मालवा भील कॉर्प्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मालवा भील कॉर्प्स की स्थापना 1838 में हुई थी।

मालवा भील कॉर्प्स के जवान साहसिक प्रवत्ति के थे। अंग्रेजो ने भारत देश को गुलाम बनाए रखा था। अंग्रेज भारतीयों पर अत्याचार कर रहे थे, मालवा भील कॉर्प्स के सिर्फ 20 जवानों ने अंग्रजों को एक युद्ध में धूल चटा दी थी, अंग्रेजो को युद्ध छोड़ भागना पड़ा था। [1]

संदर्भ[संपादित करें]

  • मध्यप्रदेश के रणबाकुरे

[2]

  1. {{https://www.tandfonline.com › full Subalterns and the State in the Longue Durée: Notes from “The Rebellious ...}}
  2. साँचा:Cite https://books.google.co.in/books?id