भगत सधना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
भगत सधना
Mosque of Bhagat Sadhna at Sirhind.jpg
सरहिंद स्थित भगत सधना की मस्जिद
जन्म 1180
हैदराबाद सिंध प्रान्त में सेहवन शरीफ़[1][2][3]
मृत्यु सरहिंद, पंजाब, भारत
व्यवसाय कसाई
प्रसिद्धि कारण गुरु ग्रंथ साहिब का 1 पद्य।
मुस्लिम विचार से गुरमत विचार स्वीकार किया।

सिख धर्म
पर एक श्रेणी का भाग

Om
सिख सतगुरु एवं भक्त
सतगुरु नानक देव · सतगुरु अंगद देव
सतगुरु अमर दास  · सतगुरु राम दास ·
सतगुरु अर्जन देव  ·सतगुरु हरि गोबिंद  ·
सतगुरु हरि राय  · सतगुरु हरि कृष्ण
सतगुरु तेग बहादुर  · सतगुरु गोबिंद सिंह
भक्त कबीर जी  · शेख फरीद
भक्त नामदेव
धर्म ग्रंथ
आदि ग्रंथ साहिब · दसम ग्रंथ
सम्बन्धित विषय
गुरमत ·विकार ·गुरू
गुरद्वारा · चंडी ·अमृत
नितनेम · शब्दकोष
लंगर · खंडे बाटे की पाहुल


भगत सधना, जिन्हें सधना क़साई भी कहा जाता है, वो उत्तर भारतीय[1][2][3] कवि, संत, सूफ़ी और भक्तों में से एक जिनकी रचना गुरु ग्रन्थ साहिब में शामिल किये गये हैं। वो पंजाब क्षेत्र में मुख्यतः सिख और रविदासिया लोगों में पूज्य माने जाते हैं।[4] इन धर्मों के प्रचारक उनके भक्ति भजनों को उद्धृत करते हैं। उनका एक भजन राग बिलावल में आदि ग्रन्थ साहिब में उपस्थित है।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Page 235, Selections from the Sacred Writings of the Sikhs- By K. Singh, Trilochan Singh
  2. Fareedkoti Teeka, Pundit Tara Singh Narotam
  3. Mahankosh, Kahn Singh Nabha
  4. Ravidasia Website
  5. Page 858, Adi Granth

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]