बन्ध (योग)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हठयोग के सन्दर्भ में बन्ध अभिप्राय है - बन्धन, एक साथ मिलाना या पकड़। यह एक प्रकार की शारीरिक स्थिति है जिसमें शरीर के कुछ अवयव या अंगों को सिकोड़ा अथवा नियंत्रित किया जाता है। शरीर में प्राण के संचार हेतु ऊर्जा के अपव्यय को रोकने में बन्ध का उपयोग किया जाता है तथा अन्यत्र हानि पहुंचाए बिना ऊर्जा को यथास्थान ले जाने में बन्ध का उपयोग सावधानीपूर्वक किया जाना आवश्यक भी है। प्रमुख बन्ध ये हैं-

  • मूल बन्ध
  • उड्डियान बन्ध
  • जालन्धर बन्ध
  • महा बन्ध