महामहोपाध्याय सिद्धेश्वर शास्त्री चित्तराव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

महामहोपाध्याय सिद्धेश्वर शास्त्री चित्तराव एक संस्कृत के महान विद्वान थे। इन्हें महामहोपाध्याय एवं विद्यानिधि की उपाधि से अलंकृत किया गया था। इन्होंने धार्मिक विषयों पर बहुत कुछ लिखा था। कुछ समय के लिए इन्होंने श्रीधर व्यंकटेश केतकर के विश्वकोष – 'ज्ञानकोष' के लिए भी सम्पादन कार्य किये। १९२६-१९२७ में इन्होंने सर्वप्रथम ऋगवेद संहिता का मराठी अनुवाद निकाला। इन्होंने शुद्धि के लिए संस्कार बनाए। साथ ही इस काम के लिए एक मराठी मुखबन्ध भी लिखा। इन्होंने महाराष्ट्र में शुद्धि आन्दोलन के लिए प्रोत्साहन कार्य किए। १९२४-१९३३ तक ये पुणे शहर हिन्दू सभा के अध्यक्ष रहे। बाद में इन्होंने भारतीय चरित्रकोष मंडल की स्थापना की जिसके द्वारा इन्होंने प्राचीन एवं आधिनिक व्यक्तित्वों की आत्मकथाएं तैयार कीं। पुणे में आई बाढ़ के दौरान अमृतेश्वर मंदिर के शिखर पर चढ़ कर अपनी जीवन रक्षा की।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]