मयूर सिंहासन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मयूर सिंहासन पर आसीन शाहजहाँ का चित्र

मयूर सिंहासन (तख़्त-ए-ताऊस) वह प्रसिद्ध सिंहासन है जिसे मुगल बादशाह शाहजहाँ ने बनवाया था। पहले यह आगरे के किले में था । वहाँ से दिल्ली के लाल किले में स्थानान्तरित किया गया था। यहाँ से इस सिहांसन को ईरान का शासक नादिरशाह लूट कर ले गया था। इसका 'मयूर सिंहासन' नाम इसलिए पड़ा क्योंकि इसके पिछले भाग में नाचते हुए दो मोरों को दर्शाया गया है।

सन् १७४७ में नादिरशाह की हत्या के समय अचानक यह सिंहासन गायब हो गया और उसका अता-पता नहीं चला।