भारत के अर्धसैनिक बल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत में "अर्धसैनिक बलों" का किसी भी कृत्य में या अधिकारियों द्वारा आधिकारिक तौर पर उल्लेख नहीं किया गया है हालांकि इन्हें पारंपरिक रूप से तीन बलों अर्थात असम राइफल्स, स्पेशल फ्रंटियर फोर्स और भारतीय तटरक्षक बल को परिभाषित करने के लिए किया जाता है।

केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों को मार्च 2011 से से पूर्व अर्द्धसैनिक बलों के रूप में ही जाना जाता था, पर गृह मंत्रालय ने भ्रम की स्थिति से बचने के लिए पांच केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों अर्थात: सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ, एसएसबी के लिए एक समान नामकरण अपनाया।[1]

अर्धसैनिक बल में कौन-कौन शामिल[संपादित करें]

देश में अर्धसैनिक बलों की संख्या करीब 10 लाख है. अर्धसैनिक बलों में देश के कई अलग-अलग फोर्स के जवान शामिल होते हैं. इनमें मुख्य रूप से CRPF और BSF की ज्यादा चर्चा होती है लेकिन इसके अलावा ITBP, CISF, Assam Rifles और SSB फाॅर्स के जवान भी इनमे शामिल होते हैं.[2]

  • भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) 10,500 सक्रिय कर्मी (रक्षा मंत्रालय के अधीन संगठन, सिवाय इसके महानिदेशक के जो एक भारतीय नौसेना के अधिकारी होता है, सभी दूसरों को सीधे सहायक कमांडेंट के रूप में अपने संवर्ग (केडर) में नियुक्त किया जाता है।
  • असम राइफल्स (एआर) 50,000 कर्मी

(गृह मंत्रालय के लिए रिपोर्टिंग, भारतीय सेना के अधिकारियों के नेतृत्व में)

(भारतीय खुफिया रिपोर्टिंग करने के लिए भारतीय सेना के अधिकारियों के नेतृत्व में)[2]

भारत के अर्धसैनिक बल[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Office Memorandum" (PDF). MHA. MHA, GoI. मूल (PDF) से 17 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 August 2015.
  2. "सेना से अलग होते हैं अर्धसैनिक बल, जानिए कौन-कौन से संगठन हैं शामिल". आज तक. मूल से 2 मार्च 2019 को पुरालेखित.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]