भद्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दू धर्म में भद्रा शिकार की देवी है।

भद्रा[संपादित करें]

भद्रा सूर्य देवता की पुत्री थी। वह बहुत सुन्दर थी। धनवनता के देवता के कुबेर ने उससे विवाह किया। भगवान वरुण भी भद्रा से बहुत आकृष्ट थे। उन्होने उतथ्य के आश्रम से भद्रा का हरण कर लिया। नारद उसे लेने आये किन्तु वरुण ने भद्रा को वापस नहीं किया। उतथ्य बहुत क्रोधित हुए और पूरा समुन्द्र पी गये। लेकिन तब भी वरुण उसे वापस नहीं किये। उतथ्य की इच्छा से वरुण की झील सूख गया और समुन्द्र बह गया। देश के सूख जाने के बाद वरुण ने उतथ्य के सामने खुद को पेश किया और भद्रा को वापस लाया। कुबेर अपनी पत्नी को वापस पाकर खुश हुआ और दुनिया और वरुण दोनों को उनके कष्टों से मुक्त कर दिया।

सन्दर्भ[संपादित करें]