बंदूक की नाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

बंदूक बैरल एक ट्यूब है जो की आमतौर पर धातु से बनी होती है, जिसके माध्यम से एक दमक या गैसों का तेजी से विस्तार के क्रम में एक उच्च वेग में प्रोजेकटाईल फैंका जाता है। बैरल आग्नेयास्त्रों और तोपखाने टुकड़े का हिस्सा हैं। पहले आग्नेयास्त्रों उस समय में बने थे जब धातु विज्ञान काफी उन्नत नहीं था और जब तोप के विस्फोटक बलों को झेलने के लिए नलियाँ सक्षम नही होती थी, इसलिए पाइप की सहायता से कुछ हद्द तक लम्बी बैरल का निर्माण किया गया। एक बंदूक बैरल विस्तार गैस प्रणोदक द्वारा उत्पादित में आयोजित करने में सक्षम होनी चाहिए और यह भी सुनिश्चित होना चाहिए कि प्रोजेकटाईल थूथन वेग फेंकने के द्वारा उपलब्ध हो जाता है। आधुनिक छोटे हथियारों बैरल में जाना जाता है और इसमें शामिल दबावों का सामना करने के लिए परीक्षण सामग्री के बने होते हैं। तोपखाने टुकड़े मज़बूती से पर्याप्त शक्ति प्रदान करने के लिए विभिन्न तकनीकों द्वारा बनाए जाते है। प्रारंभिक आग्नेयास्त्रों थूथन लोडिंग होते थे जिनमे पाउडर और मुज्ज्ले से निकले शॉट केवल गोली चलने के दर को कम करने के लिए सक्षम हुआ करते थे। ब्रीच लोडिंग गोली चलने की एक उच्च दर प्रदान करने में सहायक होते है। [1] [2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. A History of Warfare - Keegan, John, Vintage 1993
  2. "The History of Weapons". google.com