मराठी चलचित्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मराठी चलचित्र
Metro-Cinema.jpg
मेट्रो बिग सिनेमा, मुंबई
पर्दों की संख्या भारत के महाराष्ट्र राज्य में लगभग 500.[1]
मुख्य वितरक मुंबई फिल्म कंपनी
एस्सेल विज़न प्रोडक्शंस
एवरेस्ट मनोरंजन
निर्मित कथा चित्र  (2016)[2]
कुल 181
कुल कमाई  (2016)[3]
राष्ट्रीय फ़िल्में भारत: 200 करोड़ (US$29.2 मिलियन)
भारतीय
चलचित्र

Indiafilm.png

Bollywood dance show in Bristol.jpg
भारतीय चलचित्र का A-Z
भारतीय फिल्मों की सूची
बॉलीवुड
प्रसिद्ध बॉलीवुड फिल्में
1930s
1930 1931 1932 1933 1934
1935 1936 1937 1938 1939
1940s
1940 1941 1942 1943 1944
1945 1946 1947 1948 1949
1950s
1950 1951 1952 1953 1954
1955 1956 1957 1958 1959
1960s
1960 1961 1962 1963 1964
1965 1966 1967 1968 1969
1970s
1970 1971 1972 1973 1974
1975 1976 1977 1978 1979
1980s
1980 1981 1982 1983 1984
1985 1986 1987 19881989
1990s
1990 1991 1992 1993 1994
1995 1996 1997 1998 1999
2000s
2000 2001 2002 2003 2004
2005 2006 2007 2008 2009
2010s
2010 2011 2012 2013 2014
2015 2016 2017 2018 2019
कॉलीवुड
प्रसिद्ध तमिल फिल्में
1930s 1940s 1950s 1960s
1970s 1980s 1990s 2000s
टॉलीवुड
Telugu films by year
| 1930s 1940s 1950s 1960s
1970s 1980s 1990s
2000s
2000 2001 2002 2003 2004
2005 2006 2007 2008 2009
मलयालम
|1928–1959 1960s1970s
1980s 1990s 2000s
कन्नड़
कन्नड़ फिल्मों की सूची‎
बांग्ला
बांग्ला फिल्मों की सूची‎
असमी
असमी फिल्मों की सूची‎

मराठी सिनेमा (मराठी चित्रपट) मराठी भाषा, सबसे पुराने क्षेत्रीय भारतीय फिल्म उद्योग में से एक में भारतीय फिल्म उद्योग है। पहली मराठी बोलती फिल्म अयोध्याचे राजा (प्रभात फिल्म्स द्वारा निर्मित) 1932 में जारी की गई, पहली भारतीय (हिन्दी) सवाक् फिल्म आलम आरा के एक वर्ष बाद ही। मराठी सिनेमा में हाल के वर्षों में काफी वृद्धि हुई है। उद्योग मुंबई, भारत में स्थित है।

आरम्भ[संपादित करें]

भारतीय सिनेमा के रूप में मराठी सिनेमा बहुत पुरानी है। वास्तव में भारत में सिनेमा के अग्रणी दादा साहेब फाल्के ने अपनी पहली भारतीय फ़िल्म राजा हरिश्चंद्र का निर्माण कर क्रान्ति ला दी। यह एक मूक फिल्म थी, लेकिन फ़िल्म निर्माण में अधिकतर मराठी कलाकार जुड़े हुए थे अत: इसे मराठी सिनेमा का हिस्सा भी माना जा सकता है।

1919 में बाबुराव मिस्त्री - जो बाबुराव पेंटर के नाम से लोकप्रिय थे - कोल्हापुर के महाराजा के आशीर्वाद से महाराष्ट्र फिल्म कंपनी का गठन किया और पहली महत्वपूर्ण ऐतिहासिक फ़िल्म सेराधरारी (1920) का निर्माण किया। बाबूराव पेंटर ने 1930 तक कई मूक फिल्में बनाईं। हालांकि, कुछ और मूक फिल्मों के बाद, महाराष्ट्र फिल्म कंपनी ने ध्वनि वाले फ़िल्मों के आगमन के साथ फ़िल्म बनाना बन्द कर दिया।

बोलती फ़िल्मों के साथ ही "प्रभात फिल्म कंपनी" का उदय हुआ। प्रभात की फ़िल्म संत तुकाराम 1937 में वेनिस फिल्म समारोह में सर्वश्रेष्ठ फिल्म पुरस्कार जीतने वाला पहली भारतीय फ़िल्म थी।[4] 1954 में राष्ट्रीय पुरस्कार के पहले संस्करण में, श्यामची आई ने मराठी फिल्म के लिये राष्ट्रपति के स्वर्ण पदक जीता।[5]

स्वर्ण युग[संपादित करें]

मराठी सिनेमा वी शांताराम, मास्टर विनायक, भालजी पेंढारकर, आचार्य अत्रे, राजा परांजपे, दिनकर डी पाटिल, व्यंकटेश माडगूलकर, सुधीर फड़के जैसे प्रसिद्ध कलाकारों के आगमन के साथ अपने स्वर्ण युग मेँ आ गया। 60 के दशक में अनंत माने जो मराठी लोककला तमाशा पर आधारित फिल्मों का निर्देशन किया का दौर रहा।[6] दत्ता धर्माधिकारी और राज दत्त, परंपरागत परिवार के नाटकों की तरह निर्देशन में आये। 70 के दशक में दादा कोंडके के आगमन से हास्य फ़िल्मों का दौर चालू हो गया।<ref>Kale, Pramod (1979). "Ideas, Ideals and the Market: A Study of Marathi Films". Economic and Political Weekly. 14, (35): 1511–1520. अभिगमन तिथि 23 January 2017.</ref इसके बाद, व्यंग्य, सामाजिक और राजनीतिक टिप्पणी लिये फिल्मों का दौर आया जिसमें से कई फ़िल्में कालांतर बन गई। 1980 के दशक में दो हास्य नायक अशोक सराफ और लक्ष्मीकांत बेर्डे प्रसिद्ध अभिनेता बन कर उभरे। मध्य 80 के दशक में दो युवा निर्देशक महेश कोठारे और सचिन पिलागांवकर का दौर रहा।

समकालीन[संपादित करें]

वर्ष 2004 में, मराठी फ़िल्म श्वास ने गोल्डन लोटस राष्ट्रीय पुरस्कार जीता और उसे आलोचकों की प्रशंसा भी मिली। यह फ़िल्म 77वें अकादमी पुरस्कार में भारत की तरफ से आधिकारिक प्रविष्टि थी और इसने सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए राष्ट्रपति पदक भी जीता। श्यामची आई (1950) के बाद, श्वास दूसरी मराठी फिल्म है जिसनें राष्ट्रपति पदक प्राप्त हुआ।

महाराष्ट्र सरकार, मराठी चलचित्र (15 से 30 लाख रुपये) को अनुदान देना आरम्भ कर दिया है। श्वास की सफलता के बाद, श्रृंगार फिल्म्स और ज़ी टेलीफिल्म्स जैसे दिग्गज निर्माता अब मराठी चलचित्र में रुचि दिखा रहे हैं। मराठी टेलीविजन की बढ़ती लोकप्रियता (मुख्यत: ज़ी मराठी और ईटीवी मराठी) ने भी मराठी चलचित्र की मदद की है। ज़ी टाकीज, ने एक 24 घंटे मराठी फिल्मों का एक चैनल की शुरूआत की है। देऊळ फ़िल्म, शामची आई और श्वास के बाद सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने वाली तीसरी फिल्म बन गई है।

पुरस्कार[संपादित करें]

फिल्मफेयर पुरस्कार[संपादित करें]

उत्पादन वर्ष फ़िल्म निर्देशक अभिनेता अभिनेत्री संगीत
1963 माज़ा होशिल का एल.बी.ठाकुर      
1964 संत निवृत्ती ज्ञानदेव विनायक सरस्वती और बाल चव्हाण      
1965 लक्ष्मी आली घर माधव शिंदे      
1966 गुरुकिल्ली राजा परांजपे      
1967 पवनकांटछा ढोंडी विनायक ठाकूर      
1968 एक्ति जी. चौगुले      
1969 जिव्हाळा आत्माराम      
1970 अपराध शरद पिळगावकर      
1971 शांतता! कोर्ट चालू आहे सत्यदेव दुबे और गोविंद निहलानी      
1972 कुंकु माझे भाग्याचे शामराव माने      
1973 अंधला मारतो डोला दादा कोंडकें      
1974 सुगन्धि कट्टा पुरस्कृत नहीं श्रीराम लागू (सुगन्धि कट्टा) सरला येवलेकर (सुगन्धि कट्टा)  
1975 सामना जब्बार पटेल श्रीराम लागू संध्या  
1976 आराम हराम आहे वसंत जोगळेकर रवींद्र महाजनी आशा काळे  
1977 नव मॉथन लक्षण खोटान मुरलीधर कपाडी श्रीराम लागू उषा चव्हाण  
1978 देवकी नंदन गोपाला जब्बार पटेल यशवंत दत्त स्मिता पाटिल  
1979 सिँहासन जब्बार पटेल सचिन रंजना देशमुख  
1980 22, जून 1897 जयू और नचिकेत पटवर्धन (22 जून 1897) निळू फुले उषा चव्हाण  
1981 उम्बर्था जब्बार पटेल गिरीश कर्नाड स्मिता पाटिल  
1982 शापित राज दत्त और अरविंद देशपांडे अशोक सराफ मधू कांबीकर  
1983 गुपचुप गुपचुप वी.के. नायक अशोक सराफ़ रंजना देशमुख  
1984 लेक चालली सासरला एन.एस. वैद्य अशोक सराफ सुप्रिया सबनीस  
1987 धूम धड़ाका महेश कोठारे लक्ष्मीकांत बेर्डे ??  
1994 वज़ीर संजय रावळ विक्रम गोखले सुकन्या कुलकर्णी श्रीधर फडके
1995 आई महेश मांजरेकर सयाजी शिंदे रेणुका शहाणे आनंद मोडक
1996 पुत्रवती निचिकेत और जय पटवर्धन अशोक सराफ़ सोनाली कुलकर्णी श्रीधर फडके
1997 बांगरवाड़ी अमोल पालेकर मोहन जोशी सुकन्या कुलकर्णी आनंद मोडक
1998 तू तिथे मी संजय सोकरकर मोहन जोशी सुहास जोशी आनंद मोडक
1999 बिन्धास्त चंद्रकांत कुलकर्णी दिलीप प्रभावळकर शारवारी जामनीस श्रीधर फडके

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]