मुंगेर गंगा ब्रिज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
श्रीकृष्ण सेतु
Munger pool.jpg
श्रीकृष्ण सेतु
निर्देशांक25°23′54″N 86°27′27″E / 25.3984°N 86.4576°E / 25.3984; 86.4576निर्देशांक: 25°23′54″N 86°27′27″E / 25.3984°N 86.4576°E / 25.3984; 86.4576
ले जाता हैरेल-रोड
को पार करती हैगंगा
स्थानीयमुंगेर-बेगूसराय , मुंगेर-खगड़िया , साँचा:Jct/1साँचा:Jct/city, साँचा:Jct/1साँचा:Jct/city
आधिकारिक नामश्रीकृष्ण सेतु
विशेषता
डिजाइनवारेन ट्रस
सामग्रीस्टील
कुल लंबाई3,692 मीटर (12,113 फीट)
चौड़ाई12 मीटर (39 फीट)
सबसे लम्बा स्पैन125 मीटर (410 फीट)
स्पैन संख्या29
इतिहास
निर्माण शुरू2002
शुरू हुआ12 March 2016 (rail part)
मुंगेर गंगा ब्रिज रेल रूट (लाल)

श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल, भारत के बिहार राज्य के मुंगेर में, गंगा के पार एक रेल-सह-सड़क पुल है। [1] यह पुल मुंगेर जिला मुंगेर-जमालपुर जुड़वां शहरों को उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों से जोड़ता है। श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल बिहार में गंगा पर तीसरा ऐसा पुल हे जिसमे रेल-सह-सड़क पुल है।

3.692 किलोमीटर लंबे (2.294 मील) इस पुल की लागत 9,300 करोड़ रु है। जो मोकामा के पास राजेंद्र सेतु से 55 किमी और भागलपुर के विक्रमशिला सेतु से 68 किमी की दूरी पर स्थित है। यह पुल गंगा के दक्षिणी किनारे पर NH 33 और गंगा के उत्तरी भाग पर NH 31 को जोड़ेगा। श्रीकृष्ण सेतु पूर्वी रेलवे के साहिबगंज लूप लाइन पर जमालपुर जंक्शन और रतनपुर रेलवे स्टेशन को जोड़ता है। यह पुल के उत्तर छोर पर सबदलपुर जंक्शन को साहेबपुर कमाल जंक्शन और खगड़िया जंक्शन के जो की पूर्व मध्य रेलवे के बरौनी-कटिहार सेक्शन पर स्थित है। [2] यह पुल बेगूसराय और खगड़िया जिलों को संभागीय मुख्यालय मुंगेर शहर से भी जोड़ता है।

2002 में एक वीडियो कॉन्फ्रेंस सिस्टम के माध्यम से, तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा इस पुल पर निर्माण कार्य का उद्घाटन किया गया था। [3] ब्रिज को औपचारिक रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 12 मार्च 2016 को मालगाड़ियों के लिए खोला गया था। [4] अंतत: 11 अप्रैल 2016 को रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा द्वारा बेगूसराय-जमालपुर डेमू ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर इसे पैसेंजर ट्रेनों के लिए खोला गया। अपने उद्घाटन भाषण में MOS श्री मनोज सिन्हा ने घोषणा की कि इस पुल का नाम "श्री कृष्ण सेतु" "श्रीकृष्ण सेतु", महान स्वतंत्रता सेनानी, और आधुनिक बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री और वास्तुकार "बिहार केशरी" डॉ श्रीकृष्ण सिन्हा "श्री बाबू" के सम्मान में रखा गया। [5] इस पुल के ऊपर की सड़क तैयार हो गई है लेकिन आने वाली सड़क के जमीन अधिग्रहण के अभाव में तैयार नहीं है।

रेलवे स्टेशन[संपादित करें]

जमालपुर-खगड़िया और बेगूसराय लाइन

स्टेशन कोड स्टेशन नाम दूरी (किमी)
जमालपुर बाईपास (भागलपुर-मुंगेर मार्ग)
RPUR रतनपुर 6
On JMP-KGG line
JMP जमालपुर 0
MGR मोंघियर 7
SBDP सबदलपुर 14
UMNR उमेशनगर 19
KGG खगड़िया 26
सबदलपुर से अलग लाइन
SKJ साहिबपुर कमाल 19
BGS बेगूसराय 46


सेवाएं[संपादित करें]

इस पुल पर वर्तमान में 08 जोड़ी ट्रेनें चलती हैं

  • जमालपुर - तिलरथ - जमालपुर डेमू (73451/52)
  • जमालपुर - तिलरथ - जमालपुर डेमू (73453/54)
  • जमालपुर - खगड़िया - जमालपुर डेमू (73461/62)
  • जमालपुर - खगड़िया - जमालपुर डेमू (73464/63)
  • जमालपुर सहरसा पैसेंजर स्पेशल (05521/22)
  • 15625/26 अगरतला देवगढ़ अगरतला साप्ताहिक एक्सप्रेस

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "10 months on, no express train crosses Munger rail bridge". Times of India. 17 जनवरी 2017. मूल से 7 जनवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 दिसंबर 2017.
  2. "Trains in India". PPPNOW.com. archive.is. मूल से पुरालेखित 12 सितम्बर 2012. अभिगमन तिथि 31 दिसंबर 2017.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  3. Kashi Prasad (27 दिसंबर 2002). "PM opens work on Munger rail-cum-road bridge project". Times of India. TNN. मूल से 8 सितम्बर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 दिसंबर 2017.
  4. "PM Modi in Bihar, inaugurates three railway projects". 3 दिसंबर 2016. मूल से 23 एप्रिल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 दिसंबर 2017.
  5. "Minister flags off passenger train between Begusarai and Jamalpur". Times of India. TNN. 11 एप्रिल 2016. मूल से 21 नवम्बर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 दिसंबर 2017.