भारतीय जन संचार संस्थान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत के जाने माने, सुप्रसिद्ध संस्थावो मैं एक।

भारतीय जन संचार संस्थान (Indian Institute of Mass Communication) भारत का प्रमुख मीडिया स्कूल है, जिसे भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा संचालित किया जाता है। यह एक स्वायत्तशासी संस्थान है। भारत में जन संचार के प्रशिक्षण, अध्ययन और अनुसंधान के लिए यह एक अग्रणी संंस्थान है। इसकी स्थापना 17 अगस्त 1965 को यूनेस्को की सहायता से हुई थी। इसका उद्घाटन तत्कालीन सूचना और प्रसारण मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने किया था।

संस्थान[संपादित करें]

संस्थान का मुख्यालय नई दिल्ली में है और इसके पांच क्षेत्रीय कार्यालय आईजोल (मिजोरम), अमरावती (महाराष्ट्र), ढेकनाल (ओडिसा, कोट्टायम (केरल और जम्मू व कश्मीर में हैं। यह संस्थान अनुभवी एवं स्थायी संकाय सदस्यों और बेहतर आधारभूत सुविधाओं के कारण अग्रणी मीडिया स्कूल है। इस संस्थान में संकाय और छात्र का अनुपात 1:8 है, जो किसी भी मीडिया स्कूल से बेहतर है। इस संस्थान में प्रवेश के लिए सबसे अधिक आवेदन प्राप्त होते हैं और प्रत्येक 100 आवेदन में से बमुश्किल 2-3 आवेदकों को ही प्रवेश मिल पाता है। प्रवेश लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के आधार पर लिया जाता है। संस्थान के संकाय सदस्यों में के.एम.श्रीवास्तव, जयश्री जेठवानी, एस.आर.चारी, विजय परमार, गीता बामजई, शिवाजी सरकार, हेमंत जोशी, आनंद प्रधान सहित कई प्रतिष्ठित नाम शामिल हैं। श्री अजय मित्तल, भा.प्र.से.संस्थान के अध्यक्ष और श्री के.जी। सुरेश इसके प्रबंंध निदेशक हैं।

पाठ्यक्रम[संपादित करें]

भारतीय जन संचार संस्थान में प्रिंट मीडिया, फोटो पत्रकारिता, रेडियो पत्रकारिता, टेलीविजन पत्रकारिता, संचार अनुसंधान, विज्ञापन और जन संपर्क सहित तमाम मीडिया विषयों पर प्रशिक्षण दिया जाता है। संस्थान द्वारा एकवर्षीय स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम चलाये जाते हैं, जिनमें हिंदी, अंग्रेजी तथा ओडिया भाषा में पत्रकारिता के साथ-साथ विज्ञापन व जन संपर्क, रेडियों व टीवी पत्रकारिता एवं फोटो पत्रकारिता के पाठ्यक्रम शामिल हैं। भारतीय सूचना सेवा के अधिकारियों को यहॉ प्रशिक्षण दिया जाता है। साथ ही गुट-निरपेक्ष और अन्य विकासशील देशों के लिए विकास पत्रकारिता के पाठयक्रम संचालित किए जाते हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]