बालिका वधू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(बालिका वधु (कलर्स) से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बालिका वधू
अन्य नाम बालिका वधू - कच्ची उम्र के पक्के रिश्ते
शैली नाट्य
सर्जक पूर्णेदु शेखर
लेखक पूर्णेदु शेखर
निर्देशक सिद्धार्थ सेनगुप्ता
प्रदीप यादव
सितारे तोरल रसपुत्र
ग्रेसी गोस्वामी
शशांक व्यास
आसिया काज़ी
निर्माण का देश भारत
भाषा(एं) हिन्दी
सत्र संख्या 02
प्रकरणों की संख्या 2145
निर्माण
कार्यकारी निर्माता ज़ाकिर शेख
सचिन छावन
फुजेल खान
निर्माता सूजोय वाधवा
कोमल सूजोय वाधवा
संपादक संतोष सिंह
जनक चौहान
स्थल जैतसर व उदयपुर
छायांकन संजय मेमने
अनिल कटके
कैमरा सेटअप बहूकैमरा
प्रसारण अवधि 20 मिनट
निर्माण कंपनी स्फेयर
प्रसारण
मूल चैनल कलर्स
छवि प्रारूप 576आई (एसडीटीवी)
1080आई (एचडीटीवी)
मूल प्रसारण 21 जुलाई 2008 (2008-07-21) – 31 जुलाई 2016 (2016-07-31)
बाह्य सूत्र
आधिकारिक जालस्थल

बालिका वधू भारतीय हिन्दी धारावाहिक है, इसका प्रसारण कलर्स पर 21 जुलाई 2008 से हो रहा है। इसके निर्माता सूजोय वाधवा और कोमल सूजोय वाधवा हैं। इसमें तोरल रसपुत्र, ग्रेसी गोस्वामी, शशांक व्यास और आसिया काज़ी मुख्य किरदार में हैं।

कहानी[संपादित करें]

यह कहानी आनंदी और जगदीश से शुरू होती है, जिनका बचपन में ही शादी करा दिया जाता है। जब वह दोनों बड़े हो जाते हैं तो जगदीश गौरी से प्यार करने लगता है और आनंदी को तलाक टेकर गौरी से शादी कर लेता है। इसके बाद आनंदी की मुलाक़ात जिलाध्यक्ष शिवराज शेखर से होती है। बाद में वह दोनों शादी कर लेते हैं।

जगदीश को अपने गलती का एहसास होता है और वह घर लौट आता है। तब उसे पता चलता है की आनंदी की शादी हो चुकी है। उसके बाद वह एक गंगा नाम की लड़की से मिलता है। वह भी बाल विवाह की शिकार हुए रहती है। वह उसे बचाता है और उसके बाद उन दोनों शादी कर लेते हैं। इसके बाद वह उसके बच्चे मन्नू को भी अपना लेता है। उसके बाद वह एक और बेटे अभिमन्यु का बाप बन जाता है। वहीं आनंदी और शिवराज एक बच्चे को गोद लेते हैं और उसे उसके वास्तविक परिवार की तरह देखते हैं। आनंदी और शिवराज के शादी के दो वर्ष के पश्चात ही आतंकवादी शिवराज को मार देते हैं। उसी दौरान आनंदी दो बच्चों को जन्म देती है - शिवम और नंदिनी। इसके बाद गंगा पढ़ाई पूरी कर के एक चिकित्सक बन जाती है। इसी दौरान आनंदी की बेटी नंदिनी को कोई अपहरण कर लेता है। वह बाद में उस अपहरणकर्ता के बेटे के साथ शादी कर लेती है। आनंदी अपनी बेटी को नहीं खोज पाती है। 11 वर्ष पश्चात आनंदी एक कराते शिक्षिका बन जाती है।

कलाकार[संपादित करें]

  • तोरल रसपुत्र
  • ग्रेसी गोस्वामी
  • शशांक व्यास
  • आसिया काज़ी

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]