बेकल उत्साही

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बेकल उत्साही
Bekal Utsahi 2013.jpg
२०१३ में बेकल उत्साही
जन्म शफ़ी खाँ लोदी
१९२८
बलरामपुर, उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु ३ दिसंबर २०१६ (उमिर ८८)[1]
नई दिल्ली , भारत
मृत्यु का कारण बीमारी /बुढ़ापा
आवास नई दिल्ली, बलरामपुर
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय कवि, लेखक, नेता
माता-पिता ज़फ़र खाँ लोदी, बिस्मिल्ला बेगम
वेबसाइट
http://bekalutsahi.webs.com

बेकल उत्साही (१९२८ – ३ दिसंबर २०१६) का वास्तविक नाम शफ़ी खाँ लोदी था।[2] वे एक कवि, लेखक और राजीनीतिज्ञ थे। उत्साही हिंदी-उर्दू और अवधी भाषा से जुड़े थे।[3] इन्ही भाषाओं करके उन्होंने कविताएँ और गीत लिखे हैं।[4]

इसके अलावा, उत्साही काँग्रेस पार्टी से जुड़े थे। वे राज्य सभा के सदस्य भी रहे। उत्साही को पद्मश्री और यश भारती सम्मान भी प्राप्त हुए।

जीवन[संपादित करें]

बेकल उत्साही का वास्तविक नाम शफ़ी खाँ लोदी था। इनके पिता का नाम ज़फ़र खां लोदी और माँ का नाम बिस्मिल्ला था। इनका जनम सन् १९२८ में बलरामपुर जिला में हुआ। सुरुआती पढ़ाई अपने गाँव की जबकि हाईस्कूल के पढ़ाई बलरामपुर के ऍस॰सी॰ कॉलेज से की।[2]

१९५२ के चुनाव प्रचार में जवाहरलाल नेहरू गोंडा के दौरा पर आए थे। इसी समय इनकी कविता "किसान भारत का" सुनकर इनके उत्साह की प्रशंसा की, जिसके बाद बेकल ने "उत्साही" को अपने हिस्सा बनाया।[2]

राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

उत्साही कांग्रेस से जुड़े रहे और इंदिरा गाँधी के करीबी बने। राष्ट्रीय अखंडता के खातिर काम करने के कारण इनको राज्य सभा के लिए नामांकित किया गया।[5] वे राष्ट्रीय एकता परिषद के सदस्य भी रहे, जिसके अध्यक्ष प्रधानमंत्री होते हैं।[6]

रचनाएँ[संपादित करें]

बेकल उत्साही को हिंदी और उर्दू के बीच की दूरी कम करनेवाला साहित्यकार मानल जाता है।[7] इनकी कुछ प्रमुख रचनाओं के नाम नीचे दिए गए हैं:

  • नगमा-ओ-तरन्नुम (१९५८)
  • बिगुलविजय
  • लहके बगिया महके खेत
  • सरवरे जाविदाँ (१९६०)
  • अपनी धरती चाँद का दर्पन
  • पुरवाईयाँ (१९७६)
  • कोमल मुखड़े बेकल गीत
  • शुआमजी (१९८४)
  • चल गोरी दोहापुरम्

अनुवाद[संपादित करें]

  • नेपाल के शाह महेंद्र के गीत संग्रह बसई को लोग का अनुवाद
  • फिलिस्तीनी कवि महमूद दरवेश की रचना का अनुवाद

सम्मान[संपादित करें]

१९७६ में उत्साही को पद्मश्री सम्मान मिला। इसके अलावा इनको उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यश भारती से सम्मानित किया गया।[8]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.amarujala.com/lucknow/bekal-utsahi-died-after-brain-haemorrhage
  2. Awadhi Granthawali-4. Vani Prakashan. 2011. पपृ॰ 393–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-8143-904-8.
  3. Hamare lok Priya Geetkar Bekal Utsahi. Vani Prakashan. पपृ॰ 8–.
  4. Cala gorī dohāpuram. Vāṇī Prakāśana. 2009. पपृ॰ 5–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5000-006-9.
  5. List of Former Members of Rajya Sabha (Term Wise). Rajya Sabha Secretariat.
  6. Re-constitution of the National Integration Council. Government of India, Ministry of Home Affairs (5 April 2010) . Retrieved on 3 December 2016.
  7. Bṛhad Urdū sāhitya kośa. Vāṇī Prakāsana. 2002. पपृ॰ 347–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7055-985-6.
  8. Akhilesh honours 56 achievers with Yash Bharti. Times of India (10 February 2015). Retrieved on 2016-12-03.