मल्लीनाथ पशु मेला, तिलवाड़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मल्लीनाथ पशु मेला
आधिकारिक नाम मल्लीनाथ पशु मेला
अनुयायी हिन्दू
प्रकार धार्मिक
आरम्भ चैत्र बुदी ग्यारस
Pushkar.- Le marché aux bestiaux (1).jpg

यह पशु मेला भारतीय राज्य राजस्थान के बाड़मेर ज़िले में आयोजित होता है। यह मेला वीर योद्धा रावल मल्लीनाथ की स्मृति में आयोजित होता है। विक्रम संवत १४३१ में मलीनाथ के गद्दी पर आसीन होने के शुभ अवसर पर एक विशाल समारोह का आयोजन किया [1] गया था जिसमें दूर-दूर से हजारों लोग शामिल हुए। आयोजन की समाप्ति पर लौटने के पहले इन लोगों ने अपनी सवारी के लिए ऊंट, घोड़ा और रथों के सुडौल बैलों का आपस में आदान-प्रदान किया तथा यहीं से इस मेले का उद्भव हुआ। इस मेले का संचालन पशुपालन विभाग ने सन १९५८ में संभाला। यह मेला प्रतिवर्ष चैत्र बुदी ग्यारस से चैत्र सुदी ग्यारस तक बाड़मेर जिले के पचपदरा तहसील के के तिलवाड़ा गांव में लूनी नदी पर लगता है इस पशु मेले में सांचोर की नस्ल के बैलों के अलावा बड़ी संख्या में मालानी नस्ल के घोड़े और ऊंठ की भी बिक्री होती है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. पत्रिका. "मल्लीनाथ पशु मेले का आगाज". राजस्थान पत्रिका. Archived from the original on 26 सितंबर 2017. Retrieved 26 सितम्बर 2017. Check date values in: |accessdate=, |archive-date= (help)
  2. डिस्कवर इंडिया. "Mallinath Fair held in the Honor of King Rawal Malignant - India". Archived from the original on 26 सितंबर 2017. Retrieved 26 सितम्बर 2017. Check date values in: |accessdate=, |archive-date= (help)