फुमी-ए

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यीशु का चित्र, कैथोलिकों और उनके हमदर्दों का सच प्रकट करने के लिए
वर्जिन मैरी की तस्वीर

एक फुमी-ए (踏み絵 फुमी "पैर रखना" + ए "तस्वीर"?) यीशु या मैरी की एक कृति थी, जिस पर जापान के तोकुगावा शोगुनराज के धार्मिक अधिकारी संदेहास्पद ईसाइयों ( किरीशितान ) को कदम रखने को कहते थे, ताकि प्रदर्शित किया जा सके कि वे गैर-कानूनी धर्म के सदस्य नहीं थे। [1]

इतिहास[संपादित करें]

1629 में नागासाकी में ईसाइयों के उत्पीड़न के साथ फुमी-ए का प्रयोग शुरू हुआ। 13 अप्रैल 1856 को बंदरगाहों को विदेशियों के लिए खोले जाने पर उनका उपयोग आधिकारिक तौर पर छोड़ दिया गया था, लेकिन कुछ तब तक उपयोग में रहे जब तक कि मीजी अवधि के दौरान ईसाई शिक्षण को औपचारिक संरक्षण में नहीं रखा गया। वस्तुओं को ए-इटा या इटा-ए के रूप में भी जाना जाता था, [2] जबरन परीक्षण को ए-फुमी कहा जाता था। [2]

जापानी सरकार ईसाई और ईसाई धर्म के प्रति सहानुभूति रखने वालों का खुलासा करने के लिए फुमी-ए का इस्तेमाल करती थी। [3] फुमी-ए वर्जिन मैरी और जीसस की तस्वीरें थीं। सरकारी अधिकारी ने इन तस्वीरों पर संदिग्ध ईसाइयों को पैर रखने को कहते। चित्रों पर कदम रखने से अनिच्छुक लोगों की पहचान ईसाई के रूप में की जाती और उन्हें नागासाकी भेज दिया जाता। एदो सरकार की नीति उन्हें उनके विश्वास से मोड़ने की थी; हालाँकि, यदि ईसाइयों ने अपना धर्म बदलने से इनकार कर दिया, तो उन्हें प्रताड़ित किया जाता था। उनमें से कई ने तब भी धर्म को छोड़ने से इनकार कर दिया था, तों उन्हें सरकार द्वारा मार दिया गया था। कभी-कभी नागासाकी के माउंट अनजेन में फांसी दी जाती थी, जहां कुछ को गर्म झरनों में उबाला जाता था। [4]

1805 में तोकुगावा शोगुनराज द्वारा ईसाई धर्म के लिए निष्पादन को अनौपचारिक रूप से छोड़ दिया गया था।

अठारहवीं शताब्दी के यूरोप में उपन्यास के लेखकों के लिए ए-फुमी के बारे में पर्याप्त जानकारी थी, जैसा की वे जापान की ओर इशारा करते हुए इसका उल्लेख करते थे, जैसा कि जोनाथन स्विफ्ट की गुलिवर्स ट्रेवल्स (1726), [5] ओलिवर गोल्डस्मिथ की द सिटीजन ऑफ द वर्ल्ड (1760) में है।, और वोल्टेयर का कैंडाइड (1759)। [6] आधुनिक जापानी साहित्य में, फूमी-ए पर चलना शोसाकू एंडो के उपन्यास साइलेंस [7] [8] का एक महत्वपूर्ण कथानक तत्व है।

कई धर्मशास्त्रियों ने जापानी ईसाइयों के लिए फूमी-ए की भूमिका पर विचार करने की कोशिश की है, कुछ ने फूमी-ए के प्रसार को यीशु मसीह के प्रेम और क्षमा के संकेत के रूप में देखा है।[9]

गुप्त रूप से ईसाई धर्म का पालन करने वाले कई लोगों ने फूमी-ए किया और फिर गुप्त रूप से अपने विश्वासों को बनाए रखा (काकुरे किरीशितान); जब ईसाई धर्म को फिर से वैध कर दिया गया था, तब जापान में 20,000 गुप्त ईसाई थे , जो की फुमी-ए से पहले ईसाई धर्म के प्रचलन के दौरान नागासाकी में करीब 500,000 थे। ऑकलैंड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मार्क मुलिंस ने निष्कर्ष निकाला कि "उस अर्थ में, [फुमी-ए] नीतियां प्रभावी थीं।" [10] नागासाकी जुनशिन कैथोलिक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर साइमन हिल ने कहा कि यदि सभी फुमी-ए प्रतिभागियों ने इसके बजाय उद्दंड होना चुना होता और मर गए होते, तो जापान में ईसाई धर्म जारी नहीं रह पता; उन्होंने कहा "यह केवल इसलिए है क्योंकि कुछ लोगों ने फुमी-ए पर चलने का एक अस्तित्वगत निर्णय लिया, जापान में ईसाई धर्म जीवित रहने में सक्षम था।" [10]

प्रपत्र[संपादित करें]

फुमी-ए आमतौर पर कांस्य से बनाई जाती थी, लेकिन अन्य पत्थर से बने होते थे और कुछ लकड़ी के ब्लॉक प्रिंट होते थे। आज के समय अपेक्षाकृत कम फुमी-ए बचे हैं, [6] क्योंकि अधिकांश को या तो बस फेंक दिया गया या अन्य उपयोगों के लिए पुनर्नवीनीकरण किया गया। कुछ उदाहरण स्मिथसोनियन द्वारा अपनी 2007 की प्रदर्शनी "एनकॉम्पासिंग द ग्लोब: पुर्तगाल एंड द वर्ल्ड इन द 16थ एंड 17थ सेंचुरीज़" में प्रदर्शित किए गए थे। [11] [12]

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Shunkichi Akimoto (1961). Exploring the Japanese Ways of Life. Tokyo News Service. पृ॰ 233. अभिगमन तिथि 21 November 2011. Attached to this word is an exotic, foreignized sort of interest though it was a native invention of the early Yedo Period and had remained a curious symbol of the anti-Christian policy of the Tokugawa feudalism.
  2. Kaufmann, Thomas DaCosta (2004). Toward a Geography of Art. University of Chicago Press. पृ॰ 308. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780226133119.
  3. Bradley K. Martin (19 December 1980). "Japanese Christian Group Keeps Relics of Old Faith in the Closet". Los Angeles Times. पृ॰ C1. A government inquisition office devised a test called fumi-e...
  4. David E. Sanger (7 June 1991). "Volcano's Fury Turns a Shrine Into a Morgue". The New York Times. अभिगमन तिथि 6 December 2015.
  5. Jonathan Swift (1726). "Part III. A Voyage to Laputa, Balnibarbi, Luggnagg, Glubbdubdrib, and Japan. Chapter 11". Gulliver's Travels. To this I added another petition, that for the sake of my patron the king of Luggnagg, his majesty would condescend to excuse my performing the ceremony imposed on my countrymen, of trampling upon the crucifix: because I had been thrown into his kingdom by my misfortunes, without any intention of trading. When this latter petition was interpreted to the Emperor, he seemed a little surprised; and said, he ... suspected I must be a Christian... सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Swift1726" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  6. Michael North (2010). Michael North (संपा॰). Artistic and Cultural Exchanges Between Europe and Asia, 1400–1900: Rethinking Markets, Workshops and Collections. Ashgate Publishing. पृ॰ 141. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780754669371. अभिगमन तिथि 21 November 2011. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Artistic and Cultural Exchanges" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  7. William T. Cavanaugh (1998). "The god of silence: Shusaku Endo's reading of the Passion". Commonweal. अभिगमन तिथि 25 November 2011.[मृत कड़ियाँ]
  8. Jeff Keuss (March 2007). "The Lenten Face of Christ in Shusaku Endo's Silence and Life of Jesus". Expository Times. 118 (6): 273–279. डीओआइ:10.1177/0014524606076087. अभिगमन तिथि 25 November 2011.
  9. e.g. Masao Takenaka: When the Bamboo Bends, Christ and Culture in Japan, WCC 2002 pgs 50-51
  10. Tan, Yvette (24 November 2019). "The Japanese Christians forced to trample on Christ". BBC. अभिगमन तिथि 24 November 2019.
  11. Jenkins, Mark (20 July 2007). "Portugal's Unending Sphere of Influence". The Washington Post. अभिगमन तिथि 21 November 2011.
  12. Michael Fragoso (11 July 2007). "Fair Trade with 17th-Century Portugal". The American. मूल से 3 October 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 November 2011.