मेरी बेटी , मेरी पहचान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

"मेरी बेटी , मेरी पहचान" बालिका समृद्धि को लेकर झारखण्ड के जमशेदपुर क्षेत्र से आरम्भ किया गया एक अभियान है जो धीरे धीरे पूरे देश में चर्चा का विषय बना। झारखण्ड प्रशासनिक सेवा के अधिकारी संजय कुमार के द्वारा 02 अगस्त 2016 को आरम्भ इस अभियान के तहत सबसे पहले तिरिंग गांव के ग्रामीणों की मदद से बेटियों के नाम की नेम प्लेट घरों के दरवाजों पर लगाई गयीं ताकि गांव की बेटियों का मनोबल बढे। कालांतर में ऐसे ही कार्यक्रम देश के अन्य हिस्सों में भी इसी अभियान के नक़्शे कदम पर चलाये जा रहे हैं।