मवेशी बंदूक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

मवेशी बंदूक वह आग्न्यशास्त्र है जो की केवल पशुओ को मरने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। इन आग्न्याशास्त्रो में खली कारतूस का प्रयोग किया जाता है। कारतूस से निकलने वाली गैसों के कारण बोल्ट काम करता है। बोल्ट एक भारी गैर जंग खा रही मिश्र धातु के बने होते हैं जैसे की स्टेनलेस स्टील।[1] यह बैरल के अंदर रबर के माध्यम से आयोजित किया जाता है। बोल्ट आमतौर पर अच्छी हालत में दिखाई नहीं देता है। बोल्ट की मदद से पशुओ को बेहोश किया जाता है। इन बन्दूको को ह्यूमेन बंदूके भी कहा जाता है। इन बन्दूको में बोल्ट म्ज्ज्ल से निकलता है और निशाने की मादा से उनके माथे पर जेक लगता है। जिससे की पशुओ की मृत्यु हो जाती है।[2] इन बन्दूको में कारतूस आमतौर पर, निर्धूम पाउडर के 2 से 3 अनाज (130 190 मिलीग्राम) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर इन बन्दूको का वेग छोटे जानवरों के मामले में 55 मीटर (180 फुट / एस) प्रति सेकंड और बड़े जानवरों के मामले में 75 मीटर (250 फुट / एस)प्रति सेकंड होता है।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Animal revolution
  2. Betz, Peter; et al. (1993). "Homicide with a Captive Bolt Pistol"
  3. Beam, Christopher (2009-02-25). "They Shoot Horses, Don't They?". Slate.com