भूषण रामकृष्ण गवई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माननीय न्यायमूर्ति
भूषण रामकृष्ण गवई

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
24 मई 2019
Nominated by रंजन गोगोई
Appointed by रामनाथ कोविंद

पद बहाल
14 नवम्बर 2003 – 24 मई 2019
Nominated by वी॰ एन॰ खारे
Appointed by ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम

जन्म 24 नवम्बर 1960 (1960-11-24) (आयु 59)
अमरावती, महाराष्ट्र
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय न्यायाधीश
जालस्थल आधिकारिक जालस्थल

न्यायमूर्ति भूषण रामकृष्ण गवई (जन्म: 24 नवम्बर 1960) एक भारतीय न्यायाधीश तथा वर्तमान में भारत के उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश हैं। वे 2003 से 2019 के बीच बॉम्बे उच्च न्यायालय के न्यायाधीश भी रहे चूके हैं। 8 मई 2019 को हुई अपनी बैठक में, सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने जस्टिस भूषण रामकृष्ण गवई का नाम सुप्रीम कोर्ट के जज के लिए प्रस्तावित किया था। जस्टिस के॰ जी॰ बालकृष्णन के बाद गवई ऐसे दूसरे दलित जज हैं जो सुप्रीम कोर्ट के मुख्य जज बनेंगे। वे 14 मई 2025 को जस्टिस संजीव खन्ना के रिटायर होने के बाद 23 नवंबर 2025 तक इस पद पर रहेंगे। [1][2]

न्यायमूर्ति भूषण रामकृष्ण गवई भारतीय रिपब्लिकन पार्टी के नेता, महाराष्ट्र के विधायक, सांसद, तथा बिहार, सिक्किम व केरल इन तीन राज्य के राज्यपाल रह चूके रा॰ सु॰ गवई के पुत्र है।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. https://www.newsplatform.in/big-news/supreme-court-to-get-a-dalit-judge-after-decades/
  2. "Justice Bhushan Gavai of Bombay HC recommended for elevation as SC Judge" (अंग्रेज़ी में). टाइम्स ऑफ़ इंडिय. 10 मई 2019. अभिगमन तिथि 19 मई 2019.
  3. "SC Collegium recommends four judges for elevation to the apex court" (अंग्रेज़ी में). इंडियन एक्सप्रेस. 10 मई 2019. मूल से 10 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मई 2019.