भारत में हिन्दी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत में हिन्दी सब से अधिक बोली जाने वाली भाषा है। हिन्दी भाषा का जन्म भारत में हुआ था। हिन्दी को भारत की राजभाषा के रूप में १४ सितम्बर सन् १९४९ को स्वीकार किया गया।[1] इसके बाद संविधान में राजभाषा के सम्बंध में धारा ३४३ से ३५1 तक की व्यवस्था की गयी। इसकी स्मृति को ताजा रखने के लिये १४ सितम्बर का दिन प्रतिवर्ष हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हिन्दी का इतिहास[संपादित करें]

हिन्दी साहित्य[संपादित करें]


हिन्दी की बोलियाँ[संपादित करें]

हिन्दी और देवनागरी लिपि पर आधारित अन्य भारतीय भाषाएँ[संपादित करें]

हिन्दी पर विभिन्न भाषाओं के प्रभाव[संपादित करें]

हिन्दी एक आधुनिक भाषा के रूप में[संपादित करें]

मातृ भाषा के रूप में हिन्दी बोलने वाले लोग[संपादित करें]

द्वितीय भाषा के रूप में हिन्दी बोलने वाले लोग[संपादित करें]

हिन्दी का समर्थन और प्रोत्साहन[संपादित करें]

हिन्दी का विरोध[संपादित करें]

भारत की एकजुटता में हिन्दी का महत्त्व[संपादित करें]

हिन्दी दिवस और हिन्दी पखवाड़ा[संपादित करें]

हर वर्ष 14 सितम्बर के दिन को हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भारत में हिन्दी भाषा में अच्छे से कार्य करने वाले 13 लेखकों को राजभाषा गौरव पुरस्कार और 39 संस्थान या विभाग को राजभाषा कीर्ति पुरस्कार दिया जाता है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. चमू कृष्ण शास्त्री (11 अप्रैल 2015). "संस्कृत से था असीम प्रेम". लेख. पंचजन्य. Archived from the original (भारतीय संविधान में राजभाषा पर विश्लेषण) on 11 नवम्बर 2015. Retrieved 19 नवम्बर 2015. Unknown parameter |month= ignored (help); Check date values in: |year=, |access-date=, |date=, |archivedate= (help)CS1 maint: date and year (link)
  2. "हिंदी दिवस पर विशेष: तकनीक के स्‍तर पर हिंदी ने की काफी प्रगति". दैनिक जागरण. 14 सितंबर 2015. Archived from the original on 14 सितंबर 2018. Retrieved 14 सितंबर 2015. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)