बिनोद बिहारी महतो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
बिनोद बिहारी महतो

जन्म २३ सितम्बर १९२३
बलियापुर झारखंड, भारत
मृत्यु 18 दिसम्बर 1991(1991-12-18) (उम्र 68)
दिल्ली, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल झारखंड मुक्ति मोर्चा
जीवन संगी फुलमनी देवी


बिनोद बिहारी महतो (23 सितंबर 1923 - 18 दिसंबर 1991) एक वकीलऔर राजनीतिज्ञ थे। वह 1972 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के संस्थापक थे। वह 1980, 1985, 1990 में बिहार विधानसभा के तीन बार सदस्य और 1991 में गिरिडीह से लोकसभा के सदस्य थे ।[1][2][3]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

बिनोद बिहारी महतो का जन्म 23 सितंबर 1923 को धनबाद जिला के बालीपुर प्रखंड के बडवाहा गाँव में हुआ था। उनके पिता का नाम महेंद्र महतो और माता मंदाकिनी देवी था। उनका जन्म कुड़मी महतो के परिवार में हुआ था। उनके पिता किसान थे। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा बालीपुर से की। उन्होंने अपना मिडिल और हाई स्कूल झरिया डीएवी और धनबाद हाई इंग्लिश स्कूल से पूरा किया।[4]

कैरियर[संपादित करें]

परिवार की आर्थिक समस्याओं के कारण उन्होंने धनबाद न्यायालय में दैनिक श्रम के रूप में लेखन कार्य किया। वह एक शिक्षक के रूप में भी काम करते थे। इसके बाद उन्हें धनबाद में क्लर्क की नौकरी मिल जाती है। एक घटना में, एक वकील ने उनसे कहा कि आप कितने चतुर बन जाउगे लेकिन फिर भी आप एक क्लर्क बने रहोगे। उस घटना के बाद उन्होंने वकील बनने का फैसला किया। फिर उन्होंने पी के रे मेमोरियल कॉलेज से इंटर किया। उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई रांची कॉलेज और लॉ कॉलेज पटना से लॉ की। उन्होंने 1956 में धनबाद में वकील का पेशा शुरू किया। उन्होंने बोकारो स्टील प्लांट, भारत कोकिंग कोल लिमिटेड, सेंट्रल कोलफील्ड्स , पंचेट डैम , मैथन डैम आदि के कारण विस्थापित हुए लोगों के लिए कई मामले लड़े।

उन्होंने झरिया से 1952 के चुनाव में भाग लिया, लेकिन जीत नहीं पाए। 1967में, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी विभाजित हो गई। वह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के सदस्य थे। 1971 में, उन्होंने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादि) के टिकट पर धनबाद लोकसभा चुनाव में भाग लिया और दूसरा स्थान प्राप्त किया। वे धनबाद नगरपालिका में चुनाव जीते। वे 1980 से 1985 तक टुंडी से राज्यसभा के सदस्य थे। फिर वह 1990 में सिंदरी और टुंडी से राजसभा सदस्य बने। इसके बाद वह 1991में गिरिडीह से लोक सभा के सदस्य बने।[5]

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

उन्होंने फुलमनी देवी ' से शादी की। उनके पांच बेटे राज किशोर महतो , नील कमल महतो , चंद्र शेखर महतो , प्रदीप सुमेर महतो , अशोक कुमार महतो और दो बेटियां चंद्रवती देवी , तारावती देवी थीं।

संस्कृति और खेल[संपादित करें]

बिनोद बिहारी महतो झारखंड की संस्कृति के प्रेमी थे। उन्हें हमेशा झारखंड के लोक गीतों, त्योहारों और संस्कृति को बढ़ावा देने का प्रयास किया गया। वह झारखंड के लोक नृत्यों को बढ़ावा देने के लिए प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा था। वह गोहल पूजा, टुसू पर्व, जितिया , करम परब , सोहराई और मनासा पूजा जैसे त्योहारों में भाग ले रहे थे। उन्होंने झारखंड की भाषाओं विशेषकर कुड़मालि भाषा , कुड़मी की भाषा को बढ़ावा देने के लिए काम किया था। उन्होंने कुड़मालि को बढ़ावा देने के लिए बुद्धिजीवियों, विद्वानों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने "कुड़माली साहित्य और व्याकरण" के लेखक लक्ष्मीकांत महतो को प्रोत्साहित किया। खोरठा भाषा के लेखक और कवि श्रीनिवास पुनेरी उनके मित्र थे। इस प्रयास के कारण, रांची विश्वविद्यालय में कुड़मालि भाषा का अध्ययन शुरू हुआ।

उनका पसंदीदा खेल फुटबॉल था। वह फुटबाल खेल रहा था। वह फुटबाल मैच भी आयोजित कर रहे थे और फुटबाल और जुर्सी दान कर युवाओं को प्रोत्साहित कर रहे थे। उन्हें झारखंड तीरंदाजी के पारंपरिक खेल में भी रुचि थी। वह तीरंदाजी प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा था।

शिक्षा[संपादित करें]

बिनोद बिहारी महतो ने हमेशा शिक्षा के प्रसार की कोशिश की। उन्होंने पढ़ो और लाड़ो का नारा दिया था। उन्होंने कई स्कूलों और कॉलेजों की स्थापना के लिए धन दान किया था।

शिवाजी समाज[संपादित करें]

बिनोद बिहारी महतो ने 1956 में वकील का पेशा शुरू किया। कुड़मी महतो पृष्ठभूमि के कारण, उन्होंने इस पेशे में कई कुड़मीयों से मुलाकात की। कुड़मी मुख्य रूप से किसान थे। वे सरल थे और आसानी से दूसरों से प्रभावित होते थे। समाज में शिक्षा का अभाव था। कुड़मी की अपनी रस्में और संस्कृति थी। परंपरागत रूप से कुडुमी अपने अनुष्ठान स्वयं कर रहे थे। उन दिनों ब्राह्मण बिचारघारा कुड़मी संस्कृति में प्रवेश कर रहा था। कुछ लोग कुडुमी को जनेऊ देकर खत्रीय बनाने की कोशिश कर रहे थे और कुछ कुड़मी को ब्राह्मण से द्विक्क्षा प्राप्त करने का सुझाव दे रहे थे। कुछ कुड़मी को वैश्य के रूप में वर्गीकृत करने के लिए कह रहे थे। कई कुड़मी प्रथा शुरू कर रहे थे जैसे तिलक और दहेज जो कुड़मी संस्कृति नहीं थे। शराबखोरी बढ़ रही थी। कुड़मिओ कि समयस्या हल करने के लिए बिनोद बिहारी महतो ने 1970 ई में शिवाजी समाज नामक संगठन किया। और कुडुमी को धन-उधारदाताओं से बचाने और सामाजिक बुराई से लड़ने के लिए दहेज प्रथा कम उम्र मे शादी करना एक बीबी से दूसरी बीबी के साथ शादी का कड़ी विरोध किया । समाज की समस्याओं को हल करने और अपराधी को दंडित करने के लिए कई बैठकें की गईं। शिवाजी समाज ने कई रैलियों का आयोजन किया। इसने पिछड़ी जाति के लिए रैली और श्री कर्पूरी ठाकुर की पिछड़ी जाति के लिए रैली का आयोजन किया था।

शिवाजी समाज  के  प्रभाव  से शिबू सोरेन ने 1970 ई में   सोनोट संथाल समाज  का गठन किया। फिर शिवजी समाज के प्रभाव में मंडल और तेली समाज का गठन हुआ।

कई ने शिवाजी समाज को आतंकवादी संगठन कहा। इसके नेताओं के खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए थे। यह कुडुमी की भाषा, त्योहार और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए काम करता है। संगठन शिवाजी समाज का नाम देने का कारण यह था कि बिनोद बिहारी महतो छत्रपति शिवाजी के प्रशंसक थे। शिवाजी ने औरंगजेब के अत्याचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। इस प्रकार बिनोद बिहारी एक समाज सुधारक थे।

समय के साथ-साथ शिवाजी समाज झारखंड आंदोलन की रीढ़ बन गया। फिर शिवाजी समाज और सोनोट संताल समाज के विलय हुआ और झारखंड मुक्ति मोर्चा का गठन किया गया।

झारखंड मुक्ति मोर्चा[संपादित करें]

बिनोद बिहारी महतो 25 साल तक कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य थे। उन्का अविश्वास अखिल भारतीय दलों से टूट चुका था। उन्होंने सोचा था कि कांग्रेस और जनसंघ सामंतवाद , पूंजीवादी लिए हैं। दलित और पिछड़ी जाति के लिए नहीं हैं। इसलिए इन दलों के सदस्य के रूप में दलित और पिछड़ी जाति के लिए लड़ना मुश्किल होगा। झारखंड मुक्ति मोर्चा गठन का 1972 ई को बिनोद बिहारी महतो ने किया झारखंड मुक्ति मोर्चा के संथापक अध्यक्ष बिनोद बिहारी महतो और 1973 ई को सचिव शिबू सोरेन को बनाया उसके बाद बेनर तले झारखंड अलग राज्य के लिए महाआंदोलन का आगाज हुआ 🏹

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Saffron Munda loves everything green - BJP cries neglect as chief minister warms up to old JMM associates". telegraphindia.com. मूल से 3 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 फ़रवरी 2019.
  2. "झारखंड आंदोलन के जनक बिनोद बिहारी को पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि के लिए जुटे लोग". livehindustan.com.
  3. "बिनोद बिहारी महतो ने दिया "पढ़ो और लड़ो" का मूलमंत्र". akhandbharatnews.com. मूल से 21 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 फ़रवरी 2019.
  4. झारखण्‍ड आंदोलन के मसीहा बिनोद बिहारी मेहतो : Jharkhand Andolan Ke Masiha Binod Bihari Mahato. books.google.co.in.
  5. Jharkhand Andolan Ke Masiha : Binod Bihari Mahato. books.google.co.in.