मुदालियर कमीशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत सरकार ने २३ सितम्बर १९५२ को डॉ॰लक्ष्मणस्वामी मुदालियर की अध्यक्षता में "माध्यमिक शिक्षा आयोग" की स्थापना की उन्ही के नाम पर इसे मुदालियर कमीशन कहा गया।

माध्यमिक शिक्षा आयोग की सिफारिश- 1)4या 5 की प्राइमरी शिक्षा 2)सेकंडरी शिक्षा के दो भाग होना चाहिए माध्यमिक शिक्षा के ढाँचे में सुधार के लिए डॉ. लक्ष्मण स्वामी मुदालियर की अध्यक्षता में सन् 1952 में “माध्यमिक शिक्षा आयोग” की स्थापना की गयी.

२. पाठ्यचर्चा में विविधता लाने, एक मध्यवर्ती स्तर जोड़ने, त्रिस्तरीय स्नातक पाठ्यक्रम शुरू करने इत्यादि की सिफारिश की.

३. वस्तुनिष्ठ (MCQ) परीक्षण-पद्धति को अपनाया जाए.

४. संख्यात्मक अंक देने के बजाय सांकेतिक अंक दिया जाए.

५. उच्च तथा उच्चतर माध्यमिक स्तर की शिक्षा के पाठ्यक्रम में एक core subject रहे जो अनिवार्य रहे जैसे—गणित, सामान्य ज्ञान, कला, संगीत etc.