मलिक मेराज ख़ालिद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मिराज खालिद से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
चित्र:Malik Meraj Khalid.jpg
मलिक मेराज ख़ालिद

मालिक मेराज ख़ालिद, एक पाकिस्तानी राजनीतिज्ञ और अंतरिम दौर में कार्यवाहक प्रधानमंत्री थे। तथा वे मई १९७२ से नवंबर १९७३ तक पाकिस्तान के प्रांत पंजाब के मुख्यमंत्री भी थे। वे पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के सदस्य थे।


रहने की स्थिति[संपादित करें]

मालिक मेराज ख़ालिद 20 सितंबर, 1916 को लाहौर के पास, जिले अपराध के एक गांव कोट राधा किशन में पैदा होए। उन्होंने कानून का अध्ययन कीया। मेराज ख़ालिद पेशे के आधार पर वकील थे और लाहौर के उपनगरीय क्षेत्र बुर्किना एक छोटे शिकार परिवार से संबंध रखते थे। उन्होंने अपनी व्यावहारिक राजनीति की शुरूआत 60 के दशक में अय्यूब खान के दौर में मुस्लिम लीग किया और बाद में 'अंतरात्मा संकट' शीर्षक से एक पर्चे लिखकर अय्यूब खान सरकार की आलोचना की जिसे बहुत ख्याति मिली।

जब जुल्फिकार अली भुट्टो ने अय्यूब खान सरकार से अलग हो गए तो वह लाहौर देश मेराज खालिद की बनाई हुई एक संगठन ाीफरवाीशीन पीपुल्स सालीडीरेटी मंच पहली बार विपक्ष के नेता के रूप में जनता के सामने आए।

मेराज ख़ालिद पीपुल्स पार्टी में शामिल होने वाले शुरुआती लोगों में शामिल थे और पीपुल्स पार्टी के टिकट पर लाहौर से 1970 के चुनाव में सदस्य नेशनल असेंबली चयन हुए।

इस समय के संविधान के अनुसार एक सदस्य नेशनल असेंबली को 6 महीने के लिए किसी राज्य के मुख्यमंत्री भी चुना जा सकता था। इस प्रावधान के तहत वह 6 महीने पंजाब के मुख्यमंत्री रहे और उनका तत्कालीन शक्तिशाली राज्यपाल गुलाम मुस्तफा खार विकल्प पर दबाव रहा।

बाद में उन्हें जुल्फिकार अली भुट्टो की कैबिनेट में मंत्री कृषि बना दिया गया और 1977 के विवादित चुनाव के बाद अल्पकालिक तक रहने वाली एनए में वह स्पीकर चुने गए।

मेराज ख़ालिद आंदोलन रखरखाव लोकतंत्र में बहुत गतिशील रहे और उन्होंने कई बार जेल काटी.जब बेनजीर भुट्टो 1986 में देश वापस आएं तो मेराज ख़ालिद गिनती पार्टी के 'अंकलों' में पड़ी जिन्हें बे बेनज़ीर भुट्टो ने धीरे धीरे पार्टी के मामलों से दूर कर दिया। 1988 के चुनाव के बाद निर्वाचित पीपुल्स पार्टी सरकार में बेनजीर भुट्टो प्रधानमंत्री बनें और उन्होंने एक बार फिर मेराज ख़ालिद को नेशनल असेंबली के स्पीकर बनाया।

जब राष्ट्रपति गुलाम इशाक खान और सेना प्रमुख जनरल मिर्जा असलम बेग ने बेनजीर भुट्टो सरकार को विदा करने का फैसला किया तो वह दर पर्दा देश मेराज ख़ालिद को बेनजीर भुट्टो के खिलाफ अविश्वास लाकर प्रधानमंत्री बनने के लिए आमंत्रित करते रहे जो उन्होंने स्वीकार नहीं किया।

हालांकि देश मेराज खालिद के बेनजीर भुट्टो मतभेद तीव्रता अधिकार हो गया था और 1993 के चुनाव में पीपुल्स पार्टी के प्रमुख ने उन्हें लाहौर उनकी पारंपरिक सीट पर चुनाव लड़ने के लिए पार्टी का टिकट नहीं दिया।

इसी दौरान देश मेराज ख़ालिद पीपुल्स पार्टी की राजनीति से दूर हो गए और उन्होंने ब्रदरहुड नामक संगठन बनाकर लाहौर के ग्रामीण क्षेत्र में स्कूल खोलने और उन्हें चलाने पर ध्यान केंद्रित कर ली। वह अंतरराष्ट्रीय इस्लामी विश्वविद्यालय इस्लामाबाद के रेक्टर नियुक्त हो गए।

जब राष्ट्रपति फारूक अहमद खान लेग़ारी ने प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की दूसरी सरकार को 1993 में आग किया तो मेराज ख़ालिद को कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया। उन्होंने 3 महीने की निर्धारित अवधि में चुनाव करवाके सत्ता नवाज के सुपुर्द कर दिया।

उन्होंने कभी बा आचार रूप में पीपुल्स पार्टी छोड़ने की घोषणा नहीं की लेकिन वह 10 साल से इससे उदासीन रहे।

मेराज ख़ालिद एक साधारण इंसान थे जिन्हें अक्सर लाहौर के मॉल में घूमते हुए और उद्यान जिन्ना में सैर करते हुए देखा जा सकता था। जब वह कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने वीआईपी कल्चर के तहत मिलने वाली सब्सिडी समाप्त करने की कोशिश की और एयरपोर्ट पर आम यात्रियों के रास्ते का उपयोग करना शुरू किया।

मृत्यु[संपादित करें]

देश मझरज खालिद 13 जून, 2003 को लाहौर, पाकिस्तान में निधन हो गया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. क्रॉनिकलस् ऑफ़ पाकिस्तान
  2. मइराज ख़ालिद का चरित्र
  3. निधन
  4. "पंजाब के मुख्यमंत्रियों की सूची". pakinformation.com.