फ्लैश शमन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

फ्लैश शमन एक डिवाइस है जो फ्लैश गार्ड,फ्लैश एलिमिनेटर, फ्लैश हाईडर, या फ़्लैश कोन के रूप में भी जाना जाता है। यह बंदूक की नली पर लगा होता है और इससे जलती हुई गैसों का बहर निकलना कम होता है। इसका प्राथमिक उद्देश्य यह होता है कि अँधेरे में गोली चलाने से शूटर कम रोशनी के कारण अंधा न हो जाए। एक फ्लैश शमन एक थूथन ब्रेक से अलग होता है हालांकि वे आम तौर पर एक ही स्थिति में मुहिम शुरू कर रहे हैं और कभी कभी एक दूसरे के साथ उलझते है। पूर्व दिखाई फ्लैश कम करने का इरादा है, जबकि एक थूथन ब्रेक दिखाई फ्लैश को कम नहीं करता हटना बड़े कारतूस के लिए निहित कम करने के लिए बनाया गया है और आम तौर पर किया जाता है। फ्लैश दमन समाप्त करने, तेजी से फ्लैश गैसों ठंडा करके बैरल के अंत को छोड़ता है। हालांकि जलती प्रणोदक की कुल राशि में कोई बदलाव नहीं होता परन्तु घनत्व और तापमान बहुत ज्यादा मात्र में कम हो जाती है जैसे की फ़्लैश की चमक। विभिन्न प्रकार के फ़्लैश डिजाइन पिछले कुछ वर्षों से अधिक संख्या में इस्तेमाल किए जाते है। उनमे से सबसे सरल वह फ्लैश शमन है जिसकी बैरल की अंत पर कोण इस्तेमाल किया जाता है। अधिक आधुनिक समाधान में स्लीट्स या छेद करके उसमें कटौती के साथ एक "टोकरी" का उपयोग भी करते हैं। फ्लैश दमन और थूथन ब्रेक कानूनी रूप से प्राप्त किया जा सकता है और हथियारों के सभी प्रकार पर इस्तेमाल किया,जब तक वे करने के लिए तैयार कर रहे हैं काफी या मुख्य रूप से ध्वनि को कम। [1] [2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Army Field Manual FM 3-22
  2. DiMaio, Vincent J.M. (2002). Gunshot Wounds: Practical Aspects of Firearms, Ballistics, and Forensic Techniques, SECOND EDITION. Taylor & Francis. p. 79. ISBN 978-0-8493-8163-8.