भारत-अफ्रीका मंच शिखर सम्मेलन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत-अफ्रीका मंच शिखर सम्मेलन (आईएएफएस) अफ्रीकी-भारतीय संबंधों के लिए आधिकारिक मंच है। यह मंच तीन वर्ष के अंतराल पर अपना अम्मेलन करता है। यह मंच सभी महत्वपूर्ण समस्याओं पर विचार करता है। २५ मार्च २०१५ को भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने २६ अक्टूबर २०१५ से नई दिल्ली में तृतीय भारत -अफ्रीका मंच के शिखर सम्मलेन की घोषणा की। [1]

कार्यसूची[संपादित करें]

तेल और खाद्य पदार्थो के बढ़ते मूल्य

विषय[संपादित करें]

  • कृषि क्षेत्र
  • व्यापार
  • उद्योग और निवेश
  • शांति और सुरक्षा
  • सुशासन और नागरिक समाज की पदोन्नति
  • सूचना और संचार प्रौद्योगिकी

अफ्रीकी प्रतिनिधित्व[संपादित करें]

  • अफ्रीकी संघ के अध्यक्ष (एयू)
  • ए.यू. आयोग के अध्यक्ष
  • आठ मान्यता प्राप्त क्षेत्रीय आर्थिक समुदायों के अध्यक्ष (आरईसी)
  • अफ्रीका के विकास के लिए नई भागीदारी के अध्यक्ष (नेपाड)
  • राज्य और सरकार कार्यान्वयन समिति के प्रमुख (HSIGC)
  • पांच अफ्रीकी नेपाड के प्रारंभिक देश

प्रथम भारत-अफ्रीका मंच शिखर सम्मेलन[संपादित करें]

  • स्थल : नई दिल्ली ,भारत
  • अवधि : 4अप्रैल 2008 से 8 अप्रैल 2008
  • सम्मिलित देश : 14

द्वितीय भारत-अफ्रीका मंच शिखर सम्मेलन[संपादित करें]

  • स्थल : अदीस अबाबा, इथियोपिया
  • अवधि : 2011
  • सम्मिलित देश: 15

तृतीय भारत-अफ्रीका मंच शिखर सम्मेलन[संपादित करें]

  • स्थल : नई दिल्ली ,भारत [2][3]
  • अवधि : 26 अक्टूबर 2015 --30 अक्टूबर 2015[4]
  • सम्मिलित देश : 54 [5]

मुख्य अफ़्रीकी प्रतिनिधि[संपादित करें]

  1. दक्षिणी अफ्रीका के राष्ट्रपति :जैकब जुमा
  2. इथियोपिया के राष्ट्रपति :अब्देल फत्तह एल -सीसी ,
  3. ज़िम्बाब्वे के राष्ट्रपति :रोबर्ट मुगाबे
  4. नाइजीरिया के राष्ट्रपति मुहम्मदु बुहारी

सन्दर्भ[संपादित करें]