बर्फ स्तूप

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बर्फ स्तूप परियोजना
The Ice Stupa project
वाणिज्यिक? नहीं
प्रकार जल संरक्षण
अवस्थिति लद्दाख, भारत
स्वामित्व स्टूडेंट्स एजुकेशनल एंड कल्चरल मूवमेंट ऑफ लद्दाख (SECMOL)
संस्थापक सोनम वांगचुक
देश भारत
प्रमुख लोग सोनम वांगचुक
स्थापित अक्टूबर 2013; 6 वर्ष पहले (2013-10)
बजट सहयोग वित्त
वर्तमान स्थिति परिचालित
वेबसाइट icestupa.org

बर्फ स्तूप, ग्लेशियर ग्राफ्टिंग तकनीक का एक रूप है जिसके द्वारा कृत्रिम हिमनदों (ग्लेशियरों) का निर्माण किया जाता है। शंकु आकार के इन बर्फ के ढेरों को सर्दियों में पानी (जो अन्यथा व्यर्थ हो जाता) को संग्रहीत करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। गर्मियों के दौरान, जब पानी कम होता है, तो बर्फ स्तूपों से पिघली बर्फ फसलों के लिए पानी की आपूर्ति करती है। क्योंकि इनका आकार बौद्ध स्तूपों के समान होता है इसीलिए इन्हें बर्फ स्तूप कहा जाता है। भारत के क्षेत्र लद्दाख में सोनम वांगचुक द्वारा बर्फ स्तूप का अविष्कार किया गया और इस परियोजना को 'स्टूडेंट्स एजुकेशनल एंड कल्चरल मूवमेंट ऑफ लद्दाख ' द्वारा संचालित किया जाता है। यह परियोजना अक्टूबर 2013 में शुरू की गई और जनवरी 2014 में द आईस स्तूपा प्रोजेक्ट के अंतर्गत एक परीक्षण परियोजना की शुरूवात हुई। 15 नवंबर 2016 को, सोनम वांगचुक को बर्फ स्तूप पर उनके काम के लिए रोलेक्स पुरस्कार फॉर एंटरप्राइज़ से सम्मानित किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]