भारशिव राजवंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारशिव वंश (१७०-३५० ईसवीं) मथुरा के नागवंशी शासकों का कुल था जिसके शासक गुप्त राजाओं से पहले गंगा घाटी पर राज करते थे। जब योधेय, मल्लाव आदि राज्यों के विद्रोह के कारण कुषाण साम्राज्य का अधिकतर भारत पर से नियंत्रण चला गया तब भारशिव ने अपने को स्वतंत्र घोषित कर लिया। भारशिव राजाओं ने दस अश्वमेध यज्ञ किये। उन्होंने अपना साम्राज्य मालवा ,ग्वालियर ,बुंदेलखंड और पूर्वी पंजाब तक फैला लिया था।[1] नाग कुल के नाग राजाओं ने उत्तर भारत गंगा घाटी विंध्य क्षेत्र में गंगा तट पर कान्तिपुर विंध्याचल मिर्जापुर उ॰ प्र॰ धार्मिक अनुष्ठान में शिवलिंग को अपने कन्धे पर उठाकर भार वहन किये जिसके कारण [2] भारशिव नाम से नया राजवंश उदय हुआ था। साधारण जनता इनको अज्ञानता से भर कहने लगे शैव धर्म का अनुशरण करते हुये वैदिक काल में राजभर क्षत्रिय नाम प्रचलित हुए।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. प्राचीन भारतीय परंपरा और इतिहास, पृ ४०१
  2. http://ruturaj.net/history-of-gwalior-ii/