भगवान सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भगवान सिंह
Bhagwansingh1.jpg
भगवान सिंह
जन्म१ जुलाई १९३१
गोरखपुर, उत्तर प्रदेश, भारत
व्यवसायआलोचक, लेखक, इतिहासकार, भाषावैज्ञानिक
राष्ट्रीयताभारतीय
विधाउपन्यास, शोधपरक रचनाएँ, आलोचना
विषयइतिहास,भाषाविज्ञान,भारतीय संस्कृति,वैदिक साहित्य
उल्लेखनीय कार्यअपने अपने राम, हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य, उन्माद, The Vedic Harappans


भगवान सिंह (जन्म: १ जुलाई, १९३१) हिन्दी के प्रतिष्ठित साहित्यकार हैं[1][2]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

भगवान सिंह का जन्म, 1 जुलाई 1931 गोरखपुर जनपद के एक मध्यवित्त किसान परिवार में। गोरखपुर विश्व विद्यालय से एम. ए. (हिंदी) । आरंभिक लेखन सर्जनात्मक कविता, कहानी, उपन्यास और आलोचना।

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

उपन्यास[संपादित करें]

  • काले उजले टीले (1964)
  • महाभिषग (1973)[3][4]
  • अपने अपने राम (1992)[5]
  • परम गति (1999)
  • उन्माद (2000)[6]
  • शुभ्रा (मूल रचना सुरेंद्र शर्मा ) (2000)[7]

कविता संग्रह[संपादित करें]

  • अपने समानान्तर (1970)

शोधपरक रचनाएँ[संपादित करें]

  • स्थान नामों का भाषावैज्ञानिक अध्ययन (अंशत: प्रकाशित, नागरी प्रचारिणी पत्रिका, 1973)
  • आर्य-द्रविड़ भाषाओं की मूलभूत एकता (1973)
  • हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य, दो खंडों में (1987)[8]
  • दि वेदिक हड़प्पन्स (1995)[9]
  • भारत तब से अब तक (1996)
  • भारतीय सभ्यता की निर्मिति (2004)
  • भारतीय परंपरा की खोज (2011)[10]
  • प्राचीन भारत के इतिहासकार (2011)[11]
  • कोसंबी : मिथक और यथार्थ (2011)[12][13][14][15]
  • आर्य द्रविड़ भाषाओँ का अंत समबन्ध (2013)[16]
  • इतिहास का वर्तमान (2016)[17]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "भगवान सिंह". वाणी प्रकाशन.
  2. "भगवान सिंह". किताबघर प्रकाशन.
  3. "महाभिषग". भारतीय साहित्य संग्रह - pustak.org.
  4. "महाभिषग - गौतम बुद्ध के जीवन पर आधारित उपन्यास". Exotic India.
  5. "अपने अपने राम". वाणी प्रकाशन.
  6. "उन्माद". Exotic India.
  7. "शुभ्रा". Google Books.
  8. "हड़प्पा सभ्यता और वैदिक साहित्य". राजकमल प्रकाशन समूह.
  9. "The Vedic Harappans". Exotoc India.
  10. "भारतीय परंपरा की खोज". सस्ता साहित्य मण्डल प्रकाशन.
  11. "प्राचीन भारत के इतिहासकार". Exotic India.
  12. "कोसंबी कल्पना से यथार्थ तक". राजकमल प्रकाशन.
  13. कमलेश. "एक इतिहासकार की भ्रांत स्थापनाएं". जनसत्ता.
  14. कुमार, कुलदीप. "डी डी कोसांबी पर भगवा हमला".
  15. कमलेश. "भारतीय इतिहास का साम्राज्यवादी दमन". जनसत्ता.
  16. "आर्य द्रविड़ भाषाओँ का अंत समबन्ध". Exotic India.
  17. अवस्थी, अवनिजेश. "आईने में मार्क्सवाद". जनसत्ता.