महमूद होतक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
महमूद शाह होतक
محمود شاه هوتک
ग़ाज़ी
अफ़ग़ानिस्तान के अमीर
शाह
SHAH-MAHMUD-HOTAK.jpg
महमूद शाह होतक का स्केच
होतक राजवंश
शासनावधि१७१७-१७२५
राज्याभिषेक१७१७ और १७२२ (फ़ारस के शाह के रूप में)
पूर्ववर्तीअबुल अज़ीज़ होतक
उत्तरवर्तीअशरफ होतक
जन्म१६९७
कांधार, सफाविद साम्राज्य
निधन२२ अप्रैल १७२५ (उम्र २७ वर्ष)
इस्फ़हान, होतक साम्राज्य
जीवनसंगीशाहबानो आलमियाँ
पूरा नाम
मीर महमूद शाह होतक
घरानाहोतक राजवंश
पितामीरवाइस खान होतक
माताखनज़दा सदोज़ई
धर्मसुन्नी इस्लाम

शाह महमूद होताक, (पश्तो/दरी: شاه محمود هوتک), जिन्हें शाह महमूद ग़िलजी (شاه محمود غلجي) के नाम से भी जाना जाता है (जीवित १६९७ - २२ अप्रैल १७२५), होतक वंश का एक अफगान शासक था, जिन्होंने १७२२ से १७२५ में अपनी मृत्यु तक संक्षिप्त रूप से फारस के राजा बनने के लिए कमजोर हो चुके सफविद वंश का तख्तापलट किया।[1]

१० महमूद का शाही सिक्का; इस्फ़हान टकसाल, १७२३

वे अफगानिस्तान और पाकिस्तान के ग़िलजी पश्तून जनजाति के प्रमुख मीरवाइस होतक के सबसे बड़े पुत्र थे, जिन्होंने १७०९ में कंधार क्षेत्र को फारसी शासन से स्वतंत्र कर दिया था। जब १७१५ में मीरवाइस की मृत्यु हुई तो उनके भाई अब्दुल अजीज ने उनका उत्तराधिकारी बना लिया लेकिन ग़िलजी पश्तूनों ने महमूद को अपने लिए सत्ता जब्त करने के लिए राजी कर लिया और १७१७ में उन्होंने अपने चाचा का तख्तापलट करके उन्हें मार डाला।[2]

महमूद ने ईरान की गद्दी संभाली[संपादित करें]

अब्दाली पश्तूनों ने खुरासान के क्षेत्र में निवास किया, जबकि ग़िलजी ने कंधार क्षेत्र को दक्षिण-पूर्व में नियंत्रित किया।

१७२० में महमूद और ग़िलजियों ने अब्दलियों (जिन्हें अब दुर्रानी कहा जाता है) के प्रतिद्वंद्वी जातीय पश्तून जनजाति को हराया था, लेकिन महमूद ने केवल फारसी साम्राज्य पर ही क्षणयंत्र तैयार किए थे। उन्होंने पहले ही १७१९ में कर्मान के विरुद्ध एक अभियान शुरू कर दिया था और १७२१ में उन्होंने शहर को फिरसे घेर लिया। इस प्रयास में विफल होने और यज़्द पर एक और घेराबंदी के चलते १७२२ की शुरुआत में महमूद ने गुलनाबाद की लड़ाई में फारसियों को हराने के बाद शाह की राजधानी इस्फ़हान पर अपना ध्यान केंद्रित किया। शहर के भीतर एक छोटी पश्तून सेना के सफल होने की संभावना नहीं थी। इसलिए उसपर अपना समय बिताने और घेराबंदी का विरोध करने के बजाय सुल्तान हुसैन गुलनाबाद में महमूद की सेना से मिलने के लिए निकल पड़े। इधर ८ मार्च को फारसी शाही सेना को पूरी तरह से खदेड़कर अव्यवस्था में वापस इस्फहान भगा दिया गया। शाह को अधिक सैनिक जुटाने के लिए प्रांतों में भागने के लिए प्रोत्साहित किया गया, लेकिन उन्होंने राजधानी में रहने का फैसला लिया जिसे पश्तूनों ने फिर से घेर लिया था। महमूद की इस्फ़हान की घेराबंदी मार्च से अक्टूबर १७२२ तक चली। तोपखाने की कमी के कारण उन्हें फारसियों को भूख से मरने की उम्मीद में एक लंबी नाकाबंदी का सहारा लेना पड़ा। घेराबंदी के दौरान सुल्तान हुसैन के आदेश ने निर्णय लेने की उनकी प्रथागत कमी को प्रदर्शित किया और इस तरह की अक्षमता के सामने उनके प्रांतीय राज्यपालों की वफादारी डगमगा गई। भुखमरी और बीमारी ने आखिर में इस्फ़हान को अधीन होने पर मजबूर कर दिया। अनुमान लगाया जाता है कि घेराबंदी के दौरान इस्फ़हान के लगभग ८०,००० निवासियों की मृत्यु हो गई। २३ अक्तूबर को सुल्तान हुसैन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और महमूद को फारस के नए शाह के रूप में स्वीकार कर लिया गया।[3]

शाहू के रूप में महमूद का शासनकाल[संपादित करें]

अपने शासन के शुरुआती दिनों में महमूद ने दयालुता का प्रदर्शन किया। उन्होंने समर्पित शाही परिवार के साथ अच्छा व्यवहार किया और भूख से मर रही राजधानी में भोजन की आपूर्ति की। लेकिन जब होसेन के बेटे तहमास्प ने नवंबर में खुदको शाह घोषित कर लिया तो उन्हें सिंहासन के प्रतिद्वंद्वी दावेदार के साथ सामना करना पड़ा। महमूद ने तहमास्प के ठिकाने काज़वीन के खिलाफ एक सेना भेजी। तहमास्प भाग गए और पश्तूनों ने शहर ले लिया, लेकिन विजयी सेना के हाथों उनके द्वारा किए गए उपचार से हैरान होकर जनवरी १७२३ में जनता उनके विरुद्ध उठ गई। विद्रोह एक सफलता थी और जब जीवित पश्तून हार की खबर लाने के लिए इस्फहान लौटे तब महमूद प्रतिक्रिया के बारे में चिंतित हो गए। मानसिक बीमारियों से पीड़ित और अपनी प्रजा द्वारा विद्रोह के डर से महमूद ने अपने फारसी मंत्रियों और रईसों को झूठे बहाने से एक बैठक में आमंत्रित करके उनका वध कर दिया। उन्होंने लगभग ३,००० फारसी शाही रक्षकों को भी मरवा दिया। उसी समय फ़ारसी कट्टर प्रतिद्वंद्वी उस्मानियों और रूसियों ने महमूद के नियंत्रण में क्षेत्र की मात्रा को सीमित करते हुए अपने लिए भूमि को जब्त करने के लिए फारस में अराजकता का लाभ उठाया।[4]

फारस पर अपना शासन थोपने में उनकी विफलता ने महमूद को उदास और संदेहास्पद बना दिया। वो अपने ही आदमियों की वफादारी के बारे में भी चिंतित थे क्योंकि कई पश्तून कबीले उसके चचेरे भाई अशरफ होतक को पसंद करते थे। फरवरी १७२५ में एक अफवाह पर विश्वास करते हुए कि सुल्तान हुसैन के एक पुत्र सफी मिर्जा बच गए थे, महमूद ने अन्य सभी सफ़वीद राजकुमारों को फांसी देने का आदेश दिया, जो स्वयं सुल्तान हुसैन के अपवाद के साथ थे। जब सुल्तान हुसैन ने नरसंहार को रोकने की कोशिश की तो वो घायल हो गए लेकिन उनकी कार्रवाई के कारण महमूद ने उनके दो छोटे बच्चों की जान बख्श दी।[5]

मृत्यु[संपादित करें]

महमूद की मानसिक एवं शारीरिक हालत बिगड़ने लगी। २२ अप्रैल १७२५ को अफगान अधिकारियों के एक समूह ने अशरफ खान को उस जेल से मुक्त कर दिया, जहाँ उन्हें महमूद ने कैद किया था और एक महल क्रांति शुरू की जिसने अशरफ को सिंहासन पर बिठाया। तीन दिन बाद महमूद की मृत्यु हो गई; या तो उनकी बीमारी से - जैसा कि उस समय दावा किया गया था - या दम घुटने से हत्या।

जिसके बाद उनकी बीमारी लगातार बढ़ती गई, जिसके चलते उनकी २२ अप्रैल को उनके भाई अशरफ द्वारा उनकी हत्या कर दी गई, और अशरफ को राजा घोषित कर दिया गया। मीर महमूद की आयु उस समय केवल सत्ताईस वर्ष थी और उन्हें एक मध्यम आयु का लापरवाह व्यक्ति कहकर बताया गया है; उनका गला इतना छोटा था कि देखकर लगता था कि उनका सिर उनके कंधे से शुरू हो रहा है; उनका एक मोटा चेहरा और चपटी नाक थी, और उनकी दाढ़ी पतली और लाल रंग की थी; उनका हुलिया जंगली था और उनकी भावाभिव्‍यक्ति से कोई सहमत नहीं था; उनकी आंखें, जो नीली और मींची हुई थी, आमतौर पर बुझी हुई लगती थी जैसे की कोई आदमी बहुत गहरे ख्यालों में डूबा हुआ हो।"[6]
—एडवर्ड ग्रैनविल ब्राउन, १९२४

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "AN OUTLINE OF THE HISTORY OF PERSIA DURING THE LAST TWO CENTURIES (A.D. 1722–1922)". Edward Granville Browne. London: Packard Humanities Institute. पृ॰ 29. अभिगमन तिथि 2010-09-24.
  2. Axworthy p.38
  3. Axworthy pp.39–55
  4. Axworthy pp.64–65
  5. Axworthy pp.65–67
  6. "AN OUTLINE OF THE HISTORY OF PERSIA DURING THE LAST TWO CENTURIES (A.D. 1722–1922)". Edward Granville Browne. London: Packard Humanities Institute. पृ॰ 31. अभिगमन तिथि 2010-09-24.

सूत्रों का कहना है[संपादित करें]

  • माइकल एक्सवर्थी, द स्वॉर्ड ऑफ़ पर्शिया: नादर शाह, ट्राइबल वॉरियर से कॉनक्वेरिंग टाइरेंट हार्डकवर तक ३४८ पृष्ठ (२६ जुलाई २००६) प्रकाशक: आईबी टॉरिस[मृत कड़ियाँ] भाषा: अंग्रेजी 

बाहरी संबंध[संपादित करें]

महमूद होतक
होतक वंशज
जन्म: १६९७ मृत्यु: १७२५
पूर्वाधिकारी
अब्दुल अज़ीज़ होतक
अफगानिस्तान के आमिर
१७१७-१७२५
उत्तराधिकारी
अशरफ खान
पूर्वाधिकारी
सुल्तान हुसैन
फ़ारस के शाह
१७२२-१७२५
उत्तराधिकारी
अशरफ खान

साँचा:Monarchs of Afghanistanसाँचा:Pashtun nationalism