बटला हाउस एनकाउंटर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बाटला हाउस एनकाउंटर
स्थान L-18 बाटला हाउस, जामिया नगर, डेल्ही
उद्देश्य
दिनांक 19 सितम्बर 2008
निष्पादनकर्ता दिल्ली पुलिस
जनहानि 3 (2 आतंकवादी, 1 पुलिस इंस्पेक्टर) मृत
2 घायल

बटला हाउस एनकाउंटर जिसे आधिकारिक तौर पर ऑपरेशन बाटला हाउस के रूप में जाना जाता है।[1] सितंबर 19, 2008 को दिल्ली के जामिया नगर इलाके में इंडियन मुजाहिदीन के संदिग्ध आतंकवादियों के खिलाफ की गयी मुठभेड़ थी, जिसमें दो संदिग्ध आतंकवादी आतिफ अमीन और मोहम्मद साजिद मारे गए, दो अन्य संदिग्ध सैफ मोहम्मद और आरिज़ खान भागने में कामयाब हो गए, जबकि एक और आरोपी ज़ीशान को गिरफ्तार कर लिया गया। इस मुठभेड़ का नेतृत्व कर रहे एनकाउंटर विशेषज्ञ और दिल्ली पुलिस निरीक्षक मोहन चंद शर्मा इस घटना में शहीद हो गए। मुठभेड़ के दौरान स्थानीय लोगों की गिरफ्तारी हुई, जिसके खिलाफ अनेक राजनीतिक दलों, कार्यकर्ताओं[2] और विशेष रूप से जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के शिक्षकों और छात्रों ने व्यापक रूप से विरोध प्रदर्शन किया। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) जैसे कई राजनीतिक संगठनों ने संसद में मुठभेड़ की न्यायिक जांच करने की मांग उठाई, जैसे-जैसे समाचार पत्रों में मुठभेड़ के "नए संस्करण" प्रदर्शित होने लगे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "What happened at Batla House, the subject of a new film?".
  2. "Batla House Encounter: Unanswered Questions". Outlook. 23 जुलाई 2009.