बंगाली थियेटर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बांग्ला रंगमंच मुख्य रूप से बंगाली भाषा में थिएटर को कहते हैं। बंगाली थिएटर मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल, और बांग्लादेश में चलता है। शब्द कुछ हिंदी थियेटरों का उल्लेख करने के लिए भी हो सकता है जो बंगाली लोगों को स्वीकार हों।

बांग्ला रंगमंच का मूल ब्रिटिश भारत है। यह 19 वीं सदी के आरंभ में निजी मनोरंजन के रूप में शुरू हुआ।[1] आजादी के पूर्व बंगाली थिएटर ने ब्रिटिश राज के प्रति नापसंदगी प्रकट करने में एक निर्णायक भूमिका निभाई। 1947 में भारत की आजादी के बाद, वामपंथी आंदोलनों ने पश्चिम बंगाल में सामाजिक जागरूकता के एक उपकरण के  रूप में थिएटर को इस्तेमाल किया। इस ने कला के इस रूप में कुछ अनूठी विशेषताओं को जोड़ा जिस का अभी भी मजबूत प्रभाव पड़ता है। यह समूह खुद को वाणिज्यिक बंगाली रंगमंच से वैचारिक रूप से अलग स्थापत करते हैं। [प्रशस्ति पत्र की जरूरत]

प्रकार[संपादित करें]

तोहार गाँव भी एक दिन नाटक का सरीजनसेना समूह द्वारा मंचन

उल्लेखनीय लोग: भारत[संपादित करें]

उल्लेखनीय लोग: बांग्लादेश[संपादित करें]

  • मुनीर चौधरी
  • सलीम अल दीन
  • अब्दुल्ला अल मामुन
  • नुरुल मोमन
  • असादुज़मान नूर
  • ममुनुर राशिद
  • अली जाकर

उल्लेखनीय रंगमंच समूह: भारत[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Kundu, Pranay K. Development of Stage and Theatre Music in Bengal.