मैत्रेय (महाभारत)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

मैत्रेय एक महर्षि थे जिनका उल्लेख महाभारत में आया है। मैत्रेय , मैत्र या मैत्रेय महर्षि गोत्र के ब्राह्मण उनके वंशज माने जाते हैं। पाण्डवों के वनवास में चले जाने के कुछ समय बाद, वह दुर्योधन को पांडवों का राज्य बहाल करने की सलाह देने के लिए हस्तिनापुर की राजसभा में आए थे। लेकिन दुर्योधन ने उनकी बात को अनसुना कर दिया। क्रोधित होकर, ऋषि ने उसे शाप दिया और कहा, "चौदह वर्ष बाद, तुम अपने सम्बन्धियों और प्रियजनों सहित पांडवों द्वारा युद्ध में नष्ट हो जाओगे। भीम गदा से तुम्हारी जाँघें तोड़कर तुम्हें यमलोक भेज देंगे।'' कुछ लोगों का मानना है कि इस ऋषि के श्राप ने कौरवों के विनाश में प्रमुख भूमिका निभाई।

भागवत पुराण में इस महर्षि का नाम कौशारव के रूप में है। कुरूक्षेत्र युद्ध के समय दुर्योधन द्वारा अपमानित होने के कारण विदुर ने राज्य छोड़ दिया था। वे मैत्रेय से मिले।[1] विदुर ने उनसे भिन्न-भिन्न प्रकार के आध्यात्मिक और दार्शनिक ज्ञान सीखे, जो मैत्रेय ने कृष्ण से प्राप्त किए थे। सभी यादवों की मृत्यु के बाद कृष्ण ने बदरी चले गये। उनके साथ उद्धव भी गये। बदरी जाते समय मार्ग में मैत्रेय उनसे मिले। नश्वर संसार छोड़ने से पहले कृष्ण ने उन दोनों को आध्यात्मिक ज्ञान दिया और निर्देश दिया कि जब वे विदुर से मिलें तो उन्हें भी यह ज्ञान दे दें। [2]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. विदुर का मैत्रेय के पास जाना
  2. Motilal Bansaridas Bhagavata Purana Book 1 Skandha III Chapter 5.