भद्रवर्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
१८वीं शताब्दी में कोरिया में भद्रवर्गीय विद्वानों का एक सम्मेलन

भद्रवर्ग (gentry) किसी पारम्परिक समाज में कुलीनवर्ग के नीचे का वह सामाजिक वर्ग होता है जिसके सदस्य अच्छे परिवारों में जन्में व अच्छे संस्कारों से युक्त माने जाते हैं। पारम्परिक समाजों में, जब अधिकांश लोग अनपढ़ थे, वे अक्सर शिक्षित भी हुआ करते थे और शिष्ट माने जाते थे।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]