महाराजा रायसिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

महाराजा रायसिंह राठौड़ बीकानेर जिन्होंने (१५७४ से १६१२) तक शासन किया था। राव कल्याणमल की मृत्यु के बाद राव रायसिंह को बीकानेर का शासक बनाया गया। [1]

इन्होंने १५९४ में बीकानेर के सुदृढ़ जूनागढ़ दुर्ग का निर्माण करवाया था [2] । इन्होंने किले के भीतर एक प्रशस्ति लिखवाई जिसे अब रायसिंह प्रशस्ति कहते हैं। इस प्रशस्ती मे इन्हे "राजेन्द्र" कहा गया है सन् १६१२ में "दक्षिण भारत (बुरहानपुर) में इनका निधन हुआ था। रायसिंह को महाराज की उपाधि अकबर ने थी। रायसिंह को दानवीरता के कारण "राजपुताने का कर्ण" कहा जाता है ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Raja Rai Singh (1541 - 1612) - Genealogy - Geni अभिगमन तिथि :१३ जून २०१६
  2. Rulers of ErstWhile Bikaner State..Raja Rai Singh | Rulers of Bikaner Archived 2016-03-27 at the Wayback Machine अभिगमन तिथि :१३ जून २०१६