भारतीय राष्ट्रपति चुनाव, २०२२

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
भारतीय राष्ट्रपति चुनाव, 2022
भारत
← 2017 जुलाई 18, 2022 (2022-07-18) 2027 →
मतदान %99.12% (1.83%वृद्धि)
  Droupadi Murmu official portrait.jpg Yashwant Sinha IMF.jpg
नामित व्यक्ति द्रौपदी मुर्मू यशवंत सिन्हा
पार्टी भाजपा AITC
गठबंधन राजग संयुक्त विपक्ष
गृह राज्य ओडिशा बिहार
चुनावी मत 676,803 380,177
राज्यों-में पहुंच 21 + पुदुच्चेरी 7 + दिल्ली
प्रतिशत 64.03% 35.97%
उतार-चढ़ाव 1.62% कमी 1.62% वृद्धि

2022 Indian Presidential Election.svg

राष्ट्रपति चुनाव से पहले

राम नाथ कोविन्द
भारतीय जनता पार्टी

निर्वाचित राष्ट्रपति

द्रौपदी मुर्मू
भारतीय जनता पार्टी

2022 का राष्ट्रपतीय निर्वाचन भारत गणराज्य में होने वाला सोलहवाँ राष्ट्रपति निर्वाचन होगा। भारत के संविधान के अनुच्छेद 56(1) में प्रावधान है कि भारत का राष्ट्रपति पाँच वर्ष की अवधि के लिए पद पर बना रहेगा। राष्ट्रपति के कार्यकाल की समाप्ति के परिणामस्वरूप, कार्यालय में नियुक्त के लिए एक चुनाव मतदान 18 जुलाई 2022 को होने वाला है, और मतगणना 21 जुलाई 2022 को होगी। नामांकन की अन्तिम तिथि जून 29 है।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 58 में उन योग्यताओं का उल्लेख है जो राष्ट्रपति के पद के लिए पात्र होने के लिए पूरी होनी चाहिए। अनुच्छेद 58 निम्न प्रकार से है -

५८. राष्ट्रपति निर्वाचित होने के लिए अर्हताएँ

(१) कोई व्यक्ति राष्ट्रपति निर्वाचित होने का पात्र तभी होगा जब वह —

(क) भारत का नागरिक है,

(ख) पैंतीस वर्ष की आयु पूरी कर चुका है, और

(ग) लोकसभा का सदस्य निर्वाचित होने के लिए अर्हित है।

(२) कोई व्यक्ति, जो भारत सरकार के या किसी राज्य की सरकार के अधीन अथवा उक्त सरकारों में से किसी के नियंत्रण में किसी स्थानीय या अन्य प्राधिकारी के अधीन कोई लाभ का पद धारण करता है, वह राष्ट्रपति निर्वाचित होने का पात्र नहीं होगा।

स्पष्टीकरण — इस अनुच्छेद के प्रयोजनों के लिए, कोई व्यक्ति केवल इस कारण कोई लाभ का पद धारण करने वाला नहीं समझा जाएगा कि वह संघ का राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति या किसी राज्य का राज्यपाल है अथवा संघ का या किसी राज्य का मंत्री है।[1]

निर्वाचन पद्धति[संपादित करें]

भारत के राष्ट्रपति का निर्वाचन अप्रत्यक्ष रूप से एक निर्वाचक मंडल द्वारा किया जाता है जिसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य, 28 राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य और दिल्ली, पुडुचेरी एवं जम्मू व कश्मीर संघ राज्यक्षेत्रों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य शामिल होते हैं। 2021 तक, निर्वाचक मंडल में 776 सांसद और 4,120 विधायक शामिल हैं। निर्वाचन पद्धति के अनुसार निर्वाचक मंडल के सदस्यों को अलग-अलग संख्या में मत प्रदान किए जाते है, जैसे कि सांसदों और विधायकों का कुल वजन लगभग बराबर होता है और राज्यों और संघ राज्यक्षेत्रों की मतदान शक्ति उनकी जनसंख्या के समानुपाती होती है। 2017 में कुल मिलाकर निर्वाचक मंडल के सदस्य 1,098,903 वोट डालने के पात्र थे, जो 549,452 वोटों के बहुमत के लिए एक सीमा थी।

राष्ट्रपति पद के निर्वाचन के लिए उम्मीदवार के नामांकन में कम से कम 50 निर्वाचकों द्वारा प्रस्तावक के रूप में और 50 निर्वाचकों द्वारा अनुमोदक के रूप में सदस्यता ली जानी चाहिए। चुनाव तत्काल-अपवाह मतदान प्रणाली के तहत गुप्त मतदान के माध्यम से होता है। राष्ट्रपति के निर्वाचन का तरीका संविधान के अनुच्छेद 55 द्वारा प्रदान किया गया है जो कि इस प्रकार है -

५५. राष्ट्रपति के निर्वाचन की रीति

(१) जहाँ तक साध्य हो, राष्ट्रपति के निर्वाचन में भिन्न-भिन्न राज्यों के प्रतिनिधित्व के मापमान में एकरूपता होगी।

(२) राज्यों में आपस में ऐसी एकरूपता तथा समस्त राज्यों और संघ में समतुल्यता प्राप्त कराने के लिए संसद और प्रत्येक राज्य की विधान सभा का प्रत्येक निर्वाचित सदस्य ऐसे निर्वाचन में जितने मत देने का हकदार है उनकी संख्‍या निम्नलिखित रीति से अवधारित की जाएगी, अर्थात्‌;

(क) किसी राज्य की विधान सभा के प्रत्येक निर्वाचित सदस्य के उतने मत होंगे जितने कि एक हजार के गुणित उस भागफल में हों जो राज्य की जनसंख्‍या को उस विधान सभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्‍या से भाग देने पर आए;

(ख) यदि एक हजार के उक्त गुणितों को लेने के बाद शेष पाँच सौ से कम नहीं है तो उपखंड (क) में निर्दिष्ट प्रत्येक सदस्य के मतों की संख्‍या में एक और जोड़ दिया जाएगा;

(ग) संसद के प्रत्येक सदन के प्रत्येक निर्वाचित सदस्य के मतों की संख्‍या वह होगी जो उपखंड (क) और उपखंड (ख) के अधीन राज्यों की विधान सभाओं के सदस्यों के लिए नियत कुल मतों की संख्‍या को, संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्‍या से भाग देने पर आए, जिसमें आधे से अधिक भिन्न को एक गिना जाएगा और अन्य भिन्नों की उपेक्षा की जाएगी।

(३) राष्ट्रपति का निर्वाचन आनुपातिक प्रतिनिधित्व पद्धति के अनुसार एकल संक्रमणीय मत द्वारा होगा और ऐसे निर्वाचन में मतदान गुप्त होगा।

स्पष्टीकरण – इस अनुच्छेद में, ''जनसंख्‍या'' पद से ऐसी अंतिम पूर्ववर्ती जगणना में अभिनिश्चित की गई जनसंख्‍या अभिप्रेत है जिसके सुसंगत आंकड़े प्रकाशित हो गए हैं :

परंतु इस स्पष्टीकरण में अंतिम पूर्ववर्ती जनगणना के प्रति, जिसके सुसंगत आंकड़े प्रकाशित हो गए हैं, निर्देश का, जब तक सन्‌ २०२६ के पश्चात्‌ की गई पहली जनगणना के सुसंगत आंकड़े प्रकाशित नहीं हो जाते हैं, यह अर्थ लगाया जाएगा कि वह १९७१ की जनगणना के प्रति निर्देश है।[2]

निर्वाचक मण्डल[संपादित करें]

भारत में राष्ट्रपतीय निर्वचान में निर्वाचक मण्डल में लोक सभा, राज्य सभा एवं विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्य सम्मिलित होते हैं। मुख्य तौर पर सांसदों एवं विधान सभा सदस्यों को भारतीय जनता पार्टी नेतृत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग), भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेतृत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) एवं तृतीय मोर्चा, जिसमें शिरोमणि अकाली दल (शिअद), अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (तृमूकां), बीजू जनता दल (बीजद), तेलंगाना राष्ट्र समिति (तेरास), युवा श्रमिक रयुथु कांग्रेस पार्टी (यु.श्र.र. कांग्रेस) आदि क्षेत्रीय दल सम्मिलित हैं, में वर्गीकृत किया जाता है।

सदन
राजग संप्रग तृतीय मोर्चा
लोक सभा 333/540

(62%)

110/540

20%

97/540

(18%)

राज्य सभा 112/231

(48%)

50/231

(22%)

69/231

(30%)

विधानसभाएँ 1,762/4,019

(46%)

1,031/4,019

(26%)

1,226/4,019

(31%)

योग 2,207/4,787

(46%)

1,191/4787

(25%)

1,392/4,787)

(29%)

निर्वाचक मण्डल में दलीय स्पर्धा[संपादित करें]

दल/गठबंधन लोक सभा मत राज्य सभा मत विधानसभा मत कुल मत प्रतिशत
राजग 233800 72800 218900 525500 48.67%
संप्रग 77000 37100 145190 259290 24.02%
तृतीय मोर्चा 67200 49700 177704 294604 27.31%
योग 378000 159600 541794 1079394 100.00%

दलवार मतों की स्थिति[संपादित करें]

गठबन्धन दल लोक सभा राज्य सभा विधान सभाएँ योग
राजग 1 भारतीय जनता पार्टी 210700 60900 184589 456189 42.26%
2 जद(यू) 11200 3500 7901 22601 2.09%
3 अभाद्रमुक 700 2800 11440 14940 1.38%
4 अद(सो) 1400 0 2496 3896 2.94%
5 रालोजप 3500 0 0 3500
6 अगप 0 700 1044 1744
7 मिनैफ़्र 700 700 244 1624
8 पामकॉ 0 700 880 1580
9 नापीपा (भारत) 700 700 126 1526
10 संपीपा (लिबरल) 0 700 812 1512
11 नापीफ़्र 700 0 549 1249
12 निषाद 0 0 1248 1248
13 जजपा 0 0 1120 1120
14 नैडेपीपा 700 0 378 1078
15 ऑझास्टूयू 700 0 352 1052
16 सिक्रांमो, भारिपा(अ), तमाकां(म), हम, त्रिइंपीफ़्रं, जसंस, रिसोपा, ऑइंएनआरकां, जसेपा, यूडेपा (मेघालय), हलोपा, पीडेफ़्रं, मगोपा, कुपीऐ एवं हिस्टेपीडेपा 700 1400 2626 4726
17 निर्दलीय 2100 700 3115 5915
राजग का योग 233800 72800 218900 525500 48.67%
संप्रग 1 भाराकां 37100 21700 88384 147184 13.63%
2 द्रमुक 16800 7000 22096 45896 4.25%
3 शिसे 13300 2100 9800 25200 2.34%
4 राकांपा 3500 2800 9919 16219 1.50%
5 झामुमो 700 700 5280 6680 2.30%
6 इयूमुली 2100 1400 2280 5780
7 जकनैकॉ 2100 0 0 2100
8 विचिका 700 0 704 1404
9 मद्रमुक 0 700 704 1404
10 रिसोपा, बविआ, ममका, प्रजपा, केकां, कोदेमक, तवक, भाकिकापा, केकां(जो), राकांके, भाक्रांमापा एवं गोफ़ॉपा 700 0 2534 3234
11 निर्दलीय 0 700 3489 4189
संप्रग का योग 77000 37100 145190 259290 24.02%
अन्य 1 तृमूकां 16100 9100 33432 58632 5.43%
2 युश्रर कांग्रेस 15400 6300 23850 45550 4.22%
3 बीजद 8400 6300 16986 31686 2.94%
4 सपा 2100 2100 23569 27769 2.57%
5 तेरास 6300 4900 13596 24796 2.30%
6 आप 0 7000 14250 21250 1.97%
7 राजद 0 4200 13476 17676 1.64%
8 माकपा 2100 3500 11086 16686 1.55%
9 बसपा 7000 700 972 8672 0.80%
10 तेदेपा 2100 700 3657 6457 3.89%
11 भाकपा 1400 1400 3457 6257
12 जद(स) 700 700 4496 5896
13 ऑइंमएइमु 1400 0 2139 3539
14 रालोद 0 700 1793 2493
15 अभासंलोमो 700 0 1740 2440
16 भाकपा (मा-ले) 0 0 2252 2252
17 माकेकां 700 700 760 2160
18 शिअद 1400 0 348 1748
19 सुभासपा 0 0 1248 1248
20 रालोपा 700 0 387 1087
21 लोजपा (रा.वि.), सिडेफ़्रं, भाट्रापा, जसद(लो), छजकां, मनसे, सकापा, कांग्रेस(स), इनेली, केकां(बा), रापंकॉ, गोजमो, भापंमो, राद, इनेलो, ज़ोपीमू, रिगोपा एवं खुहिनैअमू 700 700 3239 4639
22 निर्दलीय 0 700 1123 1823
अन्य का योग 67200 49700 177704 294604 27.31%
कुल योग 378000 159600 541794 1079394 100%
(3 रिक्त)

निर्वाचन का कार्यक्रम[संपादित करें]

राष्ट्रपतीय एवं उपराष्ट्रपतीय निर्वाचन अधिनियम, 1952 की धारा (4) की उप-धारा (1) के तहत, भारत राष्ट्रपति के चुनाव के लिए कार्यक्रम 9 जून 2022 को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा घोषित किया गया है।

क्र० सं० कार्यक्रम दिनांक दिवस
1. निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचन की अधिसूचना जारी करने की तिथि 15 जून 2022 बुधवार
2. नामांकन करने की अन्तिम तिथि 29 जून 2022 बुधवार
3. नामांकन पत्रों की जांच की अंतिम तिथि 30 जून 2022 बृहस्पतिवार
4. अभ्यर्थिता वापस लेने की अन्तिम तिथि 2 जुलाई 2022 शनिवार
5. मतदान की तिथि 18 जुलाई 2022 सोमवार
6. मतगणना की तिथि 21 जुलाई 2022 बृहस्पतिवार

अभ्यर्थी[संपादित करें]

द्रौपदी मुर्मू[संपादित करें]

द्रौपदी मुर्मू एक भारतीय महिला राजनेत्री हैं।[3] राष्ट्रपतीय निर्वाचन में अपनी अभ्यर्थिता से पूर्व 2015 से 2021 तक वे झारखण्ड की राज्यपाल थीं। उनका जन्म ओड़िशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में एक संथाल परिवार में हुआ था।[4] द्रौपदी मुर्मू झारखण्ड की महिला राज्यपाल भी थीं।  साथ ही वे किसी भी भारतीय राज्य की राज्यपाल बनने वाली प्रथम आदिवासी भी हैं। द्रौपदी मुर्मू ने 24 जून 2022 में अपना नामांकन किया, उनके नामांकन में प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी प्रस्तावक एवं सङ्घ रक्षा मन्त्री राजनाथ सिंह अनुमोदक बने।[5]

ओडिशा ओडिशा मुख्यमन्त्री श्री नवीन पटनायक ने श्रीमती मुर्मू के राष्ट्रपतित्व का समर्थन किया है।[6] बसपा प्रमुख मायावती ने भी द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में घोषणा की है।[7]

यशवन्त सिन्हा[संपादित करें]

यशवंत सिन्हा[8] एक भारतीय राजनीतिज्ञ व तृणमूल कांग्रेस के नेता हैं। वे भारतीय जनता पार्टी के पूर्व वरिष्ठ नेता रहे हैं। वे अटल बिहारी वाजपेयी मन्त्रिमण्डल में सङ्घ वित्त मन्त्री रहने के साथ-साथ विदेश मंत्री भी रह चुके हैं।[9][10]

परिणाम[संपादित करें]

भारतीय राष्ट्रपतीय निर्वाचन २०२२ के परिणाम[11]
प्रत्याशी गठबन्धन व्यक्तिगत
मत
निर्वाचक
मण्डल मत
%
Governor of Jharkhand Draupadi Murmu in December 2016.jpg द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन 2,824 676,803 64.03
Yashwant Sinha IMF.jpg यशवंत सिन्हा संयुक्त विपक्ष 1,877 380,177 35.97
मान्य मत 4,701 1,056,980
खाली अथवा अमान्य मत 53 10,500
कुल 4,754 100
पञ्जीकृत मतदाता/मतोपस्तिथि 4,796 1,081,991

विश्लेषण[संपादित करें]

राज्य/UT निर्वाचक द्रौपदी मुर्मू यशवंत सिन्हा अमान्य Abstain(परहेज)
संसद के सदस्य 771 540 208 15 8
आन्ध्र प्रदेश 175 173 0 0 2
अरुणाचल प्रदेश 60 55 4 0 1
असम 126 104 20 0 2
बिहार 243 133 106 2 1
छत्तीसगढ़ 90 21 69 0 0
गोवा 40 28 12 0 0
गुजरात 178 121 57 0 0
हरियाणा 90 59 30 0 1
हिमाचल प्रदेश 68 45 22 1 0
झारखण्ड 81 70 9 1 1
कर्नाटक 224 150 70 4 0
केरल 140 1 139 0 0
मध्य प्रदेश 230 146 79 5 0
महाराष्ट्र 287 181 98 4 3
मणिपुर 60 54 6 0 0
मेघालय 60 47 8 1 4
मिज़ोरम 40 29 11 0 0
नागालैण्ड 60 59 0 0 1
ओड़िशा 147 137 9 0 1
पंजाब 117 8 101 5 3
राजस्थान 200 75 123 0 2
सिक्किम 32 32 0 0 0
तमिलनाडु 234 75 158 0 0
तेलंगाना 119 3 113 1 2
त्रिपुरा 60 41 18 0 1
उत्तर प्रदेश 403 287 111 3 2
उत्तराखण्ड 70 51 15 1 3
पश्चिम बंगाल 293 71 216 4 2
दिल्ली 70 8 56 4 2
पुदुच्चेरी 30 20 9 1 0
कुल 4796 2824 1877 53 42
Source(स्रोत):

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "भारतीय संविधान का अनुच्छेद 58". hindi.lawrato.com. अभिगमन तिथि 2022-05-05.
  2. "अनुच्छेद-55 | भारत का संविधान". Times Darpan (अंग्रेज़ी में). 2022-02-14. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  3. "Droupadi Murmu: पति की मौत और 2 बेटों को भी खोया, टीचर बनीं, फिर सिंचाई विभाग में क्लर्क की नौकरी की". आज तक. 2022-06-21. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  4. "जीतीं तो देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचने वाली पहली आदिवासी होंगी द्रौपदी मुर्मू". आज तक. 2022-06-21. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  5. "Presidential Election: द्रौपदी मुर्मू का नामांकन, PM मोदी बने प्रस्तावक, NDA के दिग्गज रहे मौजूद". आज तक. 2022-06-24. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  6. Live, A. B. P. (2022-06-22). "द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में नवीन पटनायक ने कहा- ओडिशा की बेटी को पार्टी लाइन से हटकर करें वोट". www.abplive.com. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  7. "राष्ट्रपति चुनाव को लेकर मायावती का ऐलान- NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को बसपा देगी समर्थन". News18 हिंदी. 2022-06-25. अभिगमन तिथि 2022-06-25.
  8. "Yashwant Sinha, a profile:Finance Minister, भारत सरकार". मूल से 27 सितंबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2007-09-30.
  9. "Yashwant Sinha gets finance, Advani home (Indian Express)". अभिगमन तिथि 2007-09-30.[मृत कड़ियाँ]
  10. "Indian government reshuffled". बीबीसी न्यूज़. 2002-07-01. मूल से 11 दिसंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2007-09-30.
  11. "Presidential elections on July 18, counting, if needed, on July 21: Election Commission". 9 June 2022. मूल से 9 June 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 June 2022.