मानसिक विकलांगता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मानसिक विकलांगता (एमआर) एक व्यापक विकृति है, जो 18 वर्ष की आयु से पहले दो या दो से अधिक रूपांतरित व्यवहारों में और महत्वपूर्ण रूप से संज्ञानात्मक प्रक्रिया के विकार और न्यूनता के रूप में दिखता है। ऐतिहासिक रूप में इसे बौद्धिक क्षमता (आईक्यू) के 70 के भीतर होने के रूप में परिभाषित किया जाता है।[1] कभी इसे लगभग पूरी तरह अनुभूति पर केंद्रित माना जाता था, पर अब इसकी परिभाषा में मानसिक क्रियाकलाप से संबंधित एक घटक और अपने वातावरण में व्यक्ति के कार्यात्मक कौशल दोनों को शामिल किया जाता है।

संकेत तथा लक्षण[संपादित करें]

मानसिक विकलांगता वाले बच्चे अन्य बच्चों की तुलना में बाद में बैठना, घुटनों के बल चलना और पैरों पर चलना या बोलना सीख पाते हैं। मानसिक विकलांगता वाले वयस्कों और बच्चों दोनों में निम्नलिखित विशेषताएं देखी जा सकती हैं:

  • मौखिक भाषा के विकास में देरी
  • स्मृति कौशल की न्यूनता
  • सामाजिक नियमों को सीखने में कठिनाई
  • समस्या का हल करने के कौशल में कठिनाई
  • स्वयं-सहायता या खुद अपनी देखभाल करने की क्षमता जैसे कौशल के अनुकूल व्यवहार के विकास में देरी.
  • सामाजिक निषेध का अभाव

संज्ञानात्मक कामकाज की सीमाएं मानसिक विकलांगता वाले बच्चे में एक सामान्य बच्चे की तुलना में धीमी गति से सीखने और विकसित होने का कारण बनती हैं। ये बच्चे भाषा सीखने, सामाजिक कौशल विकसित करने और अपने निजी जरूरतों जैसे कपड़ा पहनने या खाने जैसी जरूरतों का ख्याल रखने में ज्यादा समय ले सकते हैं। वे सीखने में ज्यादा समय ले सकते हैं और पुनरावृत्ति की जरूरत होती है और उनके सीखने के स्तर दक्षता की जरूरत पड़ सकती है। फिर भी, वस्तुत: लगभग हर बच्चा सीखने, विकसित होने और समुदाय में हिस्सा लेने वाला एक सदस्य बन जाता है।

बचपन के प्रारंभ में हल्की मानसिक विकलांगता (आईक्यू 50-69) समझी नहीं जा सकती और जब तक कि बच्चे स्कूल नहीं जाते, इसकी पहचान नहीं हो सकती. यहां तक कि जब खराब शैक्षणिक प्रदर्शन की पहचान कर ली जाती हो तो भी सीखने की क्षमता कम होने के आधार पर हल्की मानसिक विकलांगता और भावनात्मक/व्यवहार संबंधी गड़बड़ियों का आकलन करने के लिए विशेषज्ञता की जरूरत पड़ सकती है। हल्की मानसिक विकलांगता वाले व्यक्ति जब वयस्क होते हैं तो उनमें से बहुत स्वतंत्र रूप से रहने और लाभकारी रोजगार करने में सक्षम हो सकते हैं।

औसत मानसिक विकलांगता (आईक्यू 35-49) लगभग जीवन के पहले साल के भीतर स्पष्ट होती है। औसत मानसिक विकलांगता वाले बच्चों को विद्यालय, घर और समुदाय में काफी समर्थन की आवश्यकता होती है, ताकि वे उन जगहों पर पूरी तरह से भागीदारी कर सकें. वयस्क के रूप में वे एक सहायक सामूहिक घर में अपने मां-बाप के साथ रह सकते हैं या महत्वपूर्ण सहायक सेवाओं के जरिये उनकी मदद की जा सकती हैं, जैसे उनका वित्तीय प्रबंधन.

अधिक गंभीर मानसिक विकलांगता वाले व्यक्ति (उसके या उसकी) को पूरे जीवन काल तक और अधिक गहन समर्थन और निगरानी की आवश्यकता होगी.

कारण[संपादित करें]

डाउन सिंड्रोम, घातक अल्कोहल सिंड्रोम और फर्जाइल एक्स सिंड्रोमये तीन सबसे आम जन्मजात कारण होते हैं। हालांकि, डॉक्टरों को कई अन्य कारण भी मिले हैं। सबसे आम हैं:

  • आनुवंशिक स्थितियां. विकलांगता कभी कभी माता पिता से विरासत में मिले असामान्य जीन की वजह से, त्रुटिपूर्ण जीन गठबंधन या अन्य कारणों से भी होती है। सबसे अधिक प्रचलित आनुवंशिक स्थितियों में डाउन सिंड्रोम क्लिनफेल्टर्स सिंड्रोम,फर्जाइल एक्स सिंड्रोम, न्यूरोफाइब्रोमेटोटिस, जन्मजात हाइपोथायरायडिज्म, विलियम्स सिंड्रोम, फनिलकेटोन्यूरिया (पीकेयू) और प्रैडरर-विली सिंड्रोमशामिल हैं। अन्य आनुवंशिक स्थितियों में शामिल है: फेलेन मैकडर्मिड सिंड्रोम (22क्यू 13 डीईएल), मोवेट-विल्सन सिंड्रोम, आनुवांशिक सिलियोपैथी[2] और सिडेरियस टाइप एक्स से जुड़ी मानसिक विकलांगता (OMIM 300263), जो पीएचएफ8 जीन में परिवर्तन के कारण होती है।OMIM 300560[3][4] कुछ दुर्लभ मामलों में, एक्स और वाई गुणसूत्रों में असामान्यताएं विकलांगता का कारण बनती हैं। 48 XXXX और 49 XXXX, XXXXX सिंड्रोम पूरी दुनिया में छोटी संख्या में लड़कियों को प्रभावित करता है, जबकि लड़कों को 47 XYY,49 XXXXY या 49 XYYYY प्रभावित करता है।
  • गर्भावस्था के दौरान समस्याएं. जब भ्रूण का विकास ठीक तरह से नहीं होता है तो मानसिक विकलांगता आ सकती है। उदाहरण के लिए, भ्रूण कोशिकाओं के बढ़ने के समय जिस तरीके से उनका विभाजन होता है, उसमें समस्या हो सकती है। जो औरत शराब पीती है (देखें घातक अल्कोहल सिंड्रोम) या गर्भावस्था के दौरान रूबेला (एक वायरल रोग, जिसमें चेचक जैसे दाने निकलते हैं) जैसे रोग से संक्रमित हो जाती है तो उसके बच्चे को मानसिक विकलांगता हो सकती है।
  • जन्म के समय समस्याएं. प्रसव पीड़ा और जन्म के समय अगर बच्चे को लेकर समस्या हो, जैसे उसे पर्याप्त आक्सीजन नहीं मिले तो मस्तिष्क में खराबी के कारण उसमें (बच्चा या बच्ची) विकास की खामी हो सकती है।
  • कुछ खास तरह के रोग या विषाक्तता. अगर चिकित्सा देखरेख में देरी हुई या अपर्याप्त चिकित्सा हुई तो काली खांसी, खसरा और दिमागी बुखार के कारण दिमागी विकलांगता पैदा हो सकती है। सीसा और पारे जैसी विषाक्तता से ग्रसित होने से दिमाग की क्षमता कम हो सकती है।
  • आयोडीन की कमी, जो दुनिया भर में लगभग 20 लाख लोगों को प्रभावित कर रहा है, विकासशील देशों में निवारणीय मानसिक विकलांगता का बड़ा कारण बना हुआ है, जहां आयोडीन की कमी एक महामारी बन चुकी है। आयोडीन की कमी भी गण्डमाला का कारण बनती है, जिसमें थाइरॉयड की ग्रंथि बढ़ जाती है। पूर्ण रूप में क्रटिनिज्म (थायरॉयड के कारण पैदा रोग) जिसे आयोडीन की ज्यादा कमी से पैदा हुई विकलांगता कहा जाता है, से ज्यादा आम है बुद्धि का थोड़ा नुकसान. दुनिया के कुछ क्षेत्र इसकी प्राकृतिक कमी और सरकारी निष्क्रियता के कारण गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं। भारत में सबसे अधिक से 500 मिलियन लोग आयोडीन की कमी, 54 लाख लोग गंडमाला और 20 लाख लोग थायरॉयड से संबंधित रोग से पीड़ित हैं। आयोडीन की कमी से जूझ रहे अन्य प्रभावित देशों में चीन और कजाखस्तान ने व्यापक रूप से आयोडीन से संबंधित कार्यक्रम चलाये, पर 2006 तक रूस में इस तरह का कोई कार्यक्रम नहीं चलाया गया।[5]
  • दुनिया के अकालग्रस्त हिस्सों, जैसे इथियोपिया में कुपोषण दिमाग के विकास में कमी का एक आम कारण है।[6]
  • धनुषाकार पुलिका की अनुपस्थिति.[7]

निदान[संपादित करें]

डायग्नोस्टिक एंड स्टेटिकल मैन्युअल ऑफ मेंटल डिजआर्डर्स (डीएसएम IV)[8] के नवीनतम अंक के मुताबिक मानसिक विकलांगता की पहचान के लिए तीन तरह के मानदंडों को अपनाया जाना चाहिए: आईक्यू 70 से कम हो, दो या दो से अधिक क्षेत्रों में अनुकूलन व्यवहार (अनुकूलन व्यवहार की दर मापने वाले स्केल के मुताबिक, जैसे संचार, स्वयं सहायता कौशल, पारस्परिक कौशल और अधिक) और वह सबूत, जिससे 18 वर्ष की उम्र से पहने सीमाएं स्पष्ट हो जायें.

इसका औपचारिक रूप से बुद्धि और अनुकूलन व्यवहार के पेशेवर आकलन से पता लगाया जा सकता है।

बुद्धि 70 से नीचे[संपादित करें]

अंग्रेजी भाषा का पहला बुद्धि परीक्षण द टरमैन-बिनेट फ्रांस के बिनेट द्वारा उपलब्धि की क्षमता को मापने के लिए एक उपकरण के रूप में विकसित किया गया। टर्मन ने इस परीक्षण का रूपांतरण किया और इसे मौखिक भाषा, शब्दावली, संख्यात्मक तर्क, स्मृति, मोटर की रफ्तार और विश्लेषण की क्षमता पर आधारित बौद्धिक क्षमता को मापने के एक साधन के रूप में स्थापित किया। इस तरीके से बुद्धि परीक्षण की संख्या 100 है, जिसमें एक मानक विचलन 15 (wais / Wisc-IV) या 16 (बिनेट-स्टैनफोर्ड) है। उप औसत बुद्धि के मौजूद होने पर विचार तब किया जाता है, जब दो मानक विचलनों का व्यक्तिगत स्कोर परीक्षण के अंक से कम हों. संज्ञानात्मक क्षमता (अवसाद, चिंता आदि) के अलावा दूसरे कारणों से भी बुद्धि परीक्षण अंक कम हो सकता है। मूल्यांकन करने वाले के लिए यह महत्वपूर्ण है कि बुद्धि परीक्षण की माप "औसत से काफी नीचे" तय करने से पहले वह व्यक्ति को अलग करे.

मानक बुद्धि परीक्षण अंकों पर आधारित निम्नलिखित श्रेणियां अमेरिकन एसोसियेशन ऑफ मेडिकन रिटार्डेशन, डायग्नोस्टिक एंड स्टेटिकल मैन्युअल ऑफ मेंटल डिजआडर्र्स-IV-टीआर और इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिजिजेज-10 पर आधारित है :[तथ्य वांछित]

वर्ग बुद्धि लब्धि
गहरी मानसिक विकलांगता 20 के नीचे
गंभीर मानसिक विकलांगता 20-34
मध्यम मानसिक विकलांगता 35-49
हल्की मानसिक विकलांगता 50-69
औसत बौद्धिक कार्य 70-84

चूंकि रोग की पहचान केवल बुद्धि परीक्षण अंक पर ही आधारित नहीं है, इसलिए एक व्यक्ति के अनुकूल कार्य करने के लक्षणों को भी ध्यान में रखना चाहिए और रोग की पहचान कठोर रवैये के साथ नहीं होना चाहिए। इसमें बौद्धिक परीक्षण अंक, अनुकूली व्यवहार की दर मापने के स्केल के आधार पर निर्धारित अनुकूलित कार्य अंक शामिल होता है, जो व्यक्ति के किसी परिचित द्वारा प्रदान की गईं क्षमताओं के विवरण पर आधा‍रित होता है। यह मूल्यांकन परीक्षक की राय पर भी आधारित होता है, जो उसने सीधे उस व्यक्ति (पुरुष या महिला) की समझ, बातचीत के माध्यम या पसंद वाली भाषा के जरिये बात कर हासिल की है।

अनुकूली व्यवहार की दो या अधिक क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सीमाएं[संपादित करें]

अनुकूलनशील व्यवहार या अनुकूली कार्य स्वतंत्र रूप से रहने (या उम्र के न्यूनतम स्वीकार्य स्तर पर) के कौशल को दर्शाता है। अनुकूलित व्यवहार के आकलन के लिए पेशेवर व्यक्ति समान उम्र के अन्य बच्चों की कार्यात्मक क्षमता की तुलना करते हैं। अनुकूलित व्यवहार के आकलन के लिए पेशेवर संरचनात्मक साक्षात्कार का उपयोग करते हैं, जिसके माध्यम से वे व्यक्ति के समुदाय में व्यवहार के बारे में उन लोगों से व्यवस्थित जानकारी हासिल करते हैं, जो उसे अच्छी तरह जानते हैं। अनुकूली व्यवहार को मापने के लिए कई स्केल हैं और किसी के अनुकूल व्यवहार की गुणवत्ता का सटीक मूल्यांकन के सटीक आकलन के लिए नैदानिक निर्णय की आवश्यकता होती है। अनुकूली व्यवहार के लिए कुछ कौशल का होना महत्वपूर्ण है : जैसे:

  • दैनिक जीवनयापन का कौशल, जैसे कपड़े पहनना, बाथरूम का उपयोग और खुद खाना;
  • बातचीत का कौशल, जैसे, जो कहा गया उसे उसने समझा और उसके अनुरूप जवाब देने में सक्षम होना,
  • साथियों, परिवार के सदस्यों, दंपतियों, वयस्कों व अन्य के साथ सामाजिक कौशल,

इस बात के सबूत हैं कि सीमाएं बचपन में ही स्पष्ट हो जाती हैं।[संपादित करें]

इस तीसरी स्थिति का उपयोग अल्जाइमर रोग या मस्तिष्क की क्षति के साथ गहरा आघात जैसे उन्माद की स्थितियों से अलग करने के लिए किया जाता है।

देख-रेख[संपादित करें]

ज्यादातर परिभाषाओं के मुताबिक मानसिक विकलांगता बीमारी के बजाय सही तौर पर विकलांगता मानी जाती है। एमआर (मानसिक विकलांगता) मानसिक बीमारी के कई रूपों जैसे स्कीजोफ्रेनिया या अवसाद से अलग किया जा सकता है। वर्तमान में एक स्था‍पित विकलांगता का कोई "इलाज" नहीं है, हालांकि उचित समर्थन और शिक्षण के साथ ज्यादातर व्यक्ति कई बातें सीख सकते हैं।

पूरी दुनिया में हजारों एजेंसियां हैं जो विकासमूलक विकलांगताओं वाले लोगों के लिए सहायता प्रदान करती हैं। उनमें सरकार द्वारा चलाई जाने वाली, लाभ के लिए और बिना लाभ की निजी एजेंसियां शामिल हैं। एक एजेंसी में बहुत सारे विभाग शामिल हो सकते हैं, जिनमें पर्याप्त कर्मचारियों वाले आवासीय घर, दिन के पुनर्वास कार्यक्रम, जिसमें अनुमानित रूप से स्कूल, कार्यशालाएं हो सकती हैं, जिसमें विकलांग लोगों को रोजगार मिल सकता है, वैसे कार्यक्रम, जिनके ज‍िरये विकासात्मक विकलांग लोगों की मदद के लिए समुदाय में काम मिल सकता हो, वैसे लोगों द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम जिनेके अपने अपार्टमेंट हैं और उसके माध्यम से विकासात्मक विकलांग लोगों की मदद कर सकते हों, वैसे कार्यक्रम, जिनसे उनके बच्चों की परवरिश में मदद की जा सकती हो और इसके अलावा बहुत कुछ हो सकता है। इसमें भी कई विकासात्मक विकलांग बच्चों के माता पिता के लिए कई एजेंसियां और कार्यक्रम होते हैं।

इसके अलावा, कुछ विशेष कार्यक्रम हैं, जिसमें विकासात्मक विकलांग लोग बुनियादी जीवन कौशल सीखने के लिए भाग ले सकते हैं। इन "लक्ष्यों" को पूरी तरह कामयाब होने में काफी समय लग सकता है, लेकिन अंतिम लक्ष्य स्वतंत्रता है। यह स्वतंत्रता दांत साफ करने से लेकर स्वतंत्र रूप से रहने तक कुछ भी हो सकती है। विकासात्मक विकलांग लोग अपने पूरे जीवनकाल तक सीखना जारी रख सकते हैं और यहां तक कि जीवन के आखिरी चरणों में अपने परिवारों, देखरेख करने वालों, चिकित्सकों और इन लोगों के सभी प्रयासों में समन्वय लाने वालों की मदद से नये कौशल सीख सकते हैं।

यद्यपि मानसिक विकलांगता के लिए कोई विशेष चिकित्सा नहीं है, फिर भी विकासात्मक विकलांगों में चिकित्सा संबंधी जटिलताएं होती हैं और वे कई दवाएँ ले सकते हैं। उदाहरण के लिए विकासात्मक देरी वाले मंद बच्चों को एंटी-साइकोटिक्स या मनोदशा को स्थिर करने वाली दवाएं दी जा सकती हैं, ताकि व्यवहार को सामान्य रखा जा सके. मानसिक विकलांगता वाले लोगों में बेंजोडाएजेपिन के प्रयोग जैसी नशीली दवाओं के प्रयोग के बाद निगरानी और सतर्कता की जरूरत होती है, क्योंकि आम तौर पर इसके पार्श्व प्रभाव होते है, जिसे अक्सर व्यवहार संबंधी और मानसिक समस्या के रूप में गलत पहचान कर ली जाती है।[9]

इतिहास[संपादित करें]

कई पारंपरिक अर्थों में लंबा दिमागी दौरा दिमागी खामी के विविध स्तरों की ओर संकेत करता है, पर यह यूफेमिज्म ट्रेडमिल (पांव चक्की) व्यंजना (कठोर बात को भी मधुरता से कहना) का विषय है। आम प्रयोग में वे दुरुपयोग के साधारण रूप हैं। उनकी मनोरोग की तकनीकी परिभाषा अब अप्रचलित है और उसका केवल विशुद्ध ऐतिहासिक महत्व ही है। उन्हें पुराने कागजात, जैसे किताबें, शैक्षणिक कागज़ात और जनगणना फार्म का भी सामना करना पड़ता है। (उदाहरण के लिए 1901 की ब्रिटिश जनगणना में एक कॉलम का शीर्षक था अल्पमति और कमजोर दिमाग वाला).

मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कुछ पेशेवरों ने इन शब्दों के उपयोग को हतोत्साहित करने के प्रयास किये हैं। फिर भी इनका प्रयोग बना हुआ है। नीचे दिए गए शब्दों के अलावा, संक्षिप्त नाम (रिटार्ड) मंदबुद्धि या (टार्ड) अभी भी अपमान के रूप में एक सामान्य प्रयोग में है। 2003 में बीबीसी की ओर से कराये गये एक सर्वेक्षण में रिटार्ड शब्द को स्पैस्टिक (अमेरिका में इसे आक्रामक नहीं माना जाता[10] और मोंग (आपत्तिजनक हरकतें करने वाला व्यक्ति) शब्दों की तुलना में विकलांगता सूचक शब्द को ज्यादा आक्रामक होने का दर्जा दिया गया।[11]

  • क्रेटिन (थायरॉयड संबंधी जन्मजात विकलांगता) सबसे पुराने और क्रिश्चियन के लिए फ्रांसीसी देसी शब्द के लिए प्रयोग किया जाता है।[12] इसका निहितार्थ यह था कि उल्लेखनीय बौद्धिक या विकासात्मक विकलांगता वाले व्यक्ति भी "मानव" हैं (या "अब भी ईसाई") और उनके साथ बुनियादी मानवीय गरिमा के साथ सलूक किया जाना चाहिए। इस तरह की हालत वाले व्यक्ति पाप करने के भी अयोग्य माने जाते हैं, इसलिए इन्हें "मसीह की तरह" माना गया है। 20 वीं सदी के मध्य तक इस शब्द का उपयोग वैज्ञानिक रूप से नहीं किया जाता था और आम तौर पर अपशब्द के रूप में माना गया : विशेष रूप से, 1964 में बेकेट नाम की फिल्म में राजा हेनरी द्वितीय अपने बेटे व वारिस को "क्रेटिन" कहकर पुकारा. "क्रेटिनज्म" शब्द का जन्मजात हाइपोथायरायडिज्म के अर्थ वाले एक अप्रचलित शब्द के रूप में उपयोग किया गया, जिसमें कुछ हद तक मानसिक विकलांगता होती है।
  • मंदबुद्धि का लंबा इतिहास रहा है, यह ज्यादातर पागलपन के साथ जुड़ा है। मंदबुद्धि और पागलपन के बीच अंतर मूलतः इनकी शुरुआत के समय से आधार पर परिभाषित किया गया था। मंदबुद्धि का प्रयोग वैसे व्यक्ति के लिए किया जाता था, ‍िजनके जीवन के प्रारंभिक काल में ही मानसिक कामकाज में खामी दिखने लगती है, जबकि पागलपन शब्द का उपयोग उन व्यक्तियों के लिए किया जाता है, जिनमें वयस्क होने के बाद मानसिक कमियां विकसित होती हैं। 1890 के दशक के दौरान, मंदबुद्धि शब्द का प्रयोग उनके लिए किया जाता था, जो मानसिक कमियों के साथ पैदा हुए थे। 1912 तक मंदबुद्धि का वर्गीकरण "बेवकूफ, हीन बुद्धि और कमजोर दिमाग" वाले व्यक्तियों के लिए किया जाता था और यह पागलपन वाली से अलग था, जो बाद के जीवनकाल में दिखता है।[13]
  • बेवकूफ बौद्धिक विकलांगता के सबसे ज्यादा स्तर के लिए इंगित किया जाता था, जहां मानसिक उम्र दो साल या कम की होती है और व्यक्ति सामान्य शारीरिक खतरों के खिलाफ खुद की सुरक्षा नहीं कर सकते. इस शब्द ने धीरे-धीरे गहन मानसिक विकलांगता की जगह ले ली.
  • हीनबुद्धि का संकेत एक बौद्धिक विकलांगता की ओर है, जो मूर्खता की तुलना में कम तीव्र है और कोई जरूरी नहीं कि यह वंशानुगत हो। अब यह आम तौर पर दो श्रेणियों में उप-विभाजित है : गंभीर मानसिक विकलांगता और सीमित मानसिक विकलांगता .
  • हेनरी एच. गोडार्ड के प्रयासों से 1910 में अमेरिकन एसोसिएशन फॉर द स्टडी ऑफ द फीबल माइंडेड द्वारा मोरोन (मूर्ख) शब्द को परिभाषित किया गया था और यह शब्द उन वयस्क व्यक्ति के लिए कहा गया, जिसकी मानसिक उम्र आठ से बारह वर्ष के बीच हो। इस स्थिति को अब हल्की मानसिक विकलांगता कहा जा रहा है। इन शब्दों की वैकल्पिक परिभाषाएं प्रयोग किये गये बुद्धि परीक्षणों पर आधारित हैं। ब्रिटेन में 1911 से 1959-1960 तक इस समूह को "कमजोर दिमाग" के रूप में संबोधित किया गया।
  • मोंगोंजिज्म एक मेडिकल शब्द था, जिसे डाउन सिंड्रोम वाले लोगों की पहचान करने के लिए इस्तेमाल किया गया। कुछ स्पष्ट कारणों से मंगोलियाई पीपुल्स रिपब्लिक ने चिकित्सक समुदाय से अनुरोध किया है कि मानसिक विकलांगता के अर्थ में इस शब्द का उपयोग बंद किया जाये. 1960 के दशक में उसके अनुरोध को चिकित्सक समुदाय ने तब मान लिया, जब विश्व स्वास्थ्य संगठन सहमत हुआ कि चिकित्सक समुदाय में इस शब्द का इस्‍तेमाल नहीं किया जाये.[13]
  • विशेष शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षा देने योग्य ("शिक्षा ग्रहण करने के काबिल मानसिक विकलांग व्यक्ति") शब्द का प्रयोग उन एमआर छात्रों के लिए किया जाता है, जिनके बुद्धि परीक्षण अंक लगभग 50-75 के बीच है और प्राथमिक स्तर में ही थेड़ी देर से शैक्षिक प्रगति कर सकते हैं। प्रशिक्षण देने योग्य (या प्रशिक्षण ग्रहण करने के काबिल मानसिक विकलांग व्यक्ति") शब्द वैसे छात्रों के संदर्भित है, जिनके बुद्धि परीक्षण अंक 50 से कम हैं, लेकिन जो अभी भी आश्रय व्यवस्था, जैसे एक सामूहिक घर में व्यक्तिगत स्वच्छता व अन्य जीवन कौशल सीखने के लिए सक्षम हैं। कई क्षेत्रों में ये शब्द "गंभीर" और "सीमित" मानसिक विकलांगता के रूप में प्रतिस्थापित किये गये हैं। जबकि नाम में भले ही बदलाव किया जाये, व्यवहार में अर्थ मोटे तौर पर वही रहता है।
  • रिटार्डेड लैटिन शब्द "रिटार्डेयर" से आया है, जिसका मतलब है "धीमी गति से, देरी से, पीछे की ओर या बाधा". यह शब्द 1426 में "तथ्य या क्रिया, जो परिचालन या समय को घीमा कर देता है।" के रूप में दर्ज किया जाता है। मानसिक रूप से विकलांगता के संबंध में रिटार्डेड शब्द का पहला रिकॉर्ड 1895 में दर्ज किया गया। विकलांगता शब्द का प्रयोग बेवकूफ, मूर्ख और हीनबुद्धि जैसे शब्दों की जगह इस्तेमाल के लिए किया गया था, क्योंकि यह एक अपमानजनक शब्द नहीं था। हालांकि 1960 तक इस शब्द में आंशिक रूप से अपमानजनक अर्थ भी आ गया।[13] "मानसिक विकलांगता" संज्ञा खास तौर पर अपमानजनक अर्थ में देखी गयी 2010 से विशेष ओलंपिक, बेस्ट बडीज और 100 से अधिक अन्य संगठन दैनिक बातचीत में "आर शब्द"(एन शब्द जैसा) का प्रयोग खत्म करने में मदद का प्रयास कर रहे हैं।[14][15]

मानसिक विकलांगता के लिए प्रयुक्त इन कई शब्दों के से जुड़े शायद नकारात्मक संकेतार्थ हालत के बारे में समाज के रवैये को प्रतिबिंबित करते हैं। समाज के तत्वों के बीच प्रतिस्पर्धी इच्छाएं दिखती हैं और कुछ तटस्थ चिकित्सा शब्द चाहते हैं तो कुछ दूसरों को अपमानित करने के हथियार के रूप में इसे इस्तेमाल करते हैं।[13]

आज "विकलांग" शब्द धीरे-धीरे "विशेष" या "चुनौतीग्रस्त" जैसे नए शब्दों द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। "विकासात्मक देरी" शब्द तेजी से मानसिक विकलांगता वाले व्यक्तियों के रखवालों व माता-पिता के बीच लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है। "देरी" शब्द का प्रयोग कई लोगों द्वारा "विकलांगता" के लिए प्रयोग किया जा रहा है, क्योंकि पहले वाला शब्द मुख्य अयोग्यता को संक्षिप्त करता है, जो मानसिक विकलांगता को पहले स्थान पर रखता है। देरी का मतलब बताया जाता है कि एक व्यक्ति विकलांगता वाले व्यक्ति की तुलना में अपनी क्षमताओं से पीछे चल रहा है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

साल-दर-साल उपयोग बदलते रहे है और यह हर देश में भिन्न-भिन्न है, जिसे पुरानी पुस्तकों और दस्तावेजों को देखते समय ध्यान में रखने की जरूरत है। उदाहरण के लिए, कुछ संदर्भों में "मानसिक विकलांगता" में पूरे क्षेत्र को शामिल किया गया है, लेकिन पहले जिसे अर्थ को लागू किया गया था, अब वह हल्के एमआर समूह का अर्थ देता है। "कमजोर दिमाग" के लिए ब्रिटेन में हल्के एमआर का प्रयोग किया जाता है और कभी अमेरिका में यह पूरे क्षेत्र के लिए लागू होता था। "वर्तमान एमआर बॉर्डर लाइन," को परिभाषित नहीं किया गया है, लेकिन यह शब्द उनके लिए प्रयुक्त किया जा सकता है, जिनका आईक्यू स्तर 70 के भीतर है। अमेरिका के सार्वजनिक शिक्षा प्रणाली में मानसिक विकलांगता के आधार पर 70 से 85 आईक्यू वाले लोगों को विशेष विचार का पात्र माना जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

शब्दावली में परिवर्तन के साथ और पुराने शब्दों की स्वीकार्यता में नीचे की ओर रुख के साथ, सभी प्रकार की संस्थाओं को बार बार अपना नाम बदलना पड़ा है। इसने स्‍्कूलों अस्पतालों, सोसाइटियों, सरकारी विभागों और शैक्षणिक पत्रिकाओं के नामों को प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, माइंडलैंड इंस्टीच्यूट ऑफ मेंटल सबनॉर्मेलिटी का नाम ब्रिटिश इंस्टीच्यूट ऑफ मेंटल हैंडीकैप हुआ और अब इसका नाम ब्रिटिश इंस्टीच्यूट ऑफ लर्निंग डिजेबिलिटी हो गया है। इस घटना का संबंध मानसिक स्वास्थ्य और मोटर अक्षमता से है और यह संवेदी विकलांगता के छोटे स्तर के रूप में देखा जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

समाज और संस्कृति[संपादित करें]

विकासात्मक देरी वाले लोगों के प्रति इतिहास दयालु नहीं रहा है। पूरे इतिहास में विकासात्मक देरी वाले लोगों को निर्णय लेने और विकास के लिए उनकी क्षमता को अयोग्य और अक्षम करार किया जाता रहा है। यूरोप में आत्मज्ञान के प्रसार तक देखभाल और आश्रय परिवारों व चर्च (धार्मिक मठों और अन्य धार्मिक समुदायों में) द्वारा प्रदान किया गया था, जिनमें भोजन, घर व कपड़े जैसी बुनियादी आवश्यकताओं के प्रावधानों पर ही ध्यान केंद्रित किया जाता था। रुढिबद्ध धारणा के मुताबिक कम बुद्धिवाला गंवार और संभावित रूप से नुकसानदेह प्रकृति वाले लोग (मिरगी रोग से ग्रस्त राक्षसी प्रकृति वाले) एक समय सामाजिक व्यवहार में प्रमुख थे। पुनर्जागरण के दौरान समुदायों के लोग नावों पर उन्ही लोगों को भेजते थे, जो विकासात्मक देरी से प्रभावित थे। वे इन्हें मूर्खों के जहाज कहते थे और वे दूसरे बंदरगाह दिखा देते थे, ताकि ये किसी दूसरे समुदाय में चले जायें.

बीसवीं सदी के शुरू में युजनिक्स (आबादी को नियंत्रित करने वाले) आंदोलन पूरी दुनिया में लोकप्रिय बन गया। इसकी वजह से ज्यादातर विकसित देशों में बलात् नसबंदी और शादी के निषेध के लिए मजबूर करने की प्रवृत्ति दिखी और बाद में हिटलर ने यहूदियों के नरसंहार के दौरान मानसिक रूप से विकलांग लोगों की सामूहिक हत्या को तार्किक बताया. युजनिक्स आंदोलन बाद में गंभीरता रूप से त्रुटिपूर्ण हो गया और मानवाधिकारों का उल्लंघन होने लगा. इस तरह 20 वीं सदी के मध्य तक जबरन नसबंदी और शादी से निषेध का अभ्यास ज्यादातर विकसित दुनिया में बंद हो गया।

18 वीं और 19 वीं शताब्दियों में व्यक्तिवाद के आंदोलन और औद्योगिक क्रांति से पैदा हुए अवसरों के चलते मानसिक चिकित्सालयों के मॉडल पर आवास और देखभाल करने की प्रवृ‍त्ति दिखी. लोगों को उनके परिवारों से हटाकर (आम तौर पर बचपन में) बड़े संस्थानों में रखा जाने लगा, (3000 लोगों तक, कुछ संस्थानों में इससे भी ज्यादा लोगों को रखा गया, जैसे 1960 के दशक में पेंसिल्वेनिया राज्य के फिलाडेल्फिया सरकारी अस्पताल में 7,000 लोगों को रखा गया।) जिनमें से कई उसमें रहने वालों के श्रम की बदौलत आत्मनिर्भर थे। इनमें से कुछ संस्थानों में बहुत बुनियादी स्तर की शिक्षा (जैसे रंगों में अंतर, अक्ष्रों और अंकों की पहचान) दी जाती थी, लेकिन ज्यादातर का ध्यान केवल बुनियादी जरूरतों के प्रावधान पर ही केंद्रित रहा. इन संस्थानों की हालत काफी विविधता लिए हुए रही, लेकिन जो सहायता प्रदान की जाती थी, वह गैर-व्यक्तिवादी व विपथगामी व्यवहार लिए हुए थी और आर्थिक उत्पादकता के निम्न स्तर के कारण इन्हें समाज के लिए एक बोझ के रूप में माना गया। मादक दवाओं के अत्यधिक प्रयोग और सहायता की सामूहिक पद्धतियां (जैसे चिड़ियों को दाना चुगाना या पशुओं को चराना) अपनाई गईं और विकलांगता का चिकित्सकीय मॉडल बरकरार रहा. सेवाएं प्रदाता की सुविधा के हिसाब से प्रदान की जाती थीं, न कि व्यक्ति की मानवीय जरूरतों पर आधारित थीं।

प्रचलित दृष्टिकोण की अनदेखी करते हुए 1952 में नागरिकों ने विकासात्मक विकलांगों की सेवा को बड़े संगठनात्मक रूप से प्रमुखता देने का सिलसिला शुरू किया। उनके प्रारंभिक प्रयासों में विशेष शिक्षा प्रदान करने वाले शिक्षकों के लिए कार्यशालाएं आयोजित करना और विकलांग बच्चों के लिए दिवस शिविर आयोजित करना शामिल था, यह सब उस समय हुआ, जब इस तरह के प्रशिक्षण कार्यशालाओं और कार्यक्रमों का अस्तित्व नहीं था।[16] विकासात्मक विकलांग लोगों के अलगाव पर शिक्षाविदों और नीति निर्माताओं ने तब तक व्यापक रूप से सवाल नहीं उठाया, जब तक 1969 में वोल्फ वोल्फेंसबर्गर के बीजगर्भित कार्य "द ऑरिजिन एंड नेचर ऑफ आवर इंस्टीच्यूटनल मॉडेल्स"[17] का प्रकाशन हुआ। इसमें कुछ ऐसे विचारों को लिया गया, जिन्हें 100 साल पहले एसजी होव ने प्रस्तावित किया था। इस पुस्तक में कहा गया है कि विकलांग लोगों को समाज बेकार, उप मानव और दान के बोझ के रूप में मानता है और इसका परिणाम यह होता है कि लोग इन्हें "विसामान्य" भूमिका में पाते हैं। वोल्फेंसबर्गर ने तर्क दिया कि इस अमानवीकरण और इससे पैदा हुए अलग संस्थाओं ने उन संभावित उत्पादक योगदानों की उपेक्षा की जो ये लोग समाज को दे सकते हैं। उन्होंने नीति और व्यवहार में बदलाव पर जोर दिया, ताकि "विकलांगों" की मानवीय जरूरतों को मान्यता प्राप्त हो सके और बाकी जनसंख्या जितने ही बुनियादी मानव अधिकार प्रदान किये जा सकें.

इस पुस्तक के प्रकाशन को विकलांगता के इन प्रकारों के संबंध में विकलांगता के सामाजिक मॉडल को व्यापक रूप से ग्रहण करने के प्रति पहला कदम माना जा सकता है और अलगाव की सरकारी रणनीतियों के लिए यह प्रेरक तत्व रहा. सरकार के खिलाफ सफल मुकदमों और मानवाधिकारों तथा आत्म-वकालत के प्रति बढ़ती जागरूकता ने भी इस प्रक्रिया में योगदान किया है, जिनकी वजह से 1980 में अमेरिका में सिविल राइट्स ऑफ इंस्टीच्यूटशनाइज्ड पर्सन्स एक्ट को पारित किया जा सका.

1960 के दशक से अब तक ज्यादातर राज्यों ने अलग संस्थाओं के उन्मूलन की दिशा में कदम उठाया है। वोल्फेंसबर्गर और गुन्नूर व रोजमेरी डाइबाड[18] सहित अन्य लोगों के कार्यों से सरकारी संस्थानों के डरावने हालातों के घोटालानुमा खुलासों ने जनाक्रोश पैदा किया, जिससे सेवाएं प्रदान करने में और ज्यादा सामुदा‍यिक पद्धति की ओर बदलाव का रुख हुआ।[19] 1970 के दशक के मध्य तक, ज्यादातर सरकारें अ-संस्थानीकरण करने के लिए प्रतिबद्ध दिखीं और सामान्यीकरण के सिद्धांतों की तरह आम समुदाय में लोगों के घुमने-फिरने की छूट देने की तैयारी शुरू की। ज्यादातर देशों में 1990 के दशक के आखिर तक यह काम अनिवार्य रूप से पूरा कर लिया गया, हालांकि इस बात पर बहस होती रही कि मैसाचुसेट्स सहित कुछ राज्यों मे मौजूद संस्थानों को बंद किया जायें या नहीं.[20]

यह तर्क दिया जा सकता है कि हमें अभी भी इस तरह के विकलांग लोगों को समाज के पूर्ण नागरिक के रूप में देखने के लिए बहुत लंबा रास्ता तय करना है। व्यक्ति केन्द्रित योजना और व्यक्ति केन्द्रित दृष्टिकोण के विकास को उन पद्धतियों के रूप में देखा जाता है, जिनमें सामाजिक अवमूल्यन वाले लोगों को ठप्पा लगाने और उन्हें अलग-थलग रखने का काम जारी रहता है, जैसे विकासात्मक विकलांगता के ठप्पे वाले व्यक्ति को एक ऐसे व्यक्ति पर ध्यान केंद्रित करने को प्रोत्साहित किया जाता है, जिसके पास आवश्यक जरूरत को पूरा करने की क्षमता और कुछ देने की योग्यता है।

वैकल्पिक शब्द[संपादित करें]

"मानसिक विकलांगता" शब्द एक नैदानिक शब्द है, जो मानसिक कामकाज के अतार्किक श्रेणियों के समूह की ओर संकेत करता है, जैसे "मूर्ख" "हीनबुद्धि" और "बेवकूफ," जिसे प्रारंभिक बुद्धि परीक्षण के जरिये तय किया जाता है और जिसने आम बातचीत में अपमानजनक अवधारणा ग्रहण कर ली. "रिटार्डेड" या "रिटार्ड" शब्दों को अपमान के तौर पर प्रयोग करने के कारण "मानसिक विकलांगता" शब्द का अर्थ निंदात्मक और लज्जाजनक अवधारणा वाला हो गया। इसे मंगलभाषी, जैसे "मेंटली चैलेंज्ड" या "इंटेलेक्चुअल डिजेबिलिटी" के तौर प्रतिस्था‍पित किया जा सकता है। जबकि "विकासात्मक विकलांगता" को अन्य विकारों में शामिल किया जा सकता है। (नीचे देखें), "विकासात्मक विकलांगता" और "विकासात्मक देरी" (18 वर्ष की उम्र के अंतर्गत) आम तौर पर "मानसिक विकलांगता" से अधिक स्वीकार्य शब्द माने जाते है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

संयुक्त राज्य अमेरिका
  • उत्तरी अमेरिका में मानसिक विकलांगता को एक विकासात्मक विकार की एक व्यापक अवधारणा में शामिल किया जाता है, जिसमें विकासात्मक अवधि (जन्म से 18 वर्ष की उम्र तक) में मिरगी, अटिज्म (स्व-लीनता), मस्तिष्क पक्षाघात व अन्य विकारों को भी शामिल किया जाता है। चूंकि सेवा के प्रावधान विकलांगता विकास के पदनाम से बंधा है, इसलिए इसका प्रयोग कई माता पिता, प्रत्यक्ष सहायता पेशेवर और चिकित्सक करते हैं। हालांकि, संयुक्त राज्य अमेरिका में स्कूल पर आधारित व्यवस्था में अधिक विशिष्ट शब्द के रूप में मानसिक विकलांगता का अभी भी आमतौर पर इस्तेमाल किया जाता है और यह विकलांगता की 13 श्रेणियों में से है, जिनके तहत बच्चों की पब्लिक कानून 108-446 के तहत विशेष शिक्षा सेवाओं के लिए पहचान की जाती है।
  • बौद्धिक अक्षमता वाक्यांश का औसत से काफी नीचे संज्ञानात्मक क्षमता वाले लोगों के पया्रय के रूप में इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है।[21] इन शब्दों का कभी-कभी विशेष, सीमित अयोग्यता से आम बौद्धिक सीमाओं को अलग करने के साधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और साथ-साथ यह संकेत करने के लिए कि यह एक भावनात्मक या मानसिक विकलांगता नहीं है। बौद्धिक विकलांगता का प्रयोग दर्दनाक दिमागी चोट या सीसे की विषाक्तता या अल्जाइमर रोग जैसी पागलपन की हालत का वर्णन करने के लिए किया जा सकता है। यह डाउन सिंड्रोम जैसे जन्मजात विकारों के लिए विशिष्ट तौर पर प्रयुक्त नहीं होता.

अमेरिकन एसोसिएशन ऑन मेंटल रिटार्डेशन 2006 तक मानसिक विकलांगता शब्द का प्रयोग करता रहा.[22] जून 2006 में इसके सदस्यों ने इसका नाम बदलकर "अमेरिकन एसोसिएशन ऑन इंटेलेक्चुअल एंड डेवलपमेंट ‍डजेबिलिटिज" करने के लिए मतदान किया और एएआईडी या एएडीडी नाम रखने के विकल्पों को खारिज कर दिया। दोहरा नाम रखने के पीछे तर्क यह था कि कई सदस्यों ने व्यापक विकासात्मक विकारों वाले लोगों के साथ काम किया था, जिनमें से ज्यादातर को मानसिक विकलांगता नहीं थी।[23]

युनाइटेड किंगडम

ब्रिटेन में "मानसिक विकलांग" एक आम चिकित्सकीय शब्द बन गया और इसने स्कॉटलैंड में "दिमागी उप-सामान्यता" तथा इंग्लैंड और वेल्स में "मानसिक कमी" शब्द की जगह ली. 1995 से 1997 तक ब्रिटेन के स्वास्थ्य विभाग के सचिव रहे स्टीफन डॉरेल ने एनएचएस के पदनाम को बदलकर "सीखने की अयोग्यता" कर दिया। नया शब्द अभी तक व्यापक रूप से समझा नहीं जा सका है और अक्सर इसका प्रयोग स्कूल के काम को प्रभावित करने वाले (अमेरिकी प्रयोग) के रूप में किया जाता है, जो ब्रिटेन में "सीखने में कठिनाई" के रूप में जाना जाता है। ब्रिटिश सामाजिक कार्यकर्ता "सीखने में कठिनाई" का उपयोग मानसिक विकलांग और डिस्लेक्सिया (शब्दों और प्रतीकों को समझने में कठिनाई), डिसकैलकुलिया या डिसपाराक्सिया (अंकगणित के हल में कठिनाई‍) दोनों के संदर्भ में करते हैं।[24] शिक्षा में "सीखने की कठिनाइयों का प्रयोग व्यापक स्थितियों में किया जाता है :"सीखने की विशिष्ठ कठिनाइयों" को डिस्लेक्सिया, डिसकैलकुलिया या डिसपाराक्सिया (अंकगणित के हल में कठिनाई‍) कहा जा सकता है, जबकि "सीखने की औसत कठिनाइयां", "सीखने की गंभीर कठिनाइयां" और "सीखने की विशिष्ठ कठिनाइयां" स्थितियां अधिक महत्वपूर्ण हानि के लिए प्रयोग की जाती हैं।[25][26]

1983 और 2008 के बीच इंग्लैंड और वेल्स में मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1983 को "मानसिक हानि" और "गंभीर मानसिक हानि" को "एक रुके हुए या अपूर्ण मस्तिष्क विकास के रूप में परिभाषित किया गया, जिसमें बुद्धि और सामाजिक कामकाज की उल्लेखनीय/गहन कमी" है और संबद्ध व्यक्ति असामान्य रूप से आक्रामक व्यवहार और गंभीर रूप से गैर-जिम्मेदार आचरण करता हो। "[27] इसमें व्यवहार भी शामिल किया गया, फिर भी ये आवश्यक रूप से स्थायी स्थितियां नहीं थीं : उनकी परिभाषा इसलिए दी गई कि उन्हें अस्पताल या अभिभावक के संरक्षण रखने के लिए अधिकृत किया जा सके. नवंबर 2008 में मानसिक कमजोरी शब्द अधिनियम से हटा दिया गया, लेकिन हिरासत में रखने का आधार बना रहा. हालांकि, अंग्रेजी लिखित कानून अन्यत्र "दिमागी कमजोरी" का प्रयोग कम अच्छी तरह से परिभाषित तरीके से करता है, जैसे उन्हें करों में छूट दी जाती है, जिसका अर्थ है कि उस मामने में व्यवहार संबंधी समस्याओं के बिना मानसिक विकलांगता है।

यूनाइटेड किंगडम में बीबीसी द्वारा कराये गये एक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकला कि "रिटार्ड" विकलांगता से संबंधित सबसे आक्रामक शब्द था।[28] इसके विपरीत सिलेब्रिटी बिग ब्रदर कार्यक्रम में एक प्रतियोगी ने लाइव प्रसारण के दौरान इस मुहावरे का इस्तेमाल किया कि " वाकिंग लाइक ए रिटार्ड (एक मंदबुद्धि की तरह चलना)" तो लोगों और चैरिटी मैनकैप की शिकायतों के बावजूद कम्नेयुनिकेशंन्स रेगुलेटर ऑफकॉम ने शिकायत को यह कहते हुए स्वीकार नहीं किया कि "मैंने इस शब्द का आक्रामक संदर्भ में नहीं, बल्कि मनोरंजक मूड में प्रयोग किया।" हालांकि यह भी देखा गया कि पिछले दो दूसरे शो में ऐसी शिकायतों को वाजिब ठहराया गया था।[29]

अन्य

"मानसिक विकलांगता" शब्द का अब भी ऑस्ट्रेलिया में प्रयोग किया जाता है, तथापि "बौद्धिक विकलांगता" को अब और अधिक आम विवरणक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।[30][31]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • माध्यमिक बाधा

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "2h.com". 2h.com. http://www.2h.com/articles/iq-tests/the-relevance-of-iq-scores.html. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  2. Badano, Jose L.; Norimasa Mitsuma, Phil L. Beales, Nicholas Katsanis (September 2006). "The Ciliopathies : An Emerging Class of Human Genetic Disorders". Annual Review of Genomics and Human Genetics 7: 125–148. doi:10.1146/annurev.genom.7.080505.115610. PMID 16722803. http://arjournals.annualreviews.org/doi/abs/10.1146/annurev.genom.7.080505.115610. अभिगमन तिथि: 2008-06-15. 
  3. Siderius LE, Hamel BC, van Bokhoven H, et al. (2000). "X-linked mental retardation associated with cleft lip/palate maps to Xp11.3-q21.3". Am. J. Med. Genet. 85 (3): 216–220. doi:10.1002/(SICI)1096-8628(19990730)85:3<216::AID-AJMG6>3.0.CO;2-X. PMID 10398231. 
  4. Laumonnier F, Holbert S, Ronce N, et al. (2005). "Mutations in PHF8 are associated with X linked mental retardation and cleft lip/cleft palate". J. Med. Genet. 42 (10): 780–786. doi:10.1136/jmg.2004.029439. PMC 1735927. PMID 16199551. 
  5. McNeil, Donald G., Jr. (2006-12-16). "In Raising the World’s I.Q., the Secret’s in the Salt". The New York Times. http://query.nytimes.com/gst/fullpage.html?res=9E05E3D81231F935A25751C1A9609C8B63&sec=&spon=&&scp=1&sq=iodized%20salt%20russia&st=cse. अभिगमन तिथि: 2009-07-21. 
  6. Wines, Michael (2006-12-28). "Malnutrition Is Cheating Its Survivors, and Africa’s Future". दि न्यू यॉर्क टाइम्स. http://www.nytimes.com/2006/12/28/world/africa/28malnutrition.html. अभिगमन तिथि: 2009-07-21. 
  7. सुनदरम एसके, सिवास्वामी एल, मक्की एम्आई, बेहेन एम्इ, चुगानी एचटी. (2008). अज्ञात एटियलजि की वैश्विक विकासात्मक देरी के साथ बच्चों में वक्र पूलिका का अभाव: एक प्रसार तानिका इमेजिंग अध्ययन. जम्मू पीडीएटर. 152(2):250-5. 18206698 पिएम्आईडी (PMID)
  8. "eMedicine - Mental Retardation : Article by C Simon Sebastian, MD". http://www.emedicine.com/med/topic3095.htm. अभिगमन तिथि: 2007-08-23. 
  9. Kalachnik, JE.; Hanzel, TE.; Sevenich, R.; Harder, SR. (Sep 2002). "Benzodiazepine behavioral side effects: review and implications for individuals with mental retardation". Am J Ment Retard 107 (5): 376–410. doi:10.1352/0895-8017(2002)107<0376:BBSERA>2.0.CO;2. PMID 12186578. 
  10. मंदबुद्धि, शैक्षिक विकलांगता. मर्फी, एम. लाइन. 28-02-2007 09-01-2008 को पुनःप्राप्त.
  11. BBC (2003). "Worst Word Vote". Ouch. Archived from the original on 2003-08-01. http://web.archive.org/web/20030801111256/http://www.bbc.co.uk/ouch/yourspace/worstwords/. अभिगमन तिथि: 2007-08-17. 
  12. "cretin". The American Heritage Dictionary of the English Language, Fourth Edition. Houghton Mifflin Company. 2006. http://dictionary.reference.com/browse/cretin. अभिगमन तिथि: 2008-08-04. 
  13. Mental Health Care, Inc.
  14. "SpecialOlympics.org". SpecialOlympics.org. http://www.specialolympics.org/coalition.aspx. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  15. "R-Word.org". R-Word.org. 2010-06-18. http://r-word.org/. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  16. Armbrester, Margaret E. (1992). The Civitan Story. Birmingham, AL: Ebsco Media. पृ॰ 74–75. 
  17. Wolf Wolfensberger (जनवरी 10, 1969). "The Origin and Nature of Our Institutional Models". Changing Patterns in Residential Services for the Mentally Retarded. President's Committee on Mental Retardation, Washington, D.C.. http://www.disabilitymuseum.org/lib/docs/1909.htm?page=print. 
  18. "The ARC Highlights - Beyond Affliction: Beyond Affliction Document". Disabilitymuseum.org. http://www.disabilitymuseum.org/beyond-affliction/ba_shows.dir/revoluti.dir/highlights/subject/ng0002tx.html. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  19. "Christmas in Purgatory & Willowbrook". Arcmass.org. http://www.arcmass.org/StateHousePolicy/RegulationandPolicyDebates/FernaldSchoolClosingandRICCIClass/FernaldNews/WhyTheFernaldCenterShouldClose/ChristmasinPurgatoryWillowbrook/tabid/692/Default.aspx. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  20. "Fernald School Closing and RICCI Class". Arcmass.org. http://www.arcmass.org/StateHousePolicy/RegulationandPolicyDebates/FernaldSchoolClosingandRICCIClass/tabid/175/Default.aspx. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  21. Mencap.org.uk: ब्रिटेन की प्रथम शैक्षिक विकलांगता दान की वेबसाइट. 28 जून 2006 को पुनःप्राप्त.
  22. "FAQ on Intellectual Disability". AAIDD. http://www.aamr.org/content_104.cfm. अभिगमन तिथि: February 5, 2010. 
  23. Chakrabarti S, Fombonne E (2001). "Pervasive developmental disorders in preschool children". JAMA 285 (24): 3093–9. doi:10.1001/jama.285.24.3093. PMID 11427137. http://jama.ama-assn.org/cgi/content/full/285/24/3093. 
  24. सामाजिक वर्क, शराब और ड्रग्स, विकलांगता और बीमार स्वास्थ्य-शैक्षिक विकलांगता.
  25. टीचरनेट, ज्ञान और शिक्षा नीड्स.
  26. अध्यापक प्रशिक्षण संसाधन बैंक, गंभीर अभ्यास की कठिनाइयां.
  27. "Draft Illustrative Code of Practice". Archived from the original on 2007-09-26. http://web.archive.org/web/20070926115046/http://www.rcpsych.ac.uk/PDF/Draft%20Illustrative%20Code%20of%20Practice%20July%202007.pdf. अभिगमन तिथि: 2007-08-23. 
  28. Rohrer, Finlo (2008-09-22). "UK | Magazine | The path from cinema to playground". बीबीसी न्यूज़. http://news.bbc.co.uk/1/hi/magazine/7629376.stm. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  29. Beckford, Martin (2010-03-11). "Ofcom says TV channels have ‘human right’ to broadcast offensive material". Telegraph. http://www.telegraph.co.uk/culture/tvandradio/7415425/Ofcom-says-TV-channels-have-human-right-to-broadcast-offensive-material.html. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  30. Kidspot Australia / Get Started Australia. "Mental Retardation - Mentally Retarded - Kidspot Australia". Kidspot.com.au. http://www.kidspot.com.au/familyhealth/Conditions-&-Disorders-Congenital-disorders-Mental-retardation+2461+203+article.htm. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 
  31. "Australian Psychological Society : Psychologists and intellectual disability". Psychology.org.au. http://www.psychology.org.au/publications/inpsych/disability/. अभिगमन तिथि: 2010-06-29. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]