मैत्रेय परियोजना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मैत्रेय परियोजना के तहत प्रस्तावित मूर्ति और अन्य निर्माण

मैत्रेय परियोजना एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो वर्ष 1990 से सक्रिय है[1], यह परियोजना भारत तथा अन्य जगहों पर मैत्रेय बुद्ध की प्रतिमायें स्थापित करने के उद्देश्य से कार्यरत है। आरम्भिक योजनाओं के अनुसार इस परियोजना द्वारा कुशीनगर अथवा बोधगया में मैत्रेय बुद्ध की 500 फीट ऊँची प्रतिमा स्थापित की जानी थी। बाद में कुछ बदलाव किये गए और अब दोनों स्थानों पर कम ऊँचाई की मूर्तियाँ स्थापित करने का लक्ष्य है।

तिब्बती बौद्ध धर्म के गेलुग सम्प्रदाय द्वारा महायान की परम्पराओं को संरक्षित करने के उद्देश्य से बनाई गयी एक फाउंडेशन द्वारा इस परियोजना को आरम्भ किया गया था।

कुशीनगर में शिलान्यास[संपादित करें]

भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के उत्तरी-पूर्वी हिस्से में स्थित कुशीनगर नामक स्थान, जहाँ गौतम बुद्ध का महापरिनिर्वाण हुआ और जो एक प्रसिद्ध बौद्ध तीर्थ है, पर इस परियोजना के तहत विशाल प्रतिमा स्थापित करने के लक्ष्य से शिलान्यास किया जा चुका है। 13 दिसंबर 2013 को उत्तर प्रदेश सरकार ने इसके लिए लगभग 275 एकड़ (111 हे॰) ज़मीन परियोजना को हस्तांतरित करने की घोषणा की। यह भूमि वर्तमान परिनिर्वाण मंदिर, जहाँ बुद्ध को महापरिनिर्वाण हुआ माना जाता है, और रामभर स्तूप, जहाँ बुद्ध के अंतिम अवशेष स्थापित हैं, से कुछ ही दूरी पर है।

इसी दिन, तत्कालीन मुख्यमन्त्री अखिलेश यादव ने परियोजना की आधारशिला रखी।[2][3] हालाँकि, स्थल पर कार्य वर्तमान (2017) में अभी भी शुरू नहीं हो पाया है।[4]

वित्तीय पहलू[संपादित करें]

मैत्रेय प्रोजेक्ट इंटरनेशनल, कैलिफोर्निया इकाई, सकल सालाना आगम 2001–2008 (US$)[5]

परियोजना की रपटों के अनुसार 1990–2008 के दौरान लगाए अनुमानों के अनुसार US$110 लाख का निवेश किया जाना था।[6]

वहीं, बोधगया में मूर्ती स्थापित करने हेतु वित्त की व्यवस्था का ज़िम्मा निता इंग ने लिया था।[7]


आलोचनायें और विवाद[संपादित करें]

परियोजना के आरम्भ से ही इसकी काफी आलोचनाएँ की गयीं,[8][9][10][11][12][13] जिसमें राज्य सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण क़ानून के तहत अनिवार्य रूप से[1] तकरीबन 660 एकड़ (2.7 कि॰मी2) खेत, मकान और निजी जमीन को अधिग्रहीत किया जाना भी शामिल था; यह जमीन परियोजना को सरकार की और से पट्टे पर दी जानी थी ताकि यहाँ मूर्ति स्थापन के साथ ही, "कैथड्रल युक्त लैंडस्केप पार्क, विहार, दीक्षास्थल, गेस्ट हाउस, पुस्तकालय और "फ़ूड हाल"..." का निर्माण किया जा सके।[14] पीटर केज, परियोजना के डाइरेक्टर और सीईओ, ने कई बार इन आलोचनाओं का उत्तर दिया।[1][15][16]

स्थानीय लोगों द्वारा शांतिपूर्ण धरने के 1,262वें दिन, अगस्त 2010 में, उत्तर प्रदेश के कैबिनेट सचिव ने आश्वासन दिया कि सरकार इस परियोजना को सहायता उपलब्ध कराने पर पुनर्विचार करेगी।[17]

20 नवम्बर 2012 को अखबारों में यह खबर छपी कि मैत्रेय परियोजना वापस चली गयी, इससे स्थानीय किसानों के हर्षित होने की ख़बरें भी प्रकाशित की गयीं।[18]

अंततः अगस्त 2016 में इस परियोजना के लिए 200 एकड़ जमीन का पट्टा हुआ और परियोजना के स्थानीय चेयरमैन भंते कबीर के अनुसार प्रतिमा स्थापन के "...अलावा चैरिटेबुल अस्पताल, कॉलेज भी खोले जाएंगे। ये सेवाएं स्थानीय लोगों के लिए होंगी।" और उन्होंने यह भी बताया कि "...परियोजना का मुख्य लक्ष्य बुद्ध के उपदेशों को विश्व फलक पर विस्तृत करने के साथ कुशीनगर का समग्र विकास करना है।"[19]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. केज, पीटर (1 नवम्बर 2007). "मैत्रेय परियोजना अद्यतन, नवम्बर 2007". मैत्रेय प्रोजेक्ट इंटरनेशनल वेबसाइट (अंग्रेज़ी में). मैत्रेय प्रोजेक्ट इंटरनेशनल. अभिगमन तिथि 21 नवम्बर 2007.
  2. "Laying the Foundation Stone on Maitreya Project Land". FPMT. अभिगमन तिथि 29 दिसम्बर 2014.
  3. "Announcement Maitreya Project Kushinagar" (PDF). FPMT. अभिगमन तिथि 29 दिसम्बर 2014.
  4. http://www.chauthiduniya.com/2017/01/maitreya-project-in-kushinagar.html
  5. "Registry Search Feature". Registry of Charitable Trusts (RCT). Office of the Attorney General, State of California. अभिगमन तिथि 22 जुलाई 2010.
  6. "summary" (PDF). Maitreya Project website. Maitreya Project International. अभिगमन तिथि 24 जनवरी 2013.
  7. केज, पीटर. "Letter from Mr Peter Kedge" (अंग्रेज़ी में). मैत्रेय परियोजना. अभिगमन तिथि 01 अप्रैल 2017. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  8. Pepper, Daniel (10 सितंबर 2007). "Indian farmers oppose giant Buddha statue". The Christian Science Monitor (अंग्रेज़ी में). The First Church of Christ, Scientist.
  9. Qadir, Abdul (9 जनवरी 2003). "Heavy police deployment made for Kalchakra". The Times of India (अंग्रेज़ी में). Times Internet Limited. अभिगमन तिथि 4 मार्च 2008.
  10. "Contemplating the Navel". Dharma Life, issue 15 (अंग्रेज़ी में). Friends of the Western Buddhist Order. अभिगमन तिथि 4 मार्च 2008.
  11. Pepper, Daniel (20 सितंबर 2007). "Villagers fight plan for giant Buddha". The Washington Times. News World Communications, Inc. अभिगमन तिथि 27 अप्रैल 2008.
  12. Falcone, Jessica. "Bodhi Blues — A Year in India: Questioning The Maitreya Project: What would the Buddha do?". Wild River Review. Wild River Review. मूल से 11 फरवरी 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मार्च 2008.
  13. Falcone, Jessica. "Bodhi Blues — A Year in India: What would the Buddha Do? The Debate Continues..." Wild River Review. Wild River Review. मूल से फ़रवरी 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मार्च 2008.
  14. "X80F_Maitreya revised.pdf" (PDF). Aros Architects website. Aros Architects. अभिगमन तिथि 4 मार्च 2008.
  15. Kedge, Peter. "Maitreya Project, Latest Update, September 2007". Maitreya Project International website: Maitreya Project Update. Maitreya Project International I.O.M. अभिगमन तिथि 10 नवंबर 2007.
  16. Kedge, Peter (September 2009). "Maitreya Project Status & Fact Reference, September 2009". Maitreya Project International website (अंग्रेज़ी में). Maitreya Project International I.O.M. अभिगमन तिथि 26 सितंबर 2009.
  17. मंजुल, तरन्नुम (24 अगस्त 2010). "Farmers' protests may drive away Maitreya Buddha project to Bihar". दि इण्डियन एक्सप्रेस. दि इण्डियन एक्सप्रेस लिमिटेड. अभिगमन तिथि 4 जुलाई 2012.
  18. http://www.chauthiduniya.com/2017/01/maitreya-project-in-kushinagar.html
  19. http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/kushinagar/200-acre-alotted-for-maitreya-project

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]