भार वृद्धि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वजन बढ़ाने के एक उत्पाद के लिए 1895 का एक विज्ञापन

शरीर के वजन में बढ़ोतरी को वजन वृद्धि कहते हैं। यह, या तो मांसपेशियों में बढ़ोतरी और वसा के एकत्रीकरण से हो सकता है या फिर अतिरिक्त तरल पदार्थ जैसे पानी के कारण हो सकता है।

विवरण[संपादित करें]

व्यायाम या शरीर सौष्ठव के परिणाम स्वरूप मांसपेशी में वृद्धि या वजन में बढ़ोतरी हो सकती है, जिसमे शक्ति प्रशिक्षण के माध्यम से मांसपेशियों में वृद्धि होती है।

यदि शारीरिक वसा के एकत्रीकरण के कारण वजन में पर्याप्त वृद्धि हो रही है, तब कोई भी व्यक्ति मोटा हो सकता है, इसे आम तौर पर श्रेष्ठ स्वास्थ्य की तुलना में अधिक शारीरिक वसा (ऊतक वसा) के रूप में परिभाषित किया जाता है।

वजन वृद्धि की एक विलंबता अवधि होती है। वजन वृद्धि पर खाने का प्रभाव, निम्नलिखित कारकों के आधार पर बड़े पैमाने पर भिन्न हो सकता है: व्यायाम से परहेज़, जल सेवन की मात्रा, भोजन में निहित नमक वसा या चीनी की मात्रा, दिन में खाने का समय, व्यक्ति की आयु, व्यक्ति का देश, व्यक्ति के समग्र तनाव का स्तर और टखनों/पैर से जल प्रतिधारण की मात्रा. विलंबता अवधि आम तौर पर भोजन करने के तीन दिन से लेकर दो सप्ताह तक भिन्न होती है।

मोटा होना एक आम स्थिति है, विशेष रूप से वहां जहां खाद्य आपूर्ति बहुतायत में हो और जीवन शैली सुस्त हो. संयुक्त राज्य अमेरिका की वयस्क आबादी का लगभग 64% या तो अधिक वजनदार या मोटापे से ग्रस्त माना जाता है और पिछले चार दशकों से इस प्रतिशत में वृद्धि हुई है।[1]

वजन बढ़ने के निम्नलिखित प्रभाव हो सकते हैं, जो उपरोक्त सूचीबद्ध किए गए कारणों पर आधारित हैं, लेकिन वे आम तौर पर सीमित हैं:

  • शरीर के वसा प्रतिशत में वृद्धि
  • मांसपेशियों में वृद्धि
  • शरीर के जलयोजन स्तर में बढ़ोतरी
  • स्तन के आकार में बढ़ोतरी

अधिक गंभीर मामलों में:

  • लक्षणीय रूप से बड़ा पेट
  • पेट के निचले भाग में बाहर और ऊपर की ओर उभार आ जाता है, जो शरीर के मध्य भाग को फूला हुआ बनाता है।

कारण[संपादित करें]

ऊतक वसा में वृद्धि के सन्दर्भ में, एक व्यक्ति के भोजन की खपत बढ़ने या शारीरिक निष्क्रियता अथवा दोनों ही कारणों से आम तौर पर वसा संबंधी मोटापा बढ़ता है। एक अध्ययन में, जिसमें 32 वर्ष से अधिक आयु वाले 12,000 से अधिक लोगों पर नजर रखी गयी, पाया गया कि एक व्यक्ति के वजन वृद्धि में सामाजिक नेटवर्क की एक बड़ी भागीदारी होती है, जिसके तहत पति को पत्नी से, भाई को भाई से और दोस्त को दोस्त से मोटापे में वृद्धि का बढ़ता खतरा संचारित होता है।[2] [3]

वजन का बढ़ना मनोरोग उपचार का एक आम दुष्प्रभाव होता है।[4]

प्रभाव[संपादित करें]

मनुष्यों में अतिरिक्त ऊतक वसा चिकित्सकीय समस्याएं उत्पन्न कर सकता है; जबकि एक गोल या विशाल शरीर अपने आप में कोई चिकित्सकीय समस्या नहीं होती है और कभी-कभी वसा ऊतक इसका मुख्य कारण नहीं होते. यदि वजन बहुत अधिक बढ़ गया हो, तो गंभीर स्वास्थ्य दुष्प्रभाव हो सकते हैं। मोटापे के साथ एक बड़ी संख्या में चिकित्सकीय स्थिति जुडी हुई होती है। स्वास्थ्य प्रभावों को या तो वसा के द्रव्यमान में वृद्धि (ऑस्टियोआर्थराइटिस, प्रतिरोधी निद्रा एपनिया, सामाजिक कलंक) या वसा कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि (मधुमेह, कैंसर के कुछ प्रकार, हृदय रोग गैर-अल्कोहल वसायुक्त गुर्दा रोग) के परिणाम के रूप में वर्गीकृत किया गया है।[5] [6] इंसुलिन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया में भिन्नता होती है (इंसुलिन प्रतिरोध), यह एक सूजन पूर्व स्थिति है और इसमें थ्रोम्बोसिस होने की एक बड़ी प्रवृत्ति होती है (पूर्व थ्रोम्बोटिक स्थिति).[6]

सामाजिक परिप्रेक्ष्य[संपादित करें]

दशकों पहले, मोटापे की कुछ मात्रा को निजी और पारिवारिक समृद्धि का द्योतक माना जाता था: "कैलोरियां दुर्लभ थी, शारीरिक परिश्रम अधिक होता था और लोग ग्रेहाउंड के जैसे पतले होते थे।"[7] विशेष रूप से, एक दुबली-पतली शादीशुदा औरत दया की पात्र होती थी, क्योंकि उसका आकार यह दर्शाता है कि उसका पति उसे पर्याप्त भोजन नहीं दे पाता है; इसके विपरीत, पत्नी का मोटा होना व्यक्ति के लिए वैभव-प्रतीक माना जाता था; और यह दर्शाता था कि उनके पास पर्याप्त मात्रा में भोजन है और उसे काम भी नही करना पड़ता.[8] केवल 20वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में जाकर मोटापे के प्रति यह अवधारणा बदली. अब कुछ कम-विकसित देशों में ही मोटापे को आर्थिक संपन्नता का द्योतक माना जाता है।[9]

हालांकि अतिरिक्त वजन कुछ समय के लिए समकालीन पश्चिमी समाज में "अस्वीकार्य" था, लेकिन यह अब अधिक स्वीकार्य होता जा रहा है क्योंकि अधिक से अधिक लोग वजनी और मोटे होते जा रहे हैं।[10]

अमेरिका में रहने वाली महिलाओं के बीच मोटापा सामाजिक रूप से अधिक स्वीकार्य होता जा रहा है, क्योंकि वाशिंगटन टाइम्स के इकोनोमिक एंक्वायरी[11] की आख्या के अनुसार, 20 से अधिक की उम्र वाली महिलाओं में से एक-तिहाई महिलाएं मोटी हैं।

इस अध्ययन के लिए, फ्लोरिडा राज्य विश्वविद्यालय के जनसांख्यिकी और जनसंख्या स्वास्थ्य केंद्र में अर्थशास्त्र के सहयोगी प्रोफेसर फ्रैंक हेलैंड और फेडरल रिजर्व बैंक ऑफ़ बोस्टन की वरिष्ठ अर्थशास्त्री मेरी बर्क ने सीडीसी के राष्ट्रीय स्वास्थ्य और पोषण परीक्षा सर्वेक्षण से मिले डेटा का विश्लेषण किया। शोधकर्ताओं ने पाया कि 30 और 60 वर्ष की आयु के बीच की महिलाओं का औसत वजन 1976 से 20 पाउंड या 14% बढ़ा था। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि 300 पाउंड या अधिक वजन वाली महिलाओं में 18% की वृद्धि हुई थी।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि स्वयं की छवि में बदलाव आया है और यह कि संयुक्त राज्य अमेरिका में मोटापा सामाजिक रूप से और अधिक स्वीकार्य हो गया है। अध्ययन के अनुसार, 1994 में एक औसत महिला का वजन 147 पाउंड लेकिन यह भी स्पष्ट किया कि वे 132 पाउंड वजन पाना चाहती थीं। अध्ययन में यह भी पाया गया कि 2002 तक, एक औसत महिला का वजन 153 पाउंड था लेकिन उन्होंने कहा कि वे 135 पाउंड का वजन प्राप्त करना चाहती थीं। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि "यह तथ्य कि महिलाओं के वांछित वजन में बढ़ोतरी हुई है इस बात की ओर इंगित करता है कि वहां वजन कम करने पर सामजिक दबाव कम है".

ऊर्जा की खपत[संपादित करें]

क्योंकि शरीर को वसा बनाने के लिए ऊर्जा व्यय करने की जरूरत होती है, इसलिए वजन कम करने के लिए एक व्यक्ति को ऊर्जा की जितनी मात्रा व्यय करनी पड़ती है वह वजन बढ़ाने के लिए खपत की जाने वाली मात्रा की तुलना में बस थोड़ी सी कम होती है। शरीर में अनगिनत तंत्र होते हैं जो वजन घटाने और वजन बढ़ाने को प्रभावित करने वाले चयापचय दर का प्रबंधन करते हैं। इस प्रकार, वजन में वास्तविक परिवर्तन अलग-अलग व्यक्तियों में भिन्न होता है। इसके अलावा, उपरोक्त संगणना यह मान कर चलती है कि बढ़ाया और घटाया गया सभी वजन वसा के रूप में होता है। हकीकत में, यह प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, आदि का एक मिश्रण है (मांसपेशी ऊतक, अंगों आदि में).

निम्नलिखित सैद्धांतिक गणना पर विचार करें.[मूल शोध?]

  • वसा में लगभग 3500 किलोकैलोरियां प्रति पौंड शामिल हैं (32 kJ/g).
    • अगर एक व्यक्ति शरीर की आवश्यकता से अधिक 3500 किलो कैलोरी की खपत करता है, तब वह शरीर के थर्मिक प्रभाव के कारण 1 पौंड (0.45 कि॰ग्राम) से थोडा अधिक वसा अर्जित करेगा. (यह मानते हुए की कोई भी ऊर्जा लीन मास में नहीं बदली)
    • यदि एक व्यक्ति अपने द्वारा खाए गए कैलोरी से 3500 किलो कैलोरी अधिक जलता है, तब यह अनुमान करते हुए कि केवल वसा ही गलेगी (यह 100% के करीब होती है क्योंकि बेकार गयी गर्मी भी 3500 किलो कैलोरी में गिनी जाती है), वह लगभग 1 पौंड (0.45 कि॰ग्राम) वसा कम करता है। हालांकि, प्रोटीन के अपचय से ऊर्जा स्रोत मिल सकता है (मांसपेशी) और वसा अधिमान्‍यतया बचाया जा सकता है। उपलब्ध विभिन्न शारीरिक सामग्रियों के उपयोग पर विचार किया जाना चाहिए.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • स्वस्थ आहार
  • धुनी आहार
  • स्थूल नारीवाद
  • मोटाप स्वीकृति आंदोलन
  • वजन कलंक

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Katherine M. Flegal, PhD; Margaret D. Carroll, MS; Cynthia L. Ogden, PhD; Clifford L. Johnson, MSPH (2002). "Prevalence and Trends in Obesity Among US Adults, 1999–2000". JAMA. 288 (14): 1723&ndash, 1727. PMID 12365955. डीओआइ:10.1001/jama.288.14.1723. .
  2. Stein, Rob (2007-07-26). "Obesity Spreads In Social Circles As Trends Do, Study Indicates". Washington Post. पृ॰ A01.
  3. Nicholas A. Christakis, M.D., Ph.D., M.P.H., and James H. Fowler, Ph.D. (2007-07-26). "The Spread of Obesity in a Large Social Network over 32 Years". NEJM. 357 (4): 370–379. PMID 17652652. डीओआइ:10.1056/NEJMsa066082.
  4. Newcomer JW (2005). "Second-generation (atypical) antipsychotics and metabolic effects: a comprehensive literature review". CNS Drugs. 19 Suppl 1: 1–93. PMID 15998156.
  5. Haslam D, James WP (2005). "Obesity". The Lancet. 366 (9492): 1197–1209. डीओआइ:10.1016/S0140-6736(05)67483-1.
  6. Bray GA (2004). "Medical consequences of obesity". J. Clin. Endocrinol. Metab. 89 (6): 2583–9. PMID 15181027. डीओआइ:10.1210/jc.2004-0535.
  7. नेटली एन्गिएर, "मोटा कौन है?यह संस्कृति पर निर्भर करता है." मोटे होने का इतिहास और कला. 2010/04/01 को अभिगमित.
  8. गूगल के उत्तर, विभिन्न संस्कृतियों में एक आकर्षण एक रूप में मोटापा . 2010/04/01 में अभिगमित
  9. मोटी महिला: एक पेंटर की प्रेरणा. 2010/04/01 में अभिगमित.
  10. अमेरिका में महिलाओं में मोटापा सामाजिक रूप से और अधिक स्वीकार्य, अध्ययन के अनुसार
  11. Phu Tang, Frank Heiland (2007). "Social Dynamics of Obesity". Economic Inquiry. 45 (3): 571–591. डीओआइ:10.1111/j.1465-7295.2007.00025.x.

साँचा:Symptoms concerning nutrition, metabolism and development

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]