बॉयोमीट्रिक अंक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एक व्यक्ति की पहचान करने के लिए, एक सुरक्षा प्रणाली एक डाटाबेस के साथ व्यक्तिगत विशेषताओं की तुलना करने के लिए है। बॉयोमीट्रिक्स जीवित प्राणियों के भौतिक गुणों को मापने का विज्ञान है और इंजीनियर के लिए यह उनके व्यवहार और जैविक विशेषताओं के आधार पर व्यक्तियों के स्वचालित मान्यता है। एक मान्यता जांच में एक व्यक्ति की उपयुक्त व्यवहार और जैविक विशेषताओं को मापने और बायोमेट्रिक संदर्भ डेटा है, जो एक सीखने की प्रक्रिया के दौरान संग्रहीत किया गया था के साथ इन आंकड़ों की तुलना करके, एक विशिष्ट उपयोगकर्ता की पहचान चुना गया है।

बुनियादी दृष्टिकोण[संपादित करें]

बॉयोमीट्रिक्स तकनीक व्यक्ति की पहचान करने की लिए है। एक व्यक्ति के सफल पहचान एक डेटाबेस है कि कई लोगों की छवियों को शामिल करने के लिए अलग-अलग की एक तस्वीर की तुलना की आवश्यकता है। एक बॉयोमीट्रिक प्रणाली स्वतः छवियों या लोगों के वीडियो को पहचानती है। यह दो मोड में काम कर सकते हैं:

  1. सत्यापन या व्यक्तियों के प्रमाणीकरण : एक व्यक्ति की वर्तमान तस्वीर के साथ व्यक्ति का एक संग्रहीत तस्वीर की पहचान की जा तुलना में है। प्रणाली की पुष्टि करता है या व्यक्ति की पहचान से इनकार करते हैं।
  2. आईडी या व्यक्ति मान्यता: एक अजनबी की तस्वीर डेटाबेस में ज्ञात व्यक्तियों की तस्वीरों के साथ तुलना की जाती है पहचान निर्धारित करने के लिए।

प्रक्रिया[संपादित करें]

बॉयोमीट्रिक्स की काम करने की प्रकिया ३ भागो मे होती है:

  • रिकॉर्ड करने के लिए स्कैनर या रिकॉर्डर होता है।
  • बायोमेट्रिक प्रणाली मे सॉफ्टवेयर होता है जो डाटा को डिजिटल रूप मे बदल देता है।
  • प्रणाली मे डाटा पहले से जमा होता है जो विश्लेषण के लिए होता है।

जब रिकॉर्डर से तस्वीर प्रणाली मे आजाती है तब प्रकिया ४ भागो मै होती है:

  • तस्वीर प्रणाली मै जमा करना।
  • जिनती तस्वीर चाहए उतना ही हिस्सा लेना।
  • जो तस्वीर पहले से डाटा मे है उससे मिलना।
  • तस्वीर को अनुकूल करना।

बायोमेट्रिक विशेषताए[संपादित करें]

जाने-माने बायोमेट्रिक विशेषताए है:

  • अंगुली की छाप
  • हस्ताक्षर
  • चेहरे की पहचान
  • आइरिस पैटर्न
  • रेटिना पैटर्न
  • हाथ की नस संरचना
  • आवाज की पहचान


सन्दर्भ[संपादित करें]