बीफ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
एक कच्चा रिब रोस्ट
वाग्यू मवेशी मुख्य रूप से बीफ के लिए पाले जाने वाली नस्ल का एक उदाहरण हैं

बीफ मवेशियों के मांस का पाक नाम है।

प्रागैतिहासिक काल में मनुष्यों ने औरोक्स का शिकार किया और बाद में उन्हें पालतू बनाया। उस समय से मवेशियों की कई नस्लों को विशेष रूप से उनके मांस की गुणवत्ता या मात्रा के लिए पाला गया है। आज सूअर के मांस और कुक्कुट के बाद बीफ दुनिया में तीसरा सबसे अधिक खाया जाने वाला मांस है। 2018 तक संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील और चीन बीफ के सबसे बड़े उत्पादक थे। परंतु वास्तव में हिंदू धर्म में गौमास खाना पाप है, क्योंकि मार कर खाने वालों से बचा कर पूजा जाने वाले हिंदू ज्यादा महान है

[1]

अवैध बूचड़खाने[संपादित करें]

भारत में सिर्फ 4,000 पंजीकृत बूचड़खाने हैं, और 25,000 से अधिक अपंजीकृत परिसर हैं जो अवैध रूप से संचालित होते हैं।[2] 2019 में, सांसद मेनका गांधी ने एक अवैध भैंस बूचड़खाने का दौरा किया और लिखा: “मैंने प्रवेश किया, और हमने खुद को खून से लथपथ पाया, हजारों ताजी कटी हुई हड्डियाँ और मक्खियाँ। वह जगह नर्क के सबसे बुरे हिस्से की तरह थी जिसकी कोई कल्पना भी कर सकता है। फैक्ट्री कोई गुप्त ऑपरेशन नहीं था। यह एक बड़ी अच्छी तरह से निर्मित संरचना थी और अगर पुलिस भुगतान प्रणाली का हिस्सा नहीं होती तो इसे संचालित नहीं किया जा सकता था। स्थानीय पुलिस आयुक्त को इसका हिस्सा पाया गया।[3]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "बीफ हिंदी में" (अंग्रेज़ी में). 2022-04-02. अभिगमन तिथि 2022-04-22.[मृत कड़ियाँ]
  2. "FoodSmart". foodsmart.fssai.gov.in. मूल से 20 जनवरी 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2022-04-22.
  3. Desk, N. T. "Behind the meat processing factories scam | The Navhind Times" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-04-22.