भारत मे आतंकवाद इतिहास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत में आतंकवाद की घटनाएं:

2013[संपादित करें]

२६ सितंबर-जम्मू कश्मीर के सांबा, हीरानगर में दोहरा आतंकी हमला, लेफ्टिनेंट कर्नल सहित 12 की मौत।[1] आतंकी संगठन 'शोहादा ब्रिगेड' ने जम्मू में हुए दोहरे आतंकी हमलों की जिम्मेदारी ली।[2]

2008[संपादित करें]

  • १३ मई, २००८: जयपुर में एक के बाद एक ७ धमाके, ६३ लोगों की मौत।
  • २५ जुलाई, २००८: बेंगलुरु में ७ धमाकों में एक व्यक्ति की मौत, १५ घायल।
  • २६ जुलाई, २००८: अहमदाबाद में ७० मिनट के अंदर २१ बम धमाकों में ५६ लोगों की मौत और २०० घायल।
  • १३ सितंबर, २००८: राजधानी दिल्ली के महत्वपूर्ण बाजारों में सीरियल धमाकों में २६ लोगों की मौत।
  • २८ सितंबर, २००८: दिल्ली के महरौली इलाके में धमाका, ३ की मौत।
  • २९ सितंबर, २००८: गुजरात के मोदासा और महाराष्ट्र के मालेगाँव में धमाके, मालेगाँव में ५ लोग मरे।
  • २१ अक्टूबर, २००८: मणिपुर पुलिस कमांडो काम्प्लेक्स के निकट बम धमाके में १७ लोग मारे गए।
  • ३० अक्टूबर, २००८: असम के अलग-अलग इलाकों में १८ आतंकवादी हमलों में कम से कम ४५ लोगों की मौत और १०० से अधिक घायल।

2007[संपादित करें]

  • १९ फरवरी, २००७: भारत से पाकिस्तान जा रही समझौता एक्सप्रेस में दो बम फटे, ६६ से अधिक मौतें, मरने वाले अधिकतर पाकिस्तानी थे।
  • १८ मई, २००७: हैदराबाद में जुमे की नमाज के समय मस्जिद में बम फटा, ११ लोगों की मौत।
  • २५ अगस्त, २००७: हैदराबाद में ही एक मनोरंजन पार्क और सड़क किनारे के ढाबे में चंद मिनटों के अंतराल पर तीन धमाके, ४० की मौत।

2006[संपादित करें]

  • ७ मार्च, २००६: बनारस में तीन बम धमाकों में १५ लोगों की मौत ६० घायल।
  • ११ जुलाई, २००६: मुंबई के रेलवे स्टेशनों और लोकल ट्रेनों में ७ बम धमाकों में १८० से अधिक लोगों की मौत।
  • ८ सितंबर, २००६: मुंबई से २६० किलोमीटर दूर मालेगाँव में एक मस्जिद के निकट एक के बाद एक धमाकों में ३२ लोगों की मौत।

2005[संपादित करें]

  • २९ अक्टूबर, २००५: दिल्ली के बाजारों में तीन जोरदार धमाकों में ६६ लोगों की मौत।

2004[संपादित करें]

  • १५ अगस्त, २००४: असम में बम धमाकों में १६ लोगों की मौत, जिसमें अधिकतर स्कूली बच्चे थे।

2003[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]