मदैन गाँव, फर्रुखाबाद (फर्रुखाबाद)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मदैन
—  गाँव  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य उत्तर प्रदेश
ज़िला फर्रुखाबाद
आधिकारिक भाषा(एँ) हिन्दी, अवधी, बुंदेली, भोजपुरी, ब्रजभाषा, पहाड़ी, उर्दु, अंग्रेज़ी
आधिकारिक जालस्थल: farrukhabad.nic.in

निर्देशांक: 27°30′N 79°24′E / 27.5°N 79.4°E / 27.5; 79.4

मदैन फर्रुखाबाद, फर्रुखाबाद, उत्तर प्रदेश स्थित एक गाँव है।

भूगोल:-- मदेंन मदायन को स्थानीय लोग आज से 45 साल पहले भीम नगर के नाम से जानते या पुकारते थे । क्योंकी यहां पर निवास करने वाली अत्यधिक दलित जाती या जाटव समाज है, जो अपने मसीहा भीमराव अंबेडकर के नाम से अपने मोहल्ले या गांव को पुकारते थे, मगर यहां के लोग बताते हैं ,जैसे जैसे समय बीता बेसे ही इस गांव का नाम भी यहां की संस्कृत के पुजारियों द्वारा रख दिया गया , ,। अतः यहाँ के निवासी जो अब युवा पीढ़ी है ,वो मदेंन या भान नगर नाम से ही अपबे प्रपत्र बनवाते है, । मदेंन की छटा निराली है , नीले आकास से साम के समय उड़ते पंछियों के दल को देखकर आप मन्त्र मुग्ध हो जाएंगे ,।

  • इसको वनस्पति प्रेमी गांव भी कह सकते हैं।
  • आम के हरे भरे पेड़ों से इस गांव की पहचान है ।
  • बरसात में अत्यंत सुहाना मौसम रहता है।
  • गर्मियों में वेचैनी हो सकती है।
  • सर्दियों में यहां पर जगह जगह पर जलती अलाव का आनन्द ले सकते हो।
  • स्वछ साफ सड़कें अगर भैंसों की परेशानी ठीक हो जाये तो बेहतर है।
  • यहां के युवा सेवा में विस्वास रखते हैं ,।
  • सभी हिंदूं हैं ,पर बुद्ध औऱ भीम को पूजते हैं।
  • सभी गांव के लोग मिलजुलकर रहने में वीस्वास रखते हैं।
  • गांव गुरु सादी नगर ग्रामपंचायत में स्थित है।
  • पखना रेलवे स्टेशन पर बजार लगता है बुध और शनि को ।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

यातायात[संपादित करें]

आदर्श स्थल[संपादित करें]

शिक्षा :-- शिक्षा हेतु प्राथमिक विद्यालय है। जो कि यहां के बच्चों को शिक्षा दे रहा है। 
  • शिक्षा का स्तर ज्यादा अच्छा न होकर समतल है।
  • शिक्षा में वच्चे कम दिलचस्पी लेते हैं ,।
  • अभिभाबक शिक्षा की बजाय मजदूरी ज्यादा पसंद करते हैं,।
  • कुछ लोग शिक्षित हाजर नोकरियाँ भर कर रहे हैं,।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]