिका विश्वकोष. https://www.britannica.com/biography/Malcolm-Marshall. अभिगमन तिथि: 28 अगस्त 2017. 
  7. "मैलकम मार्शल" (अंग्रेज़ी में). ईएसपीएन क्रिकइन्फो. http://www.espncricinfo.com/westindies/content/player/52419.html. अभिगमन तिथि: 13 अगस्त 2017.