मटिल्डा (किताब)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मटिल्डा ब्रिटिश लेखक रोआल्ड डाल के द्वारा लिखित एक बच्चो की किताब हैं। इसे 1988 मे लंदन मे प्रकाशित किया गया था। इसकी कहानी एक असाधारण बच्ची मटिल्डा वौर्मवुड के बारे मे हैं जिसके साधारण माता-पिता काफी हद तक अप्रिय हैं जो अपनी बेटी की विचित्र योग्यता और टेलेकाइनेटिक क्षमता से तिरस्कारपूर्ण हैं।

कथानक[संपादित करें]

मटिल्डा वौर्मवुड नाम की एक नन्ही बच्ची के पास सीखने की एक असाधारण क्षमता हैं, परंतु उसके अमीर तथा बुद्धीमंद माता-पिता उसकी इस कमाल की क्षमता से बेखबर हैं और उसे मूर्ख तथा बेवकूफ समझते हैं। अपने माता-पिता के अशिष्ट व्यवहार से तंग आकर मटिल्डा हमेशा उनको सबक सिखाने के लिये उनके साथ शरारते करती हैं, जैसे पिता की टोपी मे गोंद लगाना या चिमनी मे तोते को छिपाना जिससे सबको लगे कि घर मे भूत हैं। कुछ ही समय के बाद मटिल्डा विद्यालय जाना प्रारम्भ करती है जहाँ वो मिस जेनिफर "जेनी" हनी नाम की एक समवेदनापूर्ण शिक्षक से मिलती हैं। मिस हनी मटिल्डा की अकल्पनीय बौद्धिक शक्तियो से अचम्भित होती है और उसका दाखिला किसी उच्चतर कक्षा मे कराने का प्रयास करती है, परंतु विद्यालय की क्रूर प्रधानाध्यापिका मिस टर्नबुल, जो अत्यंत कष्टदायक सजाओ के द्वारा विद्यार्थियो को अनुसाशित रखने के लिये बदनाम है, इनकार कर देती है। मिस हनी मटिल्डा के महान बुद्धिमता के बारे मे उसके माता-पिता से भी बात करने की कोशिश करती है, परन्तु वे मिस हनी पर विश्वास नही करते है। जल्द ही मिस हनी और मटिल्डा के बीच एक बहुत करीबी रिश्ता विकसित हो जाता है जब मटिल्डा को अपनी टेलेकाइनेटिक शक्तियो का पता चलता है। वे अक्सर जंगल मे स्थित मिस हनी की छोटी सी कुटिया मे मिलते है और बातचीत करते है, जहा मिस हनी अपने दुख भरे बचपन के बारे मे मटिल्डा को बताती है कि कैसे उनके पिता मैग्नस की रहस्यमयी मृत्यु के बाद उनकी मौसी उनके घर और संपत्ति पर कब्जा कर लिया और कैसे वो मिस हनी के साथ बहुत बुरा बर्ताव करती थी और उनसे सारे काम कराती थी। मटिल्डा यह जानकर बहुत आश्चर्यचकित होती है कि वह मौसी मिस टर्नबुल थी। मिस हनी को उनकी संपत्ति वापस दिलाने के लिये मटिल्डा एक योजना बनाती है। मिस टर्नबुल के द्वारा निरिक्षित एक पाठ के दौरान मटिल्डा अपनी टेलेकाइनेटिक शक्तियो से एक चॉक के टुकड़े को उठा कर श्यामपट्टिका पर मिस टर्नबुल के लिये मिस हनी के पिता मैग्नस के तरफ से एक पत्र लिखती है जिसमे वो मिस टर्नबुल से मिस हनी को उनकी संपत्ति वापस करने की मांग करती है। इससे अत्यंत भयभीत हुई मिस टर्नबुल घर छोड़कर भाग जाती है। मिस हनी को अपनी सम्पत्ति वापस मिल जाती है। नए प्रधानाध्यापक के द्वारा मटिल्डा का दखिला ऊपरी कक्षा मे करा दिया जाता है, जहा उसे पता चलता है कि वो अपनी टेलेकाइनेटिक शक्तिया खो चुकि है। मटिल्डा अक्सर मिस हनी के घर उनसे मिलने आती थी। एक दिन मटिल्डा को पता चलता है कि उसका परिवार कहीं और जा रहा है।