मजहबी सिख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मज़हबी सिख वाल्मीकि जाति का समूह हैं, जिन्होंने हिंदू धर्म को छोड़ कर सिख धर्म अपना लिया है। मज़हबी शब्द उर्दू शब्द मज़हब (मजहब का अर्थ धर्म या संप्रदाय) से लिया गया है, और इसका अनुवाद वफादार के रूप में किया जा सकता है। ये मुख्य रूप से भारतीय पंजाब, राजस्थान और हरियाणा, हिमाचल, जम्मू में रहते हैं।

मजहबी सिख
Akalees.jpg
धर्म सिख
भाषा पंजाबी
क्षेत्र पंजाब, हरियाणा, दिल्ली

मज़हबी सिख की उत्पत्ति[संपादित करें]

गुरु तेग बहादुर, नौवें सिख गुरु को दिल्ली में मुगलों द्वारा मारे जाने के बाद तीन वाल्मीकि जाति के सदस्यों ने उनके शव और शीश को मुगल सेना से बरामद किया और उसे नौवें सिख गुरु के बेटे गुरु गोबिंद सिंह के पास सौंप दिया। उनके कृत्य की मान्यता में, गुरु गोबिंद सिंह ने उन्हें खालसा (सिख आस्था) में भर्ती कराया, उन्हें मजहबी और रंगरेटे ("वफादार") नाम दिया ।[1]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "बाबा जीवन सिंह".