भारत लोक शिक्षा परिषद्‌

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

भारत लोक शिक्षा परिषद्‌ विश्व हिन्दू परिषद की सहयोगी संस्था है जो एकल विद्यालय संचालित करती है। इन विद्यालयों में राष्ट्र के प्रति स्वाभिमान जागरण और संस्कार शिक्षा की लौ जलायी जा रही है।

उद्देश्य[संपादित करें]

संस्था के उद्देश्य हैं-

  • प्राथमिक शिक्षा से उन सभी बच्चों को जोड़ना जो विद्यालय नहीं जाते हैं। ऐसे 30 बच्चों पर संस्था एकल विद्यालय संचालित करता है।
  • एकल विद्यालयों के माध्यम से लोगों को ग्राम-विकास शिक्षा भी दी जाती है। इस कार्यक्रम में जैविक खाद और कीटनाशक आदि के बारे में जानकारी दी जाती है।
  • सरकारी योजनाओं की सम्पूर्ण जानकारी से आम ग्रामीण को जोड़ने के लिए स्वाभिमान जागरण कार्यक्रम भी विद्यालय द्वारा उसी संचालित किये जाते हैं।

अन्य सूचना[संपादित करें]

भारत लोक शिक्षा परिषद्‌ (पंजी.) विदेशी अनुदान के लिये Foreign Contribution Regulation Act 1976 (FCRA) के अंतर्गत तथा स्थानीय अनुदान के लिये आयकर अधिनियम की धारा 80 G के अन्तर्गत पंजीकृत है। दानदाता यदि चाहें तो 1100/- वार्षिक देकर उन दूर बैठे उपेक्षित बालकों को संरक्षण प्रदान कर सकते हैं।