बीटाट्रॉन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह इलेक्ट्रॉनों की अति उच्च ऊर्जाओं तक त्वरित करने का एक यंत्र है। यह विद्युत चुम्बकीय प्रेरण के सिद्धांत पर कार्य करता है। इसको सर्वप्रथम D.W.Kerst ने सन 1941 में बनाया था। इसमें तथा साइक्लोट्रोन में यह अन्तर है कि साइक्लोट्रोन में घूम रहे कणों की कक्षाओं की त्रिज्या निरन्तर बढ़ती रहती है जबकि बीटाट्रॉन एक स्थायी कक्षा में रखे जाते हैं।