मुर्फ्य्स लॉ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुर्फ्य्स लॉ एक कहावत या चुटकुला है |

इतिहास[संपादित करें]

ब्रह्मांड के कथित प्रतिकूलता लंबे टिप्पणी का विषय रहा है, और अग्रग्रामीयो को मुर्फ्य्स लॉ के आधुनिक संस्करण को खोजना मुश्किल नही है | इस क्षेत्र में हाल ही में महत्वपूर्ण अनुसंधान अमेरिकी बोली सोसायटी के सदस्यों द्वारा आयोजित किया गया है। सोसायटी के सदस्य स्टीफन Goranson एक इंजीनियरिंग समाज का एक 1877 की बैठक में अल्फ्रेड होल्ट की एक रिपोर्ट में कानून का एक संस्करण है, जो अभी तक सामान्यीकृत नही हुआ था |

 गणितज्ञ ऑगस्टस डी मॉर्गन ने 23 जून 1866 को लिखा : "पहले प्रयोग पहले से ही सिद्धांत की एक सच्चाई को दिखाता है, अच्छी तरह से अभ्यास के द्वारा पुष्टि की है, कि कुछ भी हो सकता है अगर हम परीक्षणों के लिए पर्याप्त हैं।". अमेरिकी बोली सोसायटी सदस्य विधेयक मुलिंस ने जादू मंच के संदर्भ में एक बड़ा संस्करण खोज निकाला | ब्रिटिश मंच जादूगर नेविल मस्केल्य्न 1908 ने लिखा था:

         सभी के लिए यह एक सामान्य अनुभव है कि किसी भी ख़ास अवसर पर जो कुछ भी ग़लत हो सकता हैं , वह होगा | हम इस मामले की या निर्जीव चीजों की कुल भ्रष्टता के लिए द्वेष को यह विशेषता चाहिए कि क्या रोमांचक कारण जल्दी नहीं है, चिंता, या क्या नहीं, तथ्य यह है।


मुर्फ्य्स लॉ के समकालीन फार्म के रूप में वापस दूर 1952 में जॉन बोरी, जो इसे एक "प्राचीन पर्वतारोहण कहावत" के रूप में वर्णित द्वारा एक पर्वतारोहण पुस्तक के लिए एक शिलालेख के रूप में चला गया |

कुछ भी है कि संभवतः कर सकते हैं गलत जाना है, करता है.[1]

फ्रेड आर शापिरो, की कोटेशन के येल पुस्तक के संपादक, पता चला है कि 1952 में कहावत ऐनी रो द्वारा एक पुस्तक में "मुर्फ्य्स लॉ" कहा जाता था, एक अनाम भौतिक विज्ञानी के हवाले से:

उन्होंने बताया कि " मुर्फ्य्स लॉ थेर्मोद्य्नमिक्स का चौथा लॉ है" | 

मय 1951 मेंअन्ने रोए ने सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी के साथ एक इंतेर्विएव में बतय कि उन्हें एह्सास हुआ कि उनका काम, सेकोंद लॉ ऑफ़ थेर्मोद्य्नमिक्स या मुर्फ्य्स लॉ एक निष्ठुर कार्य है |वहा के अभिलेख ने उस व्यग्यनिक को पेहचाना होवर्द पर्सी "बोब" रोबेर्त्सोन (1903-1961) |रॉबर्टसन के कागजात कैलटेक अभिलेखागार में हैं; वहाँ एक पत्र में रॉबर्टसन रो एक साक्षात्कार 1949 के पहले तीन महीनों के भीतर प्रदान करता है |

नाम " मुर्फ्य्स लॉ " तुरंत सुरक्षित नहीं था | फरवरी 1951 में ली कोर्रेय द्वरा एक कहानी में आश्चर्यजनक विज्ञान कथा में उसी लॉ को " रैल्ल्य्स लॉ " ऐसा बताया | परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष लुईस स्ट्रास ने चिकागो दैलि में 12 फरवरि 1955 को बताया कि " मुझे आशा है कि यह स्ट्रॉस 'लॉ के रूप में जाना जाएगा |" अर्थुर ब्लोच ने उनके "मुर्फ्य्स लॉ , एंड अदर रीज़ोंस वाय थिंग्स गो व्रोंग" के पहले किताब में ज़ोर्गे इ. निकोल्स द्वारा मिलें पत्र का उल्लेख किया है जो जेत प्रोपलशन लेबोरेतोरी के गुणवत्ता आश्वासन प्रबंधक है | [2]


वास्तविकता में[संपादित करें]

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के रिचर्ड Dawkins के अनुसार, मुर्फ्य्स लॉ एक बकवास है क्योंकि उन्हें निर्जीव वस्तुओं की आवश्यकता होती है, उनकी खुद की इच्छाओं है, एक की अपनी इच्छाओं के अनुसार प्रतिक्रिया होती है | उन्होंने एक उधारन दिया | विमान हमेशा आकश में रहते है परन्तु उन पे तभी गौर किया जता है जब वह समस्या का कारण बन जाते है | अन्वेषक उनके पेहले से ही बने विचारो कि पुष्टि करने के लिए सबूत धूंधता है परन्तु वह एसे सबूत नही धूंधता जो उसके विचारो को विपरीत करते है |.[3]

मुर्फ्य्स लॉ के कई सन्दर्भ है जो थेर्मोद्य्नमिक्स के लॉ से समबंधित है | विशेष रूप से, मुर्फ्य्स लॉ अक्सर थेर्मोद्य्नमिक्स का दूसरा लॉ के फार्म के रूप में पेश किया जाता है, क्योंकि दोनों एक अधिक 

संगठित प्रपत्र की भविष्यवाणी करते है | अतनु चटर्जी औपचारिक रूप से गणितीय संदर्भ में मुर्फ्य्स लॉ को बताते हुए इस विचार की जांच की। चटर्जी ने पाया है कि मुर्फ्य्स लॉ को कम से कम कार्रवाई के सिद्धांत से गलत साबित किया जा सकता है |

एसोसिएशन के साथ मर्फी[संपादित करें]

के कवर का एक इतिहास है मर्फी कानून

लेखक निक टी स्पार्क द्वारा लिखित पुस्तक ' अ हिस्त्री ऑफ़ मुर्फ्य्स लॉ ' के अनुसार विभिन्न प्रतिभागियों द्वारा भिन्न के अनुसार यह असंभव हुआ कि किसने सबसे पहले मुर्फ्य्स लॉ ,यह गढ़ा किया | यह मुहवरा तब गढ़ा गया था जब मुर्फ्य के मुताबिक उनके उपकरण प्रदर्शन करने में नाकाम रहे और यह वर्तमान रूप में डाली गई थी, सम्मेलन प्रेस करने से पहले जो डॉ जॉन स्ताप्प, एक अमेरिकी द्वारा दिए गए वायु सेना के कर्नल और 1950 के दशक में फ्लाइट सर्जन द्वारा हुई थी | जब तक स्पार्क ने बात कि छाबीन की यह संघर्षों कि सूचना नही थी |

1948 से 1949 तक, स्ताप्प सेना एयर फील्ड पर अनुसंधान परियोजना MX981 अध्यक्षता में (जो बाद में नाम बदलकर एडवर्ड्स एयर फोर्स बेस) तेजी से मंदी के दौरान जी-बलों के लिए मानव सहिष्णुता परीक्षण किया था | परीक्षण एक रॉकेट स्लेज अंत में हाइड्रोलिक ब्रेक की एक श्रृंखला के साथ एक रेल ट्रैक पर मुहिम का इस्तेमाल किया। प्रारंभिक परीक्षणों में एक हुमनोइद क्रैश परीक्षण का इस्तमाल हुआ, लेकिन बाद में परीक्षण उस समय एक वायु सेना के कप्तान पर, Stapp द्वारा प्रदर्शन किया गया था | परीक्षण के दौरान, उपकरनो कि सतिक्ता मापने के संधर्भ में सवाल उठाएँ गए थे जो स्ताप्प अनुभाव कर रहे थे | एडवर्ड मर्फी इलेक्ट्रॉनिक तनाव बल उसकी तेजी से मंदी के द्वारा उन पर लगाए गए मापने के लिए Stapp के दोहन के निरोधक अकड़न से जुड़ी गेज का उपयोग कर प्रस्ताव रखा। मर्फी इसी तरह के अनुसंधान का समर्थन करने के लिए उच्च गति सेंट्रीफ्यूज का उपयोग कर जी बलों को उत्पन्न करने में लगे हुए थे | मर्फी के सहायक दोहन तार, और एक परीक्षण चिम्पंज़े का उपयोग कर चला गया था |

सेंसर एक शून्य पढ़ने प्रदान कर रहे थे; हालांकि, यह स्पष्ट हो गया था कि वे गलत तरीके से स्थापित किए गए थे, प्रत्येक संवेदक के साथ पीछे की ओर वायर्ड थी | यह वह समय था जब निराश मुर्फ्य ने अपनी घोषणा की | निक स्पार्क द्वारा किए गए एक साक्षात्कार में, जॉर्ज निकोल्स, एक और इंजीनियर जो मौजूद थे, ने कहा कि ने असफल परीक्षण के पीछे अपने सहायक को दोषी ठहराया और कहा," अगर उस आदमी को जलती करनी है तो वह करेगा | निकोल्स 'खाता है कि "मुर्फ्य्स लॉ" टीम के अन्य सदस्यों के बीच बातचीत के माध्यम से आया है | दूसरों को, एडवर्ड मर्फी के जीवित बेटा रॉबर्ट मर्फी सहित निकोल्स 'खाता इनकार करते हैं (जो हिल, दोनों स्पार्क द्वारा साक्षात्कार के द्वारा समर्थित है), और उन्होंने दावा किया कि वास्तव में मुर्फ्य्स लॉ एडवर्ड मर्फी के साथ आरंभ हुआ था | रॉबर्ट मर्फी के खाते के अनुसार, उनके पिता का बयान था, "अगर कोई काम एक से अधिक तरह से किया जा सकता है और अग्र वह सारे रास्ते आपदो में परिणाम होंगे , तो वह उसी तरह से काम करेंगे |"

इस मुहवरे को जनता का ध्यान एक संवाददाता सम्मेलन में मिला जिसमे स्ताप्प से पुछा गय था कि कैसे कोई रॉकेट स्लेज परीक्षण के दौरान घायल नही हुआ | स्त्तप्प ने कहा कि वह हमेशा मुर्फ्य्स लॉ को लेकर विचाराधीन थे और उन्होंने कहा कि परीक्षण करने से पहले सभी संभावनाओं को ध्यान में रखना चाहिए और उसके बाद कि उनपर कार्य करना चाहिए |इस प्रकार स्ताप्प के उपयोग और मर्फी की कथित उपयोग दृष्टिकोण और व्यवहार में बहुत अन्तर है | हिल और निकोल्स का मानना था कि मर्फी (ही कोई बड़े महत्व का एक ब्लिप द्वारा) डिवाइस के आरंभिक असफलता के लिए जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं थे |

व्यापक अनुसंधान के बावजूद, मुर्फ्य्स लॉ के रूप में कह के प्रलेखन का कोई निशान (ऊपर देखें) 1951 से पहले पाया नही गया है।अगले प्रशंसा पत्र 1955 तक नहीं मिला रहे हैं, जब विमानन यांत्रिकी बुलेटिन के मई-जून अंक लाइन शामिल "मर्फी की विधि: "अगर एक विमान का हिस्सा गलत तरीके से स्थापित किया जा सकता है, तो कोई ना कोई उसे उस तरीके से स्थापित करेगा," और 1962 में बुध अंतरिक्ष यात्रियों ने अमेरिकी नौसेना के प्रशिक्षण फिल्मों के लिए मुर्फ्य्स लॉ को जिम्मेदार ठहराया।.

अन्य रूपों पर मर्फी कानून[संपादित करें]

अपनी आरंभिक सार्वजनिक घोषणा से, मुर्फ्य्स लॉ जल्दी विभिन्न तकनीकी एयरोस्पेस इंजीनियरिंग से जुड़े संस्कृतियों में फैल गया।

लेखक आर्थर बलोच ने मुर्फ्य्स लॉ और उसके बदलाव से संधर्भित परिणामो से भरे अन्य किताबे संकलित किया है  [4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sack, John.
  2. "''Chicago Daily Tribune'', February 12, 1955, p. 5". Listserv.linguistlist.org. http://listserv.linguistlist.org/cgi-bin/wa?A2=ind0507B&L=ADS-L&P=R3975. अभिगमन तिथि: 2012-04-19. 
  3. Dawkins, pp. 220-222
  4. Bloch, Arthur (1977). Murphy's law and other reasons why things go wrong!. Methuen. ASIN B001P0CURK. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8431-0428-7.