भागीरथ मांझी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भागीरथ मांझी झारखण्ड क्षेत्र में आंदलनों के प्रणेता तिलका मांझी के पुत्र थे। तिलका मांझी को मांझी विद्रोह के बाद फांसी दे दी गई थी जिसके बाद भागीरथ मांझी ने इसका नेतृत्व किया।[1] उन्होंने खेरवार आंदोलन में भी नेतृत्व किया।[2]. भगीरथ मांझी का जन्म गोड्डा के तलड़िहा में खरवार जनजाति में हुवा था ,इसे बाबाजी के नाम से जाना जाता था ,इन्होंने1874 में खरवार आंदोलन को प्रारंभ किया था

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "HISTORY OF JHARKHAND" [झारखण्ड का इतिहास] (अंग्रेज़ी में). झारखण्ड सरकार. अभिगमन तिथि ८ दिसम्बर २०१३.
  2. एस॰ पी॰ सिन्हा. (अंग्रेज़ी में). पृ॰ २०२. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788170224938 http://books.google.co.in/books?id=SsZUsqlIFDEC&pg=PA202. नामालूम प्राचल |titile= की उपेक्षा की गयी (मदद); गायब अथवा खाली |title= (मदद)