भारतीय शासन विधान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ब्रिटिश भारत मे ब्रिटिश शासन काल मे बहुत सारे अधिनियम और नियामक कानून बने। यह अधिनियम ब्रिटिश संसद मे पारित होते थे, और ब्रिटिश भारत मे लागू होते थे। इन सब का उद्देश्य भारत मे एक बेहतर और कुशल प्रशासनिक व्यवस्था बनाना था। जिससे भारत की अनेक समस्याओ को समाप्त किया जा सके। और इस तरह का पहला अधिनियम 1773 का रेग्युलेटिंग एक्ट है। जिसमे बंगाल के गवर्नर जनरल को गवर्नर जनरल आँफ बंगाल का नाम दिया गया। उसमे 1781, 1793, 1833, 1854, 1861,1862, 1881, 1891 और 1909 जैसे महत्वपूर्ण अधिनियम पारित हुये।